करीम अब्दुल-जब्बार, बास्केटबॉल खिलाड़ी, संयुक्त राज्य अमेरिका

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:
A- A A+

विवरण: अपने स्लैम डंक और "स्काईहुक" के लिए प्रसिद्ध, करीम अब्दुल-जब्बार जीवन के दूसरे पक्ष, आध्यात्मिकता की खोज करते हैं और इस्लाम स्वीकार करते हैं।

  • द्वारा Anonymous
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 2,743 (दैनिक औसत: 3)
  • रेटिंग: अभी तक नहीं
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0
खराब श्रेष्ठ

Kareem_Abdul-Jabbar__Basketball_Player__USA_001.jpg कई खिलाड़ियों ने सर्वकालिक महान बास्केटबॉल खिलाड़ी माना, नेशनल बास्केटबॉल एसोसिएशन के सबसे महत्वपूर्ण खिलाड़ी के रूप में छह बार नामांकित, करीम अब्दुल-जब्बार भी अमेरिकी सार्वजनिक क्षेत्र में सबसे अधिक दिखाई देने वाले मुसलमानों में से एक हैं। 7 फीट 2 इंच के करीम अब्दुल-जब्बार, ऊपरी हार्लेम के मूल निवासी थे, जिनका जन्म फर्डिनेंड लुईस अलकिंडोर के रूप मे हुआ था। 1969 में मिल्वौकी बक्स की तरफ से नेशनल बास्केटबॉल एसोसिएशन में प्रवेश करने से पहले उन्होंने यूसीएलए के लिए अच्छा प्रदर्शन किया था। एल्किंडोर बाद में लॉस एंजिल्स लेकर्स से जुड़ गए। कॉलेज बास्केटबॉल में उनका इतना दबदबा था कि "डंकिंग", जिसमें उन्होंने उत्कृष्ट प्रदर्शन किया, औपचारिक रूप से इंटरकॉलेजिएट खेल से प्रतिबंधित कर दिया गया था। नतीजतन, ल्यू अलकिंडोर ने वह शॉट विकसित किया जिसके लिए वे व्यक्तिगत रूप से सबसे प्रसिद्ध हैं- "स्काईहुक" - कहा जाता है उस शॉट ने बास्केटबॉल को बदल दिया, और जिसकी मदद से उन्हें नियमित-सीज़न एनबीए प्ले में अड़तीस हज़ार से अधिक अंक मिले। जब मिल्वौकी ने 1970-71 में एनबीए का खिताब जीता, अलकिंडोर, उस समय करीम अब्दुल-जब्बार हो गए थे, उन्हें उस समय बास्केटबॉल का बादशाह कहा जाता था।

ल्यू अलकिंडोर ने सबसे पहले एक पूर्व जैज़ ड्रमर हम्मास अब्दुल खालिस से इस्लाम सीखा था .... उनके अनुसार, उन्हें सत्ता को गंभीरता से लेने के लिए बड़ा किया गया था, चाहे वह नन हो, शिक्षक हो या कोच हो और उस भावना से उन्होंने अब्दुल खालिस की शिक्षाओं का बारीकी से पालन किया। उन्होने ने ही अलकिंडोर को अब्दुल करीम नाम दिया था, फिर इसे करीम अब्दुल-जब्बार में बदल दिया गया, जिसका शाब्दिक अर्थ है "सर्वशक्तिमान का सेवक।" जल्द ही, उन्होंने क़ुरआन के अपने अध्ययन के साथ अब्दुल खालिस की शिक्षाओं को आगे बढ़ाने के लिए दृढ़ संकल्प किया, जिसके लिए उन्होंने बुनियादी अरबी सीखी। 1973 में उन्होंने भाषा की बेहतर समझ और इस्लाम के बारे में इसके कुछ "घरेलू" संदर्भों को जानने के लिए लीबिया और सऊदी अरब की यात्रा की। अब्दुल-जब्बार को अपने इस्लाम के बारे में उस तरह का सार्वजनिक बयान देने में कोई दिलचस्पी नहीं थी जो उन्हें लगा कि मुहम्मद अली ने वियतनाम युद्ध के विरोध में दिया, इसकी जगह बस एक अफ्रीकी अमेरिकी के रूप में चुपचाप खुद को पहचानने को चुना, जो मुसलमान भी था। उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा कि उनका नाम अलकिंडोर एक गुलाम नाम था, शाब्दिक रूप से उस दास-व्यापारी का जो अपने परिवार को पश्चिम अफ्रीका से डोमिनिका से त्रिनिदाद ले गया था, जहां से उन्हें अमेरिका लाया गया था

[…] करीम अब्दुल-जब्बार खुद को एक सुन्नी मुसलमान मानते थे। सर्वोच्च शक्ति में उनका दृढ़ विश्वास है, उनकी समझ में स्पष्ट है कि मुहम्मद सर्वोच्च शक्ति का पैगंबर हैं और क़ुरआन अंतिम रहस्योद्घाटन है ...

.... करीम जितना संभव हो उतना अच्छा इस्लामी जीवन जीने की अपनी जिम्मेदारी स्वीकार करते हैं, यह मानते हुए कि इस्लाम में रह के वो अमेरिका में एक पेशेवर एथलीट हो सकते हैं।

उनकी किताब करीम के कुछ अंशः

1990 में प्रकाशित उनके बास्केटबॉल करियर के बारे में लिखी गई दूसरी किताब करीम के अंश निम्नलिखित हैं[1], इसमें उन्होंने इस्लाम की ओर आकर्षित होने के अपने कारणों को बताया है:

[अमेरिका में पले-बढ़े] आखिरकार मैंने पाया कि . . .भावनात्मक रूप से, आध्यात्मिक रूप से, मैं नस्लवादी होने का जोखिम नहीं उठा सकता था। जैसे-जैसे मैं बड़ा होता गया, मुझे धीरे-धीरे यह विश्वास होता चला गया कि काला या तो सबसे अच्छा है या सबसे बुरा। यह ऐसा ही था। जिस अश्वेत व्यक्ति का मुझ पर सबसे गहरा प्रभाव था, वह थे मैल्कम एक्स। मैंने ब्लैक मुस्लिम अखबार, "मुहम्मद स्पीक्स", पढ़ा था, लेकिन साठ के दशक की शुरुआत में भी, उनका नस्लवाद मुझे अस्वीकार्य था। यह सफेद नस्लवाद की जैसे ही शत्रुता रखता था, और मेरे क्रोध और आक्रोश से, मैं समझ गया था कि क्रोध कुछ भी नहीं बदल सकता है। यह सिर्फ एक निरंतर नकारात्मक चक्कर है जो खुद के लिए है, और इसकी आवश्यकता किसी को नही है?

. . .मैल्कम एक्स अलग थे। उन्होंने मक्का की यात्रा की, और महसूस किया कि इस्लाम ने सभी रंगों के लोगों को गले लगाया है। 1965 में उनकी हत्या कर दी गई थी, और हालाँकि मैं तब उनके बारे में ज्यादा नहीं जानता था, फिर भी उनकी मृत्यु बहुत दुखदाई थी क्योंकि मुझे पता था कि वह काले गर्व के बारे में, स्वयं की सहायता के बारे में और खुद को ऊपर उठाने की बात करते थे। और मुझे उनका गैर-अधीनता का रवैया पसंद आया।

. . .मैल्कम एक्स की आत्मकथा 1966 में सामने आई, जब मैं यूसीएलए में नया था, और मैंने इसे अपने उन्नीसवें जन्मदिन से ठीक पहले पढ़ा। मैंने जो भी किताब पढ़ी थी उसकी तुलना में इसने मुझ पर एक बड़ा प्रभाव डाला, मुझे पूरी तरह से बदल दिया। मैंने मुख्यधारा के दृष्टिकोण को स्वीकार करने के बजाय चीजों को अलग तरह से देखना शुरू कर दिया।

. . .[मैल्कम] ने सतही, पितृसत्तात्मक के बजाय, जाति के बीच वास्तविक सहयोग के द्वार खोले। वह असली लोगों के बारे में बात करते थे जो असली चीजें कर रहे थे, काला गर्व और इस्लाम। मै इसे समझ लिया। और मैंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा।

टॉकएशिया के साथ इंटरव्यू [2]

एस. जी. [3]: करीम अब्दुल-जब्बार से पहले, ल्यू अलकिंडोर थे। अब ल्यू अलकिंडोर वही था जो करीम अब्दुल-जब्बार के रूप में पैदा हुआ था, वह तब से इस्लाम में परिवर्तित हो गए हैं। जिसे अब वह एक बहुत गहरा आध्यात्मिक निर्णय कहते हैं। हमें ल्यू अलकिंडोर से करीम अब्दुल-जब्बार तक की अपनी निजी यात्रा के बारे में कुछ बताएं। क्या आज भी आप में कुछ ल्यू अलकिंडोर बाकी है?

के. ए. [4]: ठीक है, आप जानते हैं कि मैंने अपना जीवन उसी रूप मे शुरू किया था, मैं अभी भी अपने माता-पिता का बच्चा हूं, मैं अभी भी हूं ... अभी भी मेरे चचेरे भाई वही हैं, हालांकि मैं अभी भी वही हूं। लेकिन मैंने एक चुनाव किया। (एस.जी.: क्या आप अलग महसूस करते हैं? क्या यह एक अलग एहसास है जब आप एक अलग नाम, एक अलग व्यक्तित्व अपनाते हैं?) मैं ऐसा नहीं सोचता ... मुझे लगता है इसका लेना-देना विकास के साथ है - मैं करीम अब्दुल-जब्बार में विकसित हुआ, मुझे इस बात का कोई पछतावा नहीं है कि मैं कौन था लेकिन अब मैं यही हूं।

एस.जी.: और एक आध्यात्मिक यात्रा, वह कितना महत्वपूर्ण था?

के.ए.: एक आध्यात्मिक यात्रा के रूप में, मुझे नहीं लगता कि मैं उतना सफल हो पाता जितना कि मैं एक एथलीट के रूप में होता अगर यह इस्लाम के लिए नहीं होता। इसने मुझे एक नैतिक सहारा दिया, इसने मुझे भौतिकवादी नहीं होने दिया, इसने मुझे यह देखने में सक्षम बनाया कि दुनिया में क्या महत्वपूर्ण है। और इस सब के लिए उन लोगों ने जोर दिया जो मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण थे: कोच जॉन वुडन, मेरे माता-पिता, सभी ने उन मूल्यों को सुदृढ़ किया। और इसने मुझे अपना जीवन एक निश्चित तरीके से जीने और विचलित न होने में सक्षम बनाया।

एस.जी.: जब आपने इस्लाम कबूल किया, तो क्या अन्य लोगों के लिए इसे स्वीकार करना मुश्किल था? क्या इससे आपके और दूसरों के बीच दूरियां पैदा हुईं?

के.ए.: अधिकांश रूप से ऐसा ही था। मैंने इसे लोगों के लिए मुश्किल नहीं बनाया; मेरे कंधे पर कोई चिप नहीं थी। मैं बस इतना चाहता था कि लोग समझें कि मैं मुस्लिम था, और जो मेरे लिए सबसे अच्छी बात थी। यदि वे यह स्वीकार कर सकते हैं तो मैं भी उन्हें स्वीकार कर सकता हूं। नहीं...ऐसा नहीं था कि अगर तुम मेरे दोस्त बनोगे तो तुम्हें भी मुसलमान बनना पड़ेगा। नहीं, ऐसा नहीं था। मैं लोगों की पसंद का सम्मान करता हूं जैसे मुझे उम्मीद है कि वे मेरी पसंद का सम्मान करते हैं।

एस.जी.: एक व्यक्ति के साथ क्या होता है जब वे एक दूसरा नाम और दूसरा व्यक्तित्व रखते हैं? आप कितना बदल गए हैं?

के.ए.: इसने मुझे और अधिक सहनशील बना दिया क्योंकि मुझे मतभेदों को समझने के लिए सीखना पड़ा था। आप जानते हैं कि मैं अलग था, लोग अक्सर यह नहीं समझते थे कि मैं कहाँ से हूं; निश्चित रूप से, 9/11 के बाद मुझे खुद को समझाना पड़ा और...

एस.जी.: क्या आप जैसे लोगों के खिलाफ कोई प्रतिक्रिया थी? क्या आपने ऐसा महसूस किया?

के.ए.: मैंने इसे एक प्रतिक्रिया की तरह नहीं महसूस किया, लेकिन मुझे निश्चित रूप से लगा कि कई लोगों ने मेरी वफादारी पर सवाल उठाया होगा, या सवाल किया होगा कि मैं क्या था, लेकिन मैं एक देशभक्त अमेरिकी हूं ...

एस.जी.: बहुत सारे अश्वेत अमेरिकियों के लिए, इस्लाम में परिवर्तित होना एक गहन राजनीतिक निर्णय भी था। क्या आपके लिए भी ऐसा ही था?

के.ए.: वह मेरी यात्रा का हिस्सा नहीं था। मेरा इस्लाम को चुनना कोई राजनीतिक बयान नहीं था; यह एक आध्यात्मिक बयान था। मैंने बाइबिल और क़ुरआन के बारे में जो कुछ सीखा, उससे मुझे पता चला कि क़ुरआन सर्वोच्च शक्ति का अगला रहस्योद्घाटन है - और मैंने उसकी व्याख्या करना और उसका पालन करना चुना। मुझे नहीं लगता कि इसका किसी से कोई लेना-देना है और अपने अनुसार उन्हें अभ्यास करने की क्षमता से वंचित करते हैं। क़ुरआन हमें बताता है कि यहूदी, ईसाई और मुसलमान: मुसलमानों को उन सभी के साथ एक जैसा व्यवहार करना चाहिए क्योंकि हम सभी एक ही पैगंबरो में विश्वास करते हैं, और स्वर्ग और नर्क हम सभी के लिए समान होंगे। और इसके बारे में ऐसा ही होना चाहिए।

एस.जी.: और यह आपके लेखन में भी बहुत प्रभावशाली रहा है।

के.ए.: हाँ, यह रहा है। नस्लीय समानता और एक बच्चे के रूप में अमेरिका में बड़े होने का जो अनुभव मैंने अनुभव किया, उसने वास्तव में मुझे नागरिक अधिकार आंदोलन का अनुभव करने के लिए प्रभावित किया, और लोगों को अपने जीवन को खतरे में डालते हुए, पीटे जाते हुए, कुत्तों द्वारा हमला करते हुए, सड़कों पर आग लगाते हुए देखा, और फिर भी उन्होंने कट्टरता का सामना करने के लिए एक अहिंसक और बहुत बहादुर तरीका अपनाया। यह उल्लेखनीय था और इसने निश्चित रूप से मुझे बहुत गहराई से प्रभावित किया।


फुटनोट:

[1]रैंडम हाउस (24 मार्च 1990). ISBN: 0394559274.

[2]करीम अब्दुल-जब्बार तलकासिया ट्रांसक्रिप्ट। एयरडेट 2 जुलाई, 2005। (http://www.cnn.com/2005/WORLD/asiapcf/07/08/talkasia.jabbar.script/index.html?eref=sitesearch)

[3]एस.जी.: मेजबान, स्टेन ग्रांट।

[4]के.ए.: अतिथि, करीम अब्दुल-जब्बार।

खराब श्रेष्ठ

टिप्पणी करें

  • (जनता को नहीं दिखाया गया)

  • आपकी टिप्पणी की समीक्षा की जाएगी और 24 घंटे के अंदर इसे प्रकाशित किया जाना चाहिए।

    तारांकित (*) स्थान भरना आवश्यक है।

इसी श्रेणी के अन्य लेख

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सूची सामग्री

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास

आपकी इतिहास सूची खाली है।