लियोपोल्ड वीस, स्टेट्समैन और पत्रकार, ऑस्ट्रिया (2 का भाग 1)

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:
A- A A+

विवरण: जर्मनी और यूरोप के सबसे प्रतिष्ठित समाचार पत्रों में से एक, फ्रैंफर्टर ज़ितुंग का एक संवाददाता, मुस्लिम बन जाता है और बाद में क़ुरआन के अर्थों का अनुवाद करता है। भाग 1

  • द्वारा Ebrahim A. Bawany
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 2,895 (दैनिक औसत: 3)
  • रेटिंग: अभी तक नहीं
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0
खराब श्रेष्ठ

Leopold_Weiss__Statesman_and_Journalist__Austria_(part_1_of_2)_001.jpg

मुहम्मद असद का जन्म लियोपोल्ड वीस के रूप में जुलाई 1900 में ल्वीव (जर्मन लेम्बर्ग) शहर में हुआ था, जो अब पोलैंड में है, जो उस समय ऑस्ट्रियाई साम्राज्य का हिस्सा था। वह रब्बियों की एक लंबी कतार के वंशज थे, जिस कतार को उनके पिता ने तोड़ा था, जो एक बैरिस्टर बने थे। असद ने खुद एक पूरी तरह से शिक्षा प्राप्त की जो उन्हें परिवार की रब्बी परंपरा को जीवित रखने के योग्य बनाती है।

1922 में वीस यूरोप छोड़ कर मध्य पूर्व के ओर चले गए, जब वो यरूशलेम में अपने चाचा के पास गए। उस समय, वीस अपनी कई पीढ़ी की तरह, खुद को एक अज्ञेयवादी मानते थे, जो अपने धार्मिक अध्ययनों के बावजूद अपने यहूदी मुल से दूर हो गए थे। तब मध्य पूर्व में, उन्होंने अरब के लोगों के बारे में जाना और उन्हें पसंद किया, और वे इस बात से प्रभावित हुए कि कैसे इस्लाम ने उनके रोजमर्रा के जीवन को अस्तित्वगत अर्थ, आध्यात्मिक शक्ति और आंतरिक शांति से प्रभावित किया।

22 साल की छोटी उम्र में, वीस जर्मनी और यूरोप के सबसे प्रतिष्ठित समाचार पत्रों में से एक, फ्रैंफर्टर ज़ितुंग के एक संवाददाता बन गए। एक पत्रकार के रूप में, उन्होंने बड़े पैमाने पर यात्रा की, आम लोगों के साथ घुलमिल गए, मुस्लिम बुद्धिजीवियों के साथ चर्चा की, और फिलिस्तीन, मिस्र, ट्रांसजॉर्डन, सीरिया, इराक, ईरान और अफगानिस्तान में राष्ट्राध्यक्षों से मुलाकात की।

अपनी यात्रा के दौरान और अपने पढ़ने के माध्यम से, इस्लाम में वीस की रुचि बढ़ती गई क्योंकि उनकी शास्त्र, इतिहास और लोगों की समझ बढ़ी। कुछ हद तक, जिज्ञासा से प्रेरित।

मुहम्मद असद, लियोपोल्ड वीस, 1900 में ल्वीव, ऑस्ट्रिया (अब पोलैंड) में पैदा हुए थे, और 22 साल की उम्र में उन्होंने मध्य पूर्व की यात्रा की। बाद में वह फ्रैंफर्टर ज़ितुंग के लिए एक उत्कृष्ट विदेशी संवाददाता बन गए, और उनके इस्लाम में धर्म परिवर्तन के बाद, उत्तरी अफ्रीका से लेकर पूर्व में अफगानिस्तान तक, मुस्लिम दुनिया भर में यात्रा की और काम किया। वर्षों के समर्पित अध्ययन के बाद, वह हमारे युग के प्रमुख मुस्लिम विद्वानों में से एक बन गए। पाकिस्तान की स्थापना के बाद, उन्हें इस्लामिक पुनर्निर्माण विभाग, पश्चिमी पंजाब का निदेशक नियुक्त किया गया, और बाद में, संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान के वैकल्पिक प्रतिनिधि बने। मुहम्मद असद की दो महत्वपूर्ण पुस्तकें हैं: इस्लाम एट द क्रॉसरोड्स और रोड टू मक्का। उन्होंने एक मासिक पत्रिका अराफात और पवित्र क़ुरआन का अंग्रेजी अनुवाद भी किया था।

आइए अब हम असद के धर्म-परिवर्तन पर उनके शब्द देखें:

खराब श्रेष्ठ

इस लेख के भाग

सभी भागो को एक साथ देखें

टिप्पणी करें

  • (जनता को नहीं दिखाया गया)

  • आपकी टिप्पणी की समीक्षा की जाएगी और 24 घंटे के अंदर इसे प्रकाशित किया जाना चाहिए।

    तारांकित (*) स्थान भरना आवश्यक है।

इसी श्रेणी के अन्य लेख

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सूची सामग्री

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास

(और अधिक पढ़ें...) हटाएं