मरियम का पुत्र यीशु (5 का भाग 4): क्या वास्तव में यीशु की मृत्यु हुई थी?

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:
A- A A+

विवरण: यह लेख यीशु और उनके सूली पर चढ़ाए जाने से संबंधित मुस्लिम विश्वास की रूपरेखा तैयार करता है। यह मानवजाति की ओर से मूल पाप का भुगतान करने के लिए 'बलिदान' की आवश्यकता की धारणा को भी खारिज करता है।

  • द्वारा Aisha Stacey (© 2008 IslamReligion.com)
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 4,122 (दैनिक औसत: 5)
  • रेटिंग: अभी तक नहीं
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0
खराब श्रेष्ठ

यीशु के सूली पर मरने की अवधारणा ईसाई विश्वास के केंद्र में है। यह इस विश्वास का प्रतिनिधित्व करता है कि यीशु मानवजाति के पापों के लिए मरे। ईसाई धर्म में यीशु का सूली पर चढ़ना एक महत्वपूर्ण सिद्धांत है; हालांकि मुसलमान इसे पूरी तरह से खारिज करते हैं। यीशु के सूली पर चढ़ाए जाने के बारे में मुसलमान क्या मानते हैं, इसका वर्णन करने से पहले, मूल पाप की धारणा पर इस्लामी प्रतिक्रिया को समझना उपयोगी हो सकता है।

जब आदम और हव्वा ने स्वर्ग में वर्जित पेड़ से फल खाया, तो उन्हें एक सांप द्वारा नहीं लुभाया गया था। यह शैतान ही था, जिसने उन्हें धोखा दिया और उन्हें फुसलाया, जिसके बाद उन्होंने अपनी स्वतंत्र इच्छा का प्रयोग किया और निर्णय में त्रुटि की। हव्वा अकेले इस गलती की जिम्मेदार नहीं है। आदम और हव्वा ने एक साथ अपनी अवज्ञा का एहसास किया, पश्चाताप महसूस किया और ईश्वर से क्षमा की भीख मांगी। ईश्वर ने अपनी असीम दया और बुद्धि से उन्हें क्षमा कर दिया। इस्लाम में मूल पाप की कोई अवधारणा नहीं है; प्रत्येक व्यक्ति अपने स्वयं के कार्यों के लिए जिम्मेदारी होता है।

"और कोई बोझ उठाने वाला दूसरे का बोझ नहीं उठाएगा"। (क़ुरआन 35:18)

मानवजाति के पापों की क्षमा के लिए ईश्वर को, ईश्वर के पुत्र को, या यहां तक ​​कि ईश्वर के पैगंबर को खुद का बलिदान करने की कोई आवश्यकता नहीं है। इस्लाम इस विचार को पूरी तरह से नकारता है। इस्लाम की नींव निश्चित रूप से यह जानने पर टिकी हुई है कि हमें केवल ईश्वर के अलावा किसी और की पूजा नहीं करनी चाहिए। क्षमा एक सच्चे ईश्वर से मिलती है; इसलिए, जब कोई व्यक्ति क्षमा मांगता है, तो उसे सच्चे पश्चाताप के साथ विनम्रतापूर्वक ईश्वर की ओर मुड़ना चाहिए और पाप को न दोहराने का वादा करते हुए क्षमा मांगनी चाहिए। तब और केवल तभी पापों को क्षमा किया जाएगा ।

इस्लाम की मूल पाप और क्षमा की समझ के प्रकाश में, हम देख सकते हैं कि इस्लाम सिखाता है कि यीशु मानवजाति के पापों का प्रायश्चित करने नहीं आये थे; बल्कि, उनका उद्देश्य उनसे पहले आये पैगंबरों के संदेश की पुष्टि करना था।

".. वास्तव में यही सत्य वर्णन है तथा ईश्वर के सिवा कोई पूज्य नहीं। ..." (क़ुरआन 3:62)

मुसलमान यीशु को सूली पर चढ़ाए जाने में विश्वास नहीं करते हैं और ना ही यह मानते हैं कि उनकी मृत्यु हुई थी।

सूली पर चढ़ाना

अधिकांश इस्राइलियों के साथ-साथ रोमन अधिकारियों ने यीशु के संदेश को अस्वीकार कर दिया था। विश्वास करने वालों ने उनके चारों ओर अनुयायियों का एक छोटा समूह बना लिया, जिन्हें शिष्यों के रूप में जाना जाता है। इस्राइलियों ने यीशु के विरुद्ध साज़िश रची और षड्यन्त्र किया और उनकी हत्या करवाने की योजना तैयार की। उन्हें सार्वजनिक रूप से मार डाला जाना था, विशेष रूप से भीषण तरीके से, रोमन साम्राज्य में प्रसिद्ध: सूली पर चढ़ा के।

सूली पर चढ़ाए जाने को मरने का एक शर्मनाक तरीका माना जाता था, और रोमन साम्राज्य के "नागरिकों" को इस सजा से छूट दी गई थी। यह ना केवल मृत्यु की पीड़ा को लम्बा करने के लिए, बल्कि शरीर को क्षत-विक्षत करने के लिए बनाया गया था। इस्राइलियों ने अपने मसीहा - ईश्वर के दूत यीशु के लिए इस अपमानजनक मौत की योजना बनाई। ईश्वर ने अपनी असीम दया से इस घिनौनी घटना के लिए किसी अन्य को यीशु के जैसा बना दिया और यीशु को शरीर और आत्मा के साथ जीवित उठा लिया। क़ुरआन इस व्यक्ति के सटीक विवरण के बारे में नहीं बताता है, लेकिन हम निश्चित रूप से जानते हैं और विश्वास करते हैं कि यह पैगंबर यीशु नहीं थे।

मुसलमानों का मानना ​​है कि क़ुरआन और पैगंबर मुहम्मद के प्रामाणिक कथनों में वे सभी ज्ञान हैं जो मानव जाति को ईश्वर की आज्ञाओं के अनुसार पूजा करने और जीने के लिए चाहिए। इसलिए, यदि छोटे विवरणों की व्याख्या नहीं की जाती है, तो इसका कारण यह है कि ईश्वर ने अपने अनंत ज्ञान में इन विवरणों को हमारे लिए कोई लाभ नहीं होने का निर्णय लिया है। क़ुरआन, ईश्वर के अपने शब्दों में, यीशु के खिलाफ साजिश और इस्राइलियों को पछाड़ने और यीशु को आकाश में उठाने की उनकी योजना की व्याख्या करता है।

“तथा उन्होंने षड्यंत्र रचा और हमने भी योजना रची तथा ईश्वर योजना रचने वालों में सबसे अच्छा है।" (क़ुरआन 3:54)

"तथा उनके गर्व से कहने के कारण कि हमने ईश्वर के दूत, मरयम के पुत्र, ईसा मसीह़ का वध कर दिया, जबकि वास्तव में उसे वध नहीं किया और न सलीब (फाँसी) दी, परन्तु उनके लिए इसे संदिग्ध कर दिया गया। निःसंदेह, जिन लोगों ने इसमें विभेद किया, वे भी शंका में पड़े हुए हैं और उन्हें इसका कोई ज्ञान नहीं, केवल अनुमान के पीछे पड़े हुए हैं और निश्चय उसे उन्होंने वध नहीं किया है। बल्कि ईश्वर ने उसे अपनी ओर आकाश में उठा लिया है तथा ईश्वर प्रभुत्वशाली तत्वज्ञ है।" (क़ुरआन 4:157-158)

यीशु नहीं मरे

इस्राइलियों और रोम के अधिकारी यीशु को हानि नहीं पहुंचा सके। ईश्वर स्पष्ट रूप से कहता है कि उसने यीशु को अपने पास बुला लिया और उसे यीशु के नाम पर दिए गए झूठे बयानों से मुक्त कर दिया।

"हे ईसा! मैं तुझे पूर्णतः लेने वाला तथा अपनी ओर उठाने वाला हूं और तुम्हें इस झूठे बयान से मुक्त कर दूंगा कि यीशु ईश्वर का पुत्र है।" (क़ुरआन 3:55)

पिछले पद में, जब ईश्वर ने कहा कि वह यीशु को "ले जाएगा", वह मुतवाफ्फीका शब्द का प्रयोग करता है। अरबी भाषा की समृद्धि की स्पष्ट समझ और कई शब्दों में अर्थ के स्तरों के ज्ञान के बिना, ईश्वर के अर्थ को गलत समझना संभव है। आज अरबी भाषा में मुतवाफ्फीका शब्द का इस्तेमाल कभी-कभी मौत या नींद के लिए भी किया जाता है। क़ुरआन की इस आयत में, हालांकि, मूल अर्थ का उपयोग किया गया है और शब्द की व्यापकता यह दर्शाती है कि ईश्वर ने यीशु को पूरी तरह से अपने पास उठाया। इस प्रकार, वह आसमान पर उठाये जाने के समय शरीर और आत्मा पर बिना किसी चोट या दोष के जीवित थे।

मुसलमानों का मानना ​​है कि यीशु मरे ही नहीं है, और वह न्याय के दिन (कयामत के दिन) से पहले अंतिम दिनों में इस दुनिया में लौट आएंगे। पैगंबर मुहम्मद ने अपने साथियों से कहा:

"आप कैसे होंगे जब मरियम के पुत्र, यीशु आपके बीच उतरेंगे और वह क़ुरआन के कानून से लोगों का न्याय करेंगे, ना कि इंजील के कानून से।" (सहीह अल बुखारी)

ईश्वर हमें क़ुरआन में याद दिलाता है कि न्याय का दिन एक ऐसा दिन है जिसे हम टाल नहीं सकते हैं और हमें सावधान करते हैं कि यीशु का आना इसकी निकटता का संकेत है।

"तथा वास्तव में, वह (ईसा) एक बड़ी निशानी है प्रलय की। अतः, कदापि संदेह न करो प्रलय के विषय में और मेरी ही बात मानो। यही सीधी राह है।" (क़ुरआन 43:61)

इसलिए, यीशु के सूली पर चढ़ने और मृत्यु के बारे में इस्लामी मान्यता स्पष्ट है। यीशु को सूली पर चढ़ाने की एक साजिश थी लेकिन वह सफल नहीं हुई; यीशु मरे नहीं, बल्कि आसमान पर उठा लिए गए। न्याय के दिन तक आने वाले अंतिम दिनों में, यीशु इस दुनिया में वापस आएंगे और अपना संदेश जारी रखेंगे।

खराब श्रेष्ठ

इस लेख के भाग

सभी भागो को एक साथ देखें

टिप्पणी करें

  • (जनता को नहीं दिखाया गया)

  • आपकी टिप्पणी की समीक्षा की जाएगी और 24 घंटे के अंदर इसे प्रकाशित किया जाना चाहिए।

    तारांकित (*) स्थान भरना आवश्यक है।

इसी श्रेणी के अन्य लेख

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सूची सामग्री

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास

आपकी इतिहास सूची खाली है।