इस्लाम क़बूल करने और मुसलमान होने का तरीक़ा

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:
A- A A+

विवरण: इस्लाम कबूल करना आसान है। यह लेख बताता है कि कैसे एक सरल तरीके से धर्मांतरण करें और मुसलमान बनें। इसके अलावा, इस्लाम 1.7 अरब लोगों के विश्वास का संक्षिप्त विवरण देता है, और धर्मांतरण के लाभों पर प्रकाश डालता है।

  • द्वारा IslamReligion.com Team
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 14
  • देखा गया: 20,572 (दैनिक औसत: 22)
  • रेटिंग: 2.4 में से 5
  • द्वारा रेटेड: 74
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 5
खराब श्रेष्ठ

चैट द्वारा लाइव सहायता

इस्लाम और मुसलमान

अरबी शब्द 'इस्लाम' का अर्थ ‘आत्मसमर्पण’ है, और यह 'शांति' शब्द से लिया गया है। इस प्रकार, इस्लाम धर्म सिखाता है कि मन की सच्ची शांति और हृदय की निश्चितता प्राप्त करने के लिए, व्यक्ति को ईश्वर के सामने आत्मसमर्पण करना चाहिए और उसे ईश्वर के बताए कानून के अनुसार जीना चाहिए।

इस्लाम कोई नया धर्म नहीं है क्योंकि 'ईश्वर की इच्छा के आगे समर्पण', यानि की इस्लाम हमेशा ईश्वर की नज़र में एकमात्र स्वीकार्य धर्म रहा है। इस कारण से, इस्लाम स्वाभाविक रूप से 'सच्चा धर्म' है, और यह वही शाश्वत संदेश है जो युगों से ईश्वर के सभी नबियों और पैगम्बरों के साथ भेजा गया। सभी नबियों का मुख्य संदेश हमेशा से यही रहा है कि एक ही सच्चा ईश्वर है और उसकी आराधना की जानी चाहिए। ये नबी आदम के साथ शुरू होते हैं और इसमें नूह, अब्राहम, मूसा, दाऊद, सुलैमान, जॉन द बैपटिस्ट और ईसा शामिल हैं, उन सभी पर शांति हो। पवित्र क़ुरआन में ईश्वर कहता है:

“और नहीं भेजा हमने आपसे पहले कोई भी रसूल, परन्तु उसकी ओर यही वह़्यी (प्रकाशना) करते रहे कि मेरे सिवा कोई पूज्य नहीं है। अतः मेरी ही इबादत (वंदना) करो।” (क़ुरआन 21:25)

https://www.islamreligion.comhttps://de44dj20p4alh.cloudfront.net/articles/How_to_Convert_to_Islam_and_Become_a_Muslim_001.jpgहालांकि, इन पैगंबरों का सच्चा संदेश या तो खो गया था या समय के साथ मिलावट कर दिया गया था। यहां तक ​​कि सबसे हाल की किताबें, तोरा और इंजील में भी मिलाव की गई थी और इसी वजह से वो लोगों को सही रास्ता दिखाने के लिए अपनी विश्वसनीयता खो बैठे थे। इसलिए ईसा के 600 साल बाद, ईश्वर ने पैगंबरों के खोए हुए संदेश को पुनर्जीवित करने के लिए मुहम्मद को अंतिम वही, पवित्र क़ुरआन के साथ सभी मानव जाति के लिए भेजा। चूंकि पैगंबर मुहम्मद अंतिम पैगंबर थे, ईश्वर ने स्वयं अपने अंतिम नाज़िल शब्दों को संरक्षित करने का वादा किया है ताकि यह अंतिम दिन तक सभी मानवता के लिए मार्गदर्शन का स्रोत हो। अब ये ज़रूरी है के हर एक ईश्वर के इस अंतिम संदेश पर विश्वास करे और उसका पालन करे। पवित्र कुरान में ईश्वर कहता है:

“और हमने तुमको समस्त मनुष्यों के लिए शुभ सूचना देने वाला और डराने वाला बनाकर भेजा है, परन्तु अधिकतर लोग नहीं जानते।” (क़ुरआन 34:28)

“और जो व्यक्ति इस्लाम के अतिरिक्त किसी अन्य दीन (धर्म) को चाहेगा तो वह उससे कदापि स्वीकार न किया जायेगा और वह परलोक में अभागों में से होगा।” (क़ुरआन 3:85)

"मुस्लिम" शब्द का अर्थ है, वह जो अपनी जाति, राष्ट्रीयता या जातीय पृष्ठभूमि की परवाह किए बिना जो ईश्वर के सामने आत्मसमर्पण करता है।इसलिए, कोई भी व्यक्ति जो ईश्वर के सामने आत्मसमर्पण करने के लिए तैयार है, वो मुसलमान बनने के योग्य है।

इस्लाम क़बूल करने के लाभ

इस्लाम क़बूल करने के कई लाभ हैं। उनमें से कुछ ये हैं:

• कोई व्यक्ति बिचौलियों की आवश्यकता के बिना, ईश्वर के साथ एक व्यक्तिगत और प्रत्यक्ष संबंध बनाता है सिर्फ उसकी आराधना करके। और इस व्यक्तिगत संबंध को महसूस करता है और जानता है कि ईश्वर सब कुछ जानता है और उसकी सहायता के लिए मौजूद है।

• एक व्यक्ति अपने जीवन के वास्तविक उद्देश्य को जान पाता है, जो कि ईश्वर को पहचानना और उसकी आज्ञाओं का पालन करना है।

• एक व्यक्ति को एक प्रकाश मिल जाता है, जो उसे जीवन भर मार्गदर्शन करता है। इस्लाम धर्म में सभी परिस्थिति का उत्तर है, और किसी व्यक्ति को जीवन के सभी पहलुओं में सही कदम उठाने के लिए ज्ञान मिल जाता है।

• व्यक्ति को सच्चा सुख, शांति और आंतरिक शांति मिलती है।

• इस्लाम क़बूल करने के बाद, उस व्यक्ति के पिछले सभी पापों को क्षमा कर दिया जाता है, और व्यक्ति पवित्रता और धार्मिकता का एक नया जीवन शुरू करता है। और एक मुसलमान के रूप में, जब कोई उसके बाद गुनाह करता है, तो वह हमेशा ईश्वर से पश्चाताप कर सकता है जो उन लोगों के पापों को क्षमा करता है जो ईमानदारी से पश्चाताप करते हैं। स्वीकारोक्ति करने के लिए कोई मध्यस्थ या व्यक्ति की आवश्यकता नहीं हैं।

नरक की आग से मुक्ति प्राप्त करता है, जिसके बारे में सभी नबियों ने चेतावनी दी है

• सबसे बड़ा लाभ यह है कि एक मुसलमान को ईश्वर के द्वारा अनन्त स्वर्ग (जन्नत) का इनाम देने का वादा किया गया है। जिन लोगों को स्वर्ग का आशीर्वाद मिलता है, वे बिना किसी बीमारी, दर्द या दुख के हमेशा के लिए आनंद में रहेंगे। ईश्वर उनसे राज़ी होगा और वे उससे राज़ी होंगे। यहां तक कि स्वर्ग में रहने वालों में सबसे निचले पद के लोग भी इस दुनिया की तुलना में दस गुना बेहतर होगें, और उनके पास सब कुछ होगा जो वे चाहेंगे। वास्तव में स्वर्ग में ऐसे सुख हैं जो कभी किसी आंख ने नहीं देखे, किसी कान ने कभी नहीं सुना, और किसी दिमाग़ ने कभी नहीं सोचा। यह एक वास्तविक जीवन होगा, न केवल आध्यात्मिक, बल्कि भौतिक भी।

इस्लाम क़बूल करने के लाभों के बारे में अधिक जानने के लिए, आप इस लेख को पढ़ सकते हैं “इस्लाम क़बूल करने के लाभ (भाग 3)”

इस्लाम कैसे क़बूल करें - आस्था (ईमान) की गवाही (शाहदत)

मुसलमान बनना एक सरल और आसान प्रक्रिया है। एक व्यक्ति को बस इतना करना होता है कि वह एक वाक्य कहे जिसे आस्था की गवाही (शहादत) कहा जाता है, जिसका उच्चारण इस प्रकार किया जाता है:

मैं गवाही देता हूं “ला इलाहा इल्ला अल्लाह, मुहम्मद रसूलु अल्लाह।”

इन अरबी शब्दों का अर्थ है, "कोई सच्चा ईश्वर नहीं है, सिवाय ईश्वर के, और मुहम्मद ईश्वर के रसूल (पैगंबर) हैं। "एक बार जब कोई व्यक्ति आस्था की गवाही (शाहदत) को समझकर दिल से कहता है, तो वह मुसलमान हो गया है

पहले भाग में, "कोई सच्चा ईश्वर नहीं है, सिवाय ईश्वर के," का अर्थ है कि केवल ईश्वर के अलावा किसी की भी पूजा करने का अधिकार नहीं है, और यह कि ईश्वर का न तो साथी है और न ही पुत्र। दूसरे भाग का अर्थ है कि मुहम्मद मानव जाति के लिए ईश्वर द्वारा भेजे गए एक सच्चे पैगंबर हैं।

मुसलमान होने के लिए इन बातों का ध्यान रखना आवश्यक है:

- विश्वास करें कि पवित्र क़ुरआन ईश्वर का शाब्दिक शब्द है, जो उनके द्वारा प्रकट (नाज़िल) किया गया है।

- विश्वास करो कि न्याय का दिन (पुनरुत्थान दिवस) सत्य है और आएगा।

- उन नबियों पर विश्वास लाएं जिन्हें ईश्वर ने भेजा था और जिन पुस्तकों को उनपर प्रकट (नाज़िल) किया था, और उनके फ़रिश्तों पर।

- इस्लाम को अपने धर्म के रूप में स्वीकार करें।

- ईश्वर के सिवा किसी और की इबादत नहीं करना है।

यह इतना आसान है! सुनने के लिए यहाँ क्लिक करें या क्लिक करें “लाइव हेल्प” पर चैट द्वारा तत्काल सहायता के लिए।

धर्म-परिवर्तन अकेले किया जा सकता है, लेकिन "लाइव हेल्प" के माध्यम से हमारे सलाहकारों में से एक की मदद से इसे करना बेहतर है, वे आपको इसका सही उच्चारण करने और आपको महत्वपूर्ण जानकारी और सलाह प्रदान करने में मदद कर सकते हैं। जो विशेष रूप से नए धर्मान्तरित लोगों के लिए तैयार किया गया है, ताकि उन्हें अपने नए आस्था के साथ शुरुआत करने में मदद मिल सके।

इसके इलावा, धर्म-परिवर्तन की प्रक्रिया में आपकी सहायता के लिए हम आपको फ़ोन पर कॉल कर सकते हैं। इस मामले में, कृपया हमें अपना फोन नंबर और हमारे हमसे संपर्क करें फ़ॉर्म के माध्यम से कॉल करने के लिए उपयुक्त समय दें

आप अकेले नही हो

यदि आपने ऊपर दिए गए चरण का पालन किया है और स्वयं इस्लाम क़बूल कर लिया है, तो निश्चिंत रहें कि आप अकेले नहीं हैं, बल्कि वही आस्था 1.7 बिलियन लोगों द्वारा साझा किया जाता है। हम ये अनुरोध करते हैं कि आप हमारे हमसे संपर्क करें फ़ॉर्म या "लाइव हेल्प" के माध्यम से सूचित करें, ताकि हम आपको एक नए मुस्लिम के रूप में आपके लिए उपयुक्त उपयोगी संसाधन और सलाह प्रदान कर सकें

हम आपको आपके फैसले पर बधाई देते हैं, इस्लाम में आपका स्वागत करते हैं, और हम आपकी हर तरह से मदद करने की पूरी कोशिश करेंगे! :)

कुछ सामान्य गलत धारणाएं

कुछ गलत धारणाओं के कारण कुछ लोग इस्लाम में अपना धर्मांतरण स्थगित कर सकते हैं, हालांकि वे इसे ईश्वर का सच्चा धर्म मानते हैं। वे सोच सकते हैं कि उनका नाम बदलना, कुछ अरबी जानना, दूसरों को उनके धर्मांतरण की सूचना देना, कुछ मुसलमानों को जानना, या कोई पाप न करना जैसी चीज़ें धर्मांतरण की शर्तें हैं – हालांकि वास्तविकता यह है कि इनमें से कोई भी धर्मांतरण में देरी के लिए वैध बाते नहीं हैं।

यदि आप इन और इसी तरह की अन्य गलत धारणाओं के बारे में अधिक जानना चाहते हैं, तो कृपया ये लेख पढ़ें, “मैं एक मुसलमान होना चाहता हूं लेकिन... इस्लाम क़बूल करने के बारे में मिथक (भाग 3)”

उन लोगों के लिए जो अभी तक आश्वस्त नहीं हैं।

इस्लाम ईश्वर का सच्चा मार्ग होने का दावा करता है। जो चीज़ एक धर्म को अन्य विचारधाराओं पर उपयुक्त बनाता है, वह इसकी सत्यता के लिए प्रमाण प्रस्तुत करता है। इसलिए, किसी को इन प्रमाणों को देखने, उन्हें तौलने और एक अच्छे से निर्णय लेने की आवश्यकता है। उसे अपने प्रयास में ईमानदार होने की जरूरत है और सबसे बढ़कर उसे सही रास्ते पर ले जाने के लिए ईश्वर की मदद मांगना चाहिए।

यदि कोई व्यक्ति अभी भी इस्लाम की सत्यता के प्रति आश्वस्त नहीं है, तो वह इस्लाम द्वारा प्रदान किए गए प्रमाणों को और देख सकता है। इस्लाम अपनी सच्चाई के भारी सबूत पेश करता है और एकमात्र ऐसा धर्म है जो पूरी तरह से बुद्धि के इस्तेमाल करने की अपील करता है।

इस्लाम के कुछ प्रमाण इस प्रकार हैं: क़ुरआन में वैज्ञानिक प्रमाण, पैगंबर मुहम्मद द्वारा किए गए चमत्कार और पिछले धर्मग्रंथों में उनके आने की भविष्यवाणियां, क़ुरआन में वर्णित भविष्यवाणियां जो बाद में पूरी हुईं, क़ुरआन की अनसुलझी चुनौती क़ुरआन इसके जैसा एक अध्याय लाने के लिए कहता है, और इस्लाम के कानूनों और शिक्षाओं में दिव्य ज्ञान जो जीवन के सभी पहलुओं को कवर करता है। इस्लाम के प्रमाणों के बारे में अधिक जानने के लिए, कृपया इस खंड के तहत लेख देखें,“इस्लाम सच है इसका सबूत”

यदि आप इस्लाम और इसकी मूलभूत मान्यताओं और प्रथाओं के बारे में अधिक जानना चाहते हैं, तो कृपया ये लेख देखें “इस्लाम क्या है? (भाग 4)”

आख़रत (परलोक का जीवन) में हमारा अनन्त जीवन इस बात पर निर्भर करता है कि हम इस क्षणिक जीवन में किस आस्था का पालन करना चाहते हैं, इसलिए आइए हम इस संघर्ष को वह प्राथमिकता दें जिसके वह हक़दार हैं।

खराब श्रेष्ठ
उपयोगकर्ता टिप्पणियां टिप्पणियां देखें

टिप्पणी करें

  • (जनता को नहीं दिखाया गया)

  • आपकी टिप्पणी की समीक्षा की जाएगी और 24 घंटे के अंदर इसे प्रकाशित किया जाना चाहिए।

    तारांकित (*) स्थान भरना आवश्यक है।

इसी श्रेणी के अन्य लेख

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सूची सामग्री

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास

आपकी इतिहास सूची खाली है।