सलमान अल-फारसी, पारसी, फारस (2 का भाग 2): ईसाई धर्म से इस्लाम तक

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:
A- A A+

विवरण: सलमान की लंबी खोज अंत में बताये गए पैगंबर से मिलने के साथ समाप्त हुई, और स्वतंत्र होने के बाद उनके सबसे करीबी साथियों में से एक बन गए।

  • द्वारा Salman the Persian
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 3,996 (दैनिक औसत: 4)
  • रेटिंग: अभी तक नहीं
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0
खराब श्रेष्ठ

वह आदमी मर गया, और सलमान अमुरिया में रुके। एक दिन, "कल्ब [1] जनजाति के कुछ व्यापारी मेरे पास से गुजरे," सलमान ने कहा, "मैंने उनसे कहा, 'मुझे अरब ले जाओ और मैं तुम्हें अपनी गायें और एकमात्र भेड़ दे दूँगा।'" उन्होंने कहा, "ठीक है।" जो पेश किया सलमान उन्हें दे दिया, और वे उसे अपने साथ ले गए। जब वे वादी अल-क़ुरा [मदीना के करीब] पहुंचे, तो उन्होंने उसे एक यहूदी व्यक्ति के दास के रूप में बेच दिया। सलमान यहूदी के साथ रहे, और उन्होंने खजूर के पेड़ देखे [जैसा उनके पिछले साथी ने बताया था]

"मुझे उम्मीद थी कि यह वही जगह होगी जिसका वर्णन मेरे साथी ने किया था।"

एक दिन, मदीना में बनी कुरैदा की यहूदी जनजाति से एक व्यक्ति, जो सलमान के मालिक का चचेरा भाई था, उससे मिलने आया। वह सलमान को उनके यहूदी मालिक से खरीद लिया।

“वह मुझे अपने साथ मदीना ले गया। ईश्वर की कसम! जब मैंने इसे देखा, तो मुझे पता था कि यह वही जगह है जिसका मेरे साथी ने वर्णन किया था।

फिर ईश्वर ने अपने दूत [यानी, मुहम्मद, ईश्वर की दया और कृपा उन पर बनी रहे] को भेजा [2]। जब तक वह रह सकते थे वो मक्का में रहे। [3] मैंने उनके बारे में कुछ नहीं सुना क्योंकि मैं गुलामी के काम में बहुत व्यस्त था और फिर वह मदीना चले आये।

[एक दिन] मैं खजूर के एक पेड़ पर अपने मालिक के लिए कुछ काम कर रहा था। मेरे मालिक का एक चचेरा भाई आया और उसके सामने खड़ा हो गया [मेरा मालिक बैठा था] और कहा, "हाय बानी कीला [कीला जनजाति के लोग], वे किबा [4] में इकट्ठे हुए हैं" एक आदमी के आसपास जो आज मक्का से आया है और पैगंबर होने का दावा कर रहा है!"

उसकी बात सुनकर मैं इतना कांप उठा कि मुझे डर था कि कहीं मैं अपने मालिक पर न गिर जाऊं। मैंने उतर कर कहा, 'क्या कह रहे हो? तुम क्या कह रहे हो!?'

मेरे स्वामी क्रोधित हो गए और मुझे यह कहते हुए जोर से मुक्का मारा, “इस [मामले] में तुम्हारा क्या काम है? जाओ और अपने काम पर ध्यान दो।"

मैंने कहा, "कुछ नहीं! मैं बस यह सुनिश्चित करना चाहता था कि वह क्या कह रहा है।"

उस शाम जब मैं किबा में था, तब मैं ईश्वर के दूत से मिलने गया। मैं अपने साथ कुछ ले गया जिसे मैंने सहेजा था। मैं अंदर गया और कहा, "मुझे बताया गया था कि आप एक धर्मी आदमी हो और आपके साथी जो यहां अजनबी हैं, जरूरतमंद हैं। मैं आपको कुछ देना चाहता हूं जिसे मैंने दान के रूप में सहेजा है। मैंने पाया कि आप किसी और से ज्यादा इसके लायक हैं।"

मैंने उन्हें यह दिया; उन्होंने अपने साथियों से कहा, "खाओ," परन्तु उन्होंने अपना हाथ दूर रखा [अर्थात् खाया नहीं]। मैंने अपने आप से कहा, "यह पहला है [अर्थात, उनके पैगंबर होने की निशानियों में से एक]।"

पैगंबर (ईश्वर की दया और कृपा उन पर बनी रहे) के साथ इस मुलाकात के बाद, सलमान एक और परीक्षा की तैयारी के लिए निकल पड़े! इस बार वह मदीना में पैगंबर के लिए एक उपहार लाये।

"मैंने देखा कि आप दान के रूप में दिए गए भोजन में से नहीं खाते हैं, इसलिए यह एक उपहार है जिससे मैं आपका सम्मान करना चाहता हूं।" पैगंबर ने उसमें से खाया और अपने साथियों को भी खाने का आदेश दिया, और उनके साथियो ने भी खाया। मैंने अपने आप से कहा, "अब दो हो गए [अर्थात्, पैगंबर होने की दो निशानियाँ] हैं।"

तीसरी मुलाकात के लिए, सलमान बकी-उल-घरकद [मदीना में एक कब्रगाह] गए, जहां पैगंबर (ईश्वर की दया और कृपा उन पर बनी रहे) अपने एक साथी के अंतिम संस्कार में शामिल हुए थे। सलमान ने कहा:

मैंने उनका [इस्लाम के अभिवादन के साथ: 'आप पर शांति हो'] अभिवादन किया, और फिर उनकी पीठ की ओर मुड़कर [पैगंबर की] मुहर देखने की कोशिश की, जिसके बारे मे मेरे साथी ने मुझे बताया था। जब उन्होंने मुझे [ऐसा करते हुए] देखा, तो वह जानते थे कि मैं अपने बारे में बताई गई किसी बात की पुष्टि करने की कोशिश कर रहा हूं। उन्होंने अपनी पीठ से कपड़ा उतार दिया और मैंने मुहर की तरफ देखा। मैंने इसे पहचान लिया। मैं उस पर गिर पड़ा, उसे चूम कर रोने लगा। ईश्वर के दूत (ईश्वर की दया और कृपा उन पर बनी रहे) ने मुझे एक तरफ आने के लिए कहा [यानी, बात करने के लिए]। मैंने इब्न अब्बास को अपनी कहानी सुनाई, [ध्यान दें कि सलमान अपनी कहानी इब्न अब्बास को बताते हैं]। सलमान को पैगंबर ने इतना पसंद किया कि वह चाहते थे कि मैं अपनी कहानी उनके साथी को सुनाऊ।

वह अभी भी अपने मालिक के दास थे। पैगंबर ने उससे कहा, "ऐ सलमान, अपनी आजादी के लिए [अपने मालिक के साथ] एक अनुबंध करो।" सलमान ने आज्ञा मानी और अपनी स्वतंत्रता के लिए [अपने मालिक के साथ] एक अनुबंध किया। उसने अपने मालिक के साथ एक समझौता किया जिसमें वह उसे चालीस औंस सोना देगा और तीन सौ नए खजूर के पेड़ लगाएगा और सफलतापूर्वक उगाएगा। पैगंबर ने तब अपने साथियों से कहा, "अपने भाई की मदद करो।"

उन्होंने पेड़ों से उसकी मदद की और उसके लिए निर्दिष्ट मात्रा में सोना इकट्ठा किया। पैगंबर ने सलमान को पौधे लगाने के लिए उचित गड्ढा खोदने का आदेश दिया, और फिर उन्होंने प्रत्येक को अपने हाथों से लगाया। सलमान ने कहा, "जिसके हाथ में मेरी आत्मा है [यानी ईश्वर] उसकी कसम, एक भी पेड़ नहीं मरा।"

सलमान ने पेड़ अपने मालिक को दिए। पैगंबर ने सलमान को सोने का एक टुकड़ा दिया जो एक मुर्गी के अंडे के आकार का था और कहा, "ऐ सलमान, इसे ले लो और अपने मालिक का भुगतान करो।"

सलमान ने कहा, "यह कितना है, मेरे ऊपर कितना बकाया है!"

पैगंबर ने कहा, "इसे ले लो! ईश्वर [इसे] बराबर करेगा जो आप पर बकाया है। ”[5]

मैंने इसे लिया और मैंने इसके एक हिस्से का वजन किया और यह चालीस औंस था। सलमान ने सोना अपने मालिक को दिया। उसने समझौते को पूरा किया और उसे छोड़ दिया गया।

तब से, सलमान पैगंबर के सबसे करीबी साथियों में से एक बन गए।

सत्य की खोज

पैगंबर के महान साथियों में से एक अबू हुरैरा ने बताया:

“हम ईश्वर के दूत की संगति में बैठे थे जब सूरह अल-जुमाअ (सूरह 62) का खुलासा हुआ। उन्होंने इन शब्दों का पाठ किया:

“और [ईश्वर ने मुहम्मद को भी भेजा है] जो अभी तक उनके साथ नहीं आए हैं (लेकिन वे आएंगे) ...” (क़ुरान 62:3)

उनमें से एक व्यक्ति ने कहा, 'हे ईश्वर के दूत! वे कौन हैं जो हमसे नहीं जुड़े हैं?'

ईश्वर के दूत ने कोई उत्तर नहीं दिया। सलमान फारसी हमारे बीच थे। ईश्वर के दूत ने सलमान पर हाथ रखा और कहा, ‘जिसके हाथों में मेरी आत्मा है उसकी शपथ, भले ही विश्वास प्लीएड्स (सात सितारे) के पास हो, इनमें से कुछ लोग [यानी, सलमान के साथी] उसे जरूर पा लेंगे।” (अत-तिर्मिज़ी)

इस दुनिया में बहुत से लोग सलमान की तरह हैं, जो सच्चे और केवल एक ईश्वर के बारे में सच्चाई की तलाश में हैं। सलमान की यह कहानी हमारे समय के लोगों की कहानियों से मिलती जुलती है। कुछ लोगों की खोज उन्हें एक चर्च से दूसरे चर्च, चर्च से बौद्ध धर्म या निष्क्रियता, यहूदी धर्म से 'तटस्थता', धर्म से ध्यान से मानसिक शोषण तक ले गई। ऐसे लोग हैं जो एक विचार से दूसरे विचार में चले गए, लेकिन इस्लाम के बारे में कुछ जानने की इच्छा भी नहीं रखते थे! हालाँकि, जब वे कुछ मुसलमानों से मिले, तो उन्होंने अपना दिमाग खोला। सलमान की कहानी एक लंबी खोज की कहानी है। आप उसका लाभ उठाकर सत्य की अपनी खोज को छोटा कर सकते हैं।



फुटनोट:

[1] एक अरब जनजाति।

[2] मुहम्मद (ईश्वर की दया और कृपा उन पर बनी रहे) को पैगंबर के रूप में नियुक्त किए जाने से पहले सलमान मदीना पहुंचे थे।

[3] ईश्वर से रहस्योद्घाटन प्राप्त करने के तेरह साल बाद।

[4] मदीना के बाहरी इलाके।

[5] ईश्वर से एक चमत्कार।

खराब श्रेष्ठ

इस लेख के भाग

सभी भागो को एक साथ देखें

टिप्पणी करें

  • (जनता को नहीं दिखाया गया)

  • आपकी टिप्पणी की समीक्षा की जाएगी और 24 घंटे के अंदर इसे प्रकाशित किया जाना चाहिए।

    तारांकित (*) स्थान भरना आवश्यक है।

इसी श्रेणी के अन्य लेख

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सूची सामग्री

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास

आपकी इतिहास सूची खाली है।