इस्लाम में मरियम (3 का भाग 2)

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:
A- A A+

विवरण: मरयम की इस्लामी अवधारणा पर चर्चा करने वाले तीन लेख में से दूसरा लेख: भाग 2: उसकी घोषणा।

  • द्वारा M. Abdulsalam (© 2006 IslamReligion.com)
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 4,436 (दैनिक औसत: 5)
  • रेटिंग: अभी तक नहीं
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0
खराब श्रेष्ठ

उनकी घोषणा

ईश्वर हमें उस उदाहरण के बारे में बताता है जब स्वर्गदूतों ने मरियम को एक बच्चे की और पृथ्वी पर उसके दर्जे और कुछ चमत्कार जो वह करेगा, उसकी खुशखबरी दी:

"जब स्वर्गदूतो ने कहाः हे मरयम! ईश्वर तुझे अपने एक शब्द की शुभ सूचना दे रहा है, जिसका नाम मसीह़ ईसा पुत्र मरयम होगा। वह लोक-प्रलोक में प्रमुख तथा (मेरे) समीपवर्तियों में होगा। वह लोगों से गोद में तथा अधेड़ आयु में बातें करेगा और सदाचारियों में होगा। मरयम ने (आश्चर्य से) कहाः मेरे पालनहार! मुझे पुत्र कहाँ से होगा, मुझे तो किसी पुरुष ने हाथ भी नहीं लगाया है? उसने कहाः इसी प्रकार ईश्वर जो चाहता है, उत्पन्न कर देता है। जब वह किसी काम के करने का निर्णय कर लेता है, तो उसके लिए कहता है किः "हो जा", तो वह हो जाता है। और ईश्वर उसे पुस्तक तथा प्रबोध और तौरात तथा इंजील की शिक्षा देगा।” (क़ुरआन 3:45-48)

यह बाइबिल में उल्लिखित शब्दों की तरह लगता है:

"डरो मत, मरियम, क्योंकि तुम पर ईश्वर का अनुग्रह है और देख, तू गर्भवती होगी, और तेरा एक पुत्र होगा, और उसे यीशु नाम से बुलाया जाएगा।”

चकित होकर उसने उत्तर दिया:

"यह कैसे हो सकता है, क्योंकि मैं तो किसी आदमी को नहीं जानती?" (लूका 1:26-38)

यह उदाहरण उसके लिए एक बड़ी परीक्षा थी, क्योंकि उसकी महान धर्मपरायणता और भक्ति सभी को ज्ञात थी। वह जानती थी कि लोग उस पर बदचलन होने का आरोप लगाएंगे।

क़ुरआन के अन्य छंदों में, ईश्वर, जिब्रईल द्वारा घोषणा के अधिक विवरण बताता है कि वह एक पैगंबर को जन्म देगी।

"फिर उनकी ओर से पर्दा कर लिया, तो हमने उसकी ओर अपनी रूह़ (आत्मा) को भेजा, तो उसने उसके लिए एक पूरे मनुष्य का रूप धारण कर लिया। उसने कहाः मैं शरण माँगती हूँ अत्यंत कृपाशील की तुझ से, यदि तुझे ईश्वर का कुछ भी भय हो। उसने कहाः मैं तेरे पालनहार का भेजा हुआ हूँ, ताकि तुझे एक पुनीत बालक प्रदान कर दूँ।" (क़ुरआन 19:17-19)

एक बार, जब मरयम अपनी जरूरतों के लिए मस्जिद से निकली, तो स्वर्गदूत जिब्रईल एक आदमी के रूप में उसके पास आया। वह आदमी की निकटता के कारण भयभीत थी, और उसने ईश्वर से शरण मांगी। जिब्रईल ने तब उससे कहा कि वह कोई साधारण व्यक्ति नहीं है, बल्कि वह एक स्वर्गदूत है जिसे ईश्वर ने उसे यह बताने के लिए भेजा है कि वह एक शुद्ध बच्चे को जन्म देगी। वह आश्चर्य से बोली

"वह बोलीः ये कैसे हो सकता है कि मेरे बालक हों, जबकि किसी पुरुष ने मुझे स्पर्श भी नहीं किया है और न मैं व्यभिचारिणी हूँ?" (क़ुरआन 19:20)

स्वर्गदूत ने समझाया कि यह एक ईश्वरीय आदेश है, जिसे पहले ही दिया जा चुका है, और यह वास्तव में सर्वशक्तिमान ईश्वर के लिए बहुत आसान है। ईश्वर ने कहा कि यीशु (ईश्वर की दया और आशीर्वाद उन पर हो) का जन्म, ईश्वर की सर्वशक्तिमानता का प्रतीक होगा, और जैसे उसने बिना पिता या माता के आदम को बनाया, उसने बिना पिता के यीशु को बनाया।

"स्वर्गदूत ने कहाः ऐसा ही होगा, तेरे पालनहार का वचन है कि वह मेरे लिए अति सरल है और ताकि हम उसे लोगों के लिए एक निशानी बनायें तथा अपनी विशेष दया से और ये एक निश्चित बात है।” (क़ुरआन 19:21)

ईश्वर ने यीशु की आत्मा को स्वर्गदूत जिब्रईल के माध्यम से मरियम में फूंक दिया, और यीशु मरियम के गर्भ में आ गए, जैसा कि ईश्वर एक अलग अध्याय में कहता है:

"तथा इमरान की पुत्री मरयम, जिसने रक्षा की अपने सतीत्व की, तो फूँक दी हमने उसमें अपनी ओर से रूह़ (आत्मा)।" (क़ुरआन 66:12)

जब गर्भावस्था के लक्षण स्पष्ट हो गए, तो मरयम और भी चिंतित हो गई कि लोग उसके बारे में क्या कहेंगे। उसकी खबर दूर-दूर तक फैल गई और, जैसा कि अपरिहार्य था, कुछ ने उस पर बदचलन होने का आरोप लगाना शुरू कर दिया। ईसाई विश्वास के विपरीत कि यूसुफ ने मरयम का समर्थन किया था, इस्लाम इस बात को कायम रखता है कि मरयम का ना तो मंगेतर था, ना ही उसका किसी ने समर्थन किया था और ना ही उसकी शादी हुई थी, और इन कारणों की वजह से ही उसे इतनी पीड़ा झेलनी पड़ी। वह जानती थी कि लोग उसकी गर्भावस्था की स्थिति का एकमात्र तार्किक निष्कर्ष निकालेंगे, कि किसी ने उससे विवाह करके उसे छोड़ दिया है। मरयम ने खुद को लोगों से अलग कर लिया और एक अलग देश में चली गई। ईश्वर कहता है:

"फिर वह गर्भवती हो गई तथा उस गर्भ को लेकर दूर स्थान पर चली गयी। फिर प्रसव पीड़ा उसे एक खजूर के तने तक ले आई। ” (कुरान 19:22-23)

खराब श्रेष्ठ

इस लेख के भाग

सभी भागो को एक साथ देखें

टिप्पणी करें

  • (जनता को नहीं दिखाया गया)

  • आपकी टिप्पणी की समीक्षा की जाएगी और 24 घंटे के अंदर इसे प्रकाशित किया जाना चाहिए।

    तारांकित (*) स्थान भरना आवश्यक है।

इसी श्रेणी के अन्य लेख

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सूची सामग्री

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास

आपकी इतिहास सूची खाली है।