मरयम की कहानी संक्षेप में

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:
A- A A+

विवरण: हमारी माँ मरियम और यीशु के चमत्कारी जन्म की एक संक्षिप्त कहानी।

  • द्वारा Marwa El-Naggar (Reading Islam)
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 3,036 (दैनिक औसत: 3)
  • रेटिंग: अभी तक नहीं
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0
खराब श्रेष्ठ

इस्लाम में, यीशु को ईश्वर द्वारा मानवजाति के लिए भेजे गए पांच महान पैगंबरो में से एक माना जाता है। ईसा के बारे में मुसलमानों का ज्ञान इस्लामी ज्ञान के दो मुख्य स्रोतों पर आधारित है: क़ुरआन और हदीस (पैगंबर की बातें)। क़ुरआन में, यीशु को ईसा इब्न मरियम या मरियम के पुत्र यीशु के रूप में जाना जाता है। क़ुरआन में अध्याय 3 और 19 में मरियम और यीशु की कहानी का सबसे अच्छा वर्णन किया गया है।

मरयम: एक असामयिक कन्‍यावस्‍था

कहानी मरियम के साथ शुरू होती है, जिसे ईश्वर ने अपनी सुरक्षा के साथ एक बच्चे का आशीर्वाद दिया था। मरियम का जन्म अल- इमरान, या इमरान के परिवार के पवित्र घराने में हुआ था। कई लोगों ने बच्चे की देखभाल करने के सम्मान के लिए तर्क दिया, लेकिन एक बुजुर्ग और निःसंतान व्यक्ति ज़करिय्या को जिम्मेदारी दी गई, जिसने तुरंत देखा कि युवा लड़की विशेष थी। एक दिन, ज़करिय्या ने देखा कि लड़की के पास कुछ ऐसे भोजन हैं जिसके बारे में उसे पता नहीं है। उसने उससे पूछा कि यह भोजन कहां से आया है और उसने उत्तर दिया,

"ये ईश्वर के पास से आया है। वास्तव में, ईश्वर जिसे चाहता है, अगणित जीविका प्रदान करता है।” (क़ुरआन 3:37)

इस सरल उत्तर का वृद्ध व्यक्ति पर गहरा प्रभाव पड़ा। लंबे समय से एक पुत्र की कामना करने के बाद, भक्त ज़करिय्या ने ईश्वर से संतान के लिए प्रार्थना की। जैसा कि नीचे दिए गए छंदों में क़ुरआन बताता है, उनकी प्रार्थनाओं का लगभग तुरंत उत्तर दिया गया, हालांकि उनकी पत्नी बांझ थी और बच्चे पैदा करने की उम्र से अधिक थी:

"तब ज़करिय्या ने अपने पालनहार से प्रार्थना कीः हे मेरे पालनहार! मुझे अपनी ओर से सदाचारी संतान प्रदान कर। निःसंदेह तू प्रार्थना सुनने वाला है। तो स्वर्गदूतों ने उसे पुकारा- जब वह मेह़राब में खड़ा प्रार्थना कर रहा था- कि ईश्वर तुझे 'यह़्या' की शुभ सूचना दे रहा है, जो ईश्वर के शब्द की पुष्टि करने वाला, प्रमुख तथा संयमी और सदाचारियों में से एक पैगंबर होगा।" (क़ुरआन 3:38-39)

ज़करिय्या ने जो मरियम की विशिष्टता देखी थी, वो मरयम को स्वर्गदूतों ने बताया था:

"और (याद करो) जब स्वर्गदूतों ने मरयम से कहाः हे मरयम! तुझे ईश्वर ने चुन लिया तथा पवित्रता प्रदान की और संसार की स्त्रियों पर तुझे चुन लिया। हे मरयम! अपने पालनहार की आज्ञाकारी रहो, सज्दा करो तथा रुकूअ करने वालों के साथ रुकूअ करती रहो।" (क़ुरआन 3:42-43)

यहीं पर क़ुरआन में वर्णित मरियम के पालन-पोषण और लड़कपन की कहानी समाप्त होती है।

यीशु का चमत्कार

अध्याय 19 "मरियम" में, हमें इस विशेष महिला की कहानी के बारे में अधिक पता चलता है, जिसे क़ुरआन ने ही सबसे अच्छी तरह से बताया है।

"तथा आप, इस पुस्तक (क़ुरआन) में मरयम की चर्चा करें, जब वह अपने परिजनों से अलग होकर एक पूर्वी स्थान की ओर आयीं। फिर उनकी ओर से पर्दा कर लिया, तो हमने उसकी ओर अपनी रूह़ (आत्मा) को भेजा, तो उसने उसके लिए एक पूरे मनुष्य का रूप धारण कर लिया। उसने कहाः मैं शरण माँगती हूँ अत्यंत कृपाशील की तुझ से, यदि तुझे ईश्वर का कुछ भी भय हो। उसने कहाः मैं तेरे पालनहार का भेजा हुआ हूँ, ताकि तुझे एक पुनीत बालक प्रदान कर दूँ। वह बोलीः ये कैसे हो सकता है कि मेरे बालक हों, जबकि किसी पुरुष ने मुझे स्पर्श भी नहीं किया है और न मैं व्यभिचारिणी हूँ? स्वर्गदूत ने कहाः ऐसा ही होगा, तेरे पालनहार का वचन है कि वह मेरे लिए अति सरल है और ताकि हम उसे लोगों के लिए एक निशानी बनायें तथा अपनी विशेष दया से और ये एक निश्चित बात है। फिर वह गर्भवती हो गई तथा उस (गर्भ को लेकर) दूर स्थान पर चली गयी।। (क़ुरआन 19:16–22)

क़ुरआन में घटनाओं के विवरण से, हम यह अनुमान लगा सकते हैं कि मरियम ने अपनी अधिकांश गर्भावस्था अकेले बिताई। इस दौरान उसके साथ क्या हुआ, इसका जिक्र क़ुरआन में नहीं है। क़ुरआन उस समय की कहानी बताता है जब मरियम प्रसव में होती है।

“फिर प्रसव पीड़ा उसे एक खजूर के तने तक लायी, कहने लगीः क्या ही अच्छा होता, मैं इससे पहले ही मर जाती और भूली-बिसरी हो जाती। तो उसके नीचे से पुकारा कि उदासीन न हो, तेरे पालनहार ने तेरे नीचे एक स्रोत बहा दिया है।" (क़ुरआन 19:23-24)

ईश्वर समाज की प्रतिक्रिया जानता था इसलिए उसने मरयम आगे निर्देशित किया कि स्थिति से कैसे निपटना है:

“और हिला दे अपनी ओर खजूर के तने को, तुझपर गिरायेगा वह ताज़ी पकी खजूरें। (क़ुरआन 19:25)

जब वह बालक यीशु को अपके लोगोंके पास ले गई, तब उन्होंने उस से पूछा; और उसकी गोद में बच्चे के रूप में, यीशु ने उन्हें उत्तर दिया। क़ुरआन इस दृश्य का विस्तार से वर्णन करता है:

"अतः, खा, पी तथा आंख ठण्डी कर। फिर यदि किसी पुरुष को देखे, तो कह देः वास्तव में, मैं ने मनौती मान रखी है, अत्यंत कृपाशील के लिए व्रत की। अतः, मैं आज किसी मनुष्य से बात नहीं करूँगी। फिर उस (शिशु ईसा) को लेकर अपनी जाति में आयी, सबने कहाः हे मरयम! तूने बहुत बुरा किया। हे हारून की बहन! तेरा पिता कोई बुरा व्यक्ति न था और न तेरी माँ व्यभिचारिणी थी। मरयम ने उस (शिशु) की ओर संकेत किया। लोगों ने कहाः हम कैसे उससे बात करें, जो गोद में पड़ा हुआ एक शिशु है? वह (शिशु) बोल पड़ाः मैं अल्लाह का भक्त हूँ। उसने मुझे पुस्तक (इन्जील) प्रदान की है तथा मुझे नबी बनाया है। तथा मुझे शुभ बनाया है, जहाँ रहूँ और मुझे आदेश दिया है नमाज़ तथा ज़कात का, जब तक जीवित रहूँ। तथा आपनी माँ का सेवक (बनाया है) और उसने मुझे क्रूर तथा अभागा नहीं बनाया है। तथा शान्ति है मुझपर, जिस दिन मैंने जन्म लिया, जिस दिन मरूँगा और जिस दिन पुनः जीवित किया जाऊँगा।" (क़ुरआन 19:26-33)

और इसलिए शिशु यीशु ने व्यभिचार के किसी भी आरोप से अपनी मां का बचाव किया, और संक्षेप में समझाया कि वह कौन है और उसे ईश्वर ने क्यों भेजा है।

यहां मरियम की कहानी और ईश्वर के सबसे महान पैगंबरों में से एक, यीशु के चमत्कारी जन्म की कहानी समाप्त होती है।

"ये है ईसा मरयम का पुत्र, यही सत्य बात है, जिसके विषय में लोग संदेह कर रहे हैं।" (क़ुरआन 19:34)

खराब श्रेष्ठ

टिप्पणी करें

  • (जनता को नहीं दिखाया गया)

  • आपकी टिप्पणी की समीक्षा की जाएगी और 24 घंटे के अंदर इसे प्रकाशित किया जाना चाहिए।

    तारांकित (*) स्थान भरना आवश्यक है।

इसी श्रेणी के अन्य लेख

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सूची सामग्री

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास

आपकी इतिहास सूची खाली है।