पैगंबर सालेह

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:
A- A A+

विवरण: ईश्वर ने पृथ्वी पर सभी राष्ट्रों के लिए पैगंबर भेजे।

  • द्वारा Aisha Stacey (© 2009 IslamReligion.com)
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 3,225 (दैनिक औसत: 3)
  • रेटिंग: अभी तक नहीं
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0
खराब श्रेष्ठ

Prophet_Saleh_001.jpgईश्वर ने क़ुरआन में कहा कि पैगंबर और दूत पृथ्वी पर हर देश में भेजे गए थे और वे सभी एक ही संदेश फैलाते थे - सिर्फ एक ईश्वर की पूजा करो बिना किसी साथी, बेटे या बेटियों के। क़ुरआन में वर्णित अधिकांश पैगंबर और पैगंबर मुहम्मद की परंपराएं पहचानने योग्य हैं, और यहूदी और ईसाई दोनों धर्मों में पैगंबर माने जाते हैं। हालांकि, पैगंबर सालेह अरब के सिर्फ चार पैगंबरो में से एक हैं और उनकी कहानी सार्वभौमिक रूप से ज्ञात नहीं है।

"तथा हम भेज चुके हैं बहुत-से दूतों को आपसे पूर्व, जिनमें से कुछ का वर्णन हम आपसे कर चुके हैं तथा कुछ का वर्णन आपसे नहीं किया है तथा किसी दूत के वश में ये नहीं था कि वह ईश्वर की अनुमति के बिना कोई छंद ले आये।।" (क़ुरआन 40:78)

अद और थमूद दो महान सभ्यताएं थीं, जिन्हें ईश्वर ने अपनी अत्यधिक दुष्टता के कारण नष्ट कर दिया था। अद के विनाश के बाद, थमूद ने उन्हें सत्ता और भव्यता में सफलता दिलाई। लोगों ने समृद्ध जीवन व्यतीत किया, मैदानी इलाकों में भव्य इमारतें बनाईं, और पहाड़ियों में खुदी हुई। दुर्भाग्य से उनकी फालतू जीवनशैली के कारण मूर्ति पूजा और दुष्टता आ गई। पैगंबर सालेह को थमूद के लोगों को चेतावनी देने के लिए भेजा गया था, कि ईश्वर उनके व्यवहार से खुश नही हैं, और अगर वे अपने बुरे तरीकों को नही सुधारेंगे, तो उन पर विनाश की बारिश होगी।

सालेह एक धर्मपरायण, धर्मी व्यक्ति थे, जो समुदाय का नेतृत्व करते थे, लेकिन सिर्फ एक ईश्वर की पूजा करने के उनके आह्वान ने कई लोगों को नाराज कर दिया। कुछ लोगों ने उनकी बातों की समझदारी समझी, लेकिन अधिकांश लोगों ने अविश्वास किया और सालेह को शब्दों और शारीरिक दोनों तरह से नुकसान पहुंचाया।

"उन्होंने कहाः हे सालेह! हमारे बीच इससे पहले तुझसे बड़ी आशा थी, क्या तू हमें इस बात से रोक रहा है कि हम उसकी पूजा करें, जिसकी पूजा हमारे बाप-दादा करते रहे? तू जिस चीज़ (एकेश्वरवाद) की ओर बुला रहा है, वास्तव में, उसके बारे में हमें संदेह है।” (क़ुरआन 11:62)

थमूद के लोग एक बड़े पहाड़ की छाया में अपने सभा स्थल पर एकत्र हुए। उन्होंने मांग की कि सालेह यह साबित करे कि जिस एक ईश्वर की उन्होंने बात की है वह वास्तव में शक्तिशाली और मजबूत है। उन्होंने उन से एक चमत्कार करने के लिए कहा - उन्होंने एक अद्वितीय और अतुलनीय ऊंटनी को पास के पहाड़ों से निकालने के लिए कहा। सालेह ने अपने लोगों को संबोधित करते हुए पूछा, अगर ऊंटनी दिखाई दी तो क्या वे उसके संदेश पर विश्वास करेंगे। उन्होंने एक शानदार हां में उत्तर दिया, और लोगों ने मिलकर सालेह के साथ चमत्कार होने के लिए प्रार्थना की।

ईश्वर की कृपा से, एक विशाल, दस महीने की गर्भवती ऊंटनी उस पहाड़ की तलहटी में चट्टानों से निकली। कुछ लोगों ने इस चमत्कार के महत्व को समझा लेकिन अधिकांश लोगो ने अविश्वास करना जारी रखा। उन्होंने एक महान और चमकदार दृश्य देखा, फिर भी वे अभिमानी और जिद्दी बने रहे।

"हमने एक स्पष्ट संकेत के रूप में उस ऊंटनी को थमूद के पास भेजा, लेकिन लोगों ने उसे झुठला दिया।" (क़ुरआन 17:59)

क़ुरआन के समीक्षक और इस्लामी विद्वान इब्न कथिर हमें बताते हैं कि ऊंटनी और उसके चमत्कारी स्वभाव की कई बाते हैं। ऐसा कहा जाता है कि ऊंटनी एक खुली हुई चट्टान से प्रकट हुई थी, और कुछ लोगों ने बताया कि ऊंटनी इतनी विशाल थी कि वह एक दिन में शहर के कुओं का सारा पानी पीने में सक्षम थी। अन्य लोगों ने कहा कि ऊंटनी पूरी आबादी को खिलाने के लिए हर दिन पर्याप्त दूध का उत्पादन करने में सक्षम थी। ऊंटनी थमूद के लोगों के बीच रहती थी और दुख की बात है कि सालेह को परेशान करने वाले अविश्वासियों ने अपना गुस्सा और आक्रोश ऊंटनी की तरफ कर दिया।

हालांकि कई लोगों ने ईश्वर में विश्वास किया, पैगंबर सालेह की बात सुनी, और ऊंटनी के चमत्कार को समझा, कई अन्य लोगों ने हठपूर्वक सुनने से इनकार कर दिया। लोग शिकायत करने लगे कि ऊंटनी ने बहुत अधिक पानी पी लिया है, या कि वह अन्य पशुओं को डराती है। पैगंबर सालेह को ऊंटनी के लिए डर लगने लगा। उसने अपने लोगों को एक बड़ी पीड़ा के बारे में चेतावनी दी थी कि अगर वे ऊंटनी को नुकसान पहुंचाएंगे तो उन पर बड़ी मुसीबत आएगी।

"और हे मेरी जाति के लोगो! ये ईश्वर की ऊँटनी तुम्हारे लिए एक निशानी है, इसे छोड़ दो, ईश्वर की धरती में चरती फिरे और इसे कोई दुःख न पहुंचाओ, अन्यथा तुम्हें तुरन्त यातना पकड़ लेगी।" (क़ुरआन 11:64)

पुरुषों के एक समूह ने अपनी महिलाओं को प्रोत्साहित किया, ऊंटनी को मारने की साजिश रची और पहला मौका लिया और उसे एक तीर मारा और उसे तलवार से काट दिया। वह ऊंटनी जमीन पर गिर गई और मर गई। हत्यारों ने एक दूसरे को बधाई दी और अविश्वासी हंसने लगे और सालेह का मज़ाक उड़ाया। पैगंबर सालेह ने लोगों को चेतावनी दी थी कि तीन दिनों में उन पर एक बड़ी मुशीबत आएगी, लेकिन उन्होंने उम्मीद करना जारी रखा कि वे अपने कार्य की गलती देखेंगे और ईश्वर से क्षमा मांगेंगे। पैगंबर सालेह ने कहा: "हे मेरी जाति! मैं ने तुम्हें अपने पालनहार के उपदेश पहुँचा दिये थे और मैं ने तुम्हारा भला चाहा। परन्तु तुम उपकारियों से प्रेम नहीं करते" (क़ुरआन 7:79)। हालांकि, थमूद के लोगों ने सालेह की बातों का मज़ाक उड़ाया और उसे और उसके परिवार को उतनी ही बेरहमी से मारने करने की योजना बनाई, जैसे उन्होंने ऊंटनी को मार डाला था

"और उस नगर में नौ व्यक्तियों का एक गिरोह था, जो उपद्रव करते थे धरती में और सुधार नहीं करते थे। उन्होंने कहाः 'आपस में शपथ लो ईश्वर की कि हम अवश्य रात्रि में छापा मार देंगे सालेह़ तथा उसके परिवार पर, फिर कहेंगे उस (सालेह़) के उत्तराधिकारी से, हम उपस्थित नहीं थे, उसके परिवार के विनाश के समय और निःसंदेह, हम सत्यवादी (सच्चे) हैं।'" (क़ुरआन 27: 48,49)

ईश्वर ने पैगंबर सालेह और उनके सभी अनुयायियों को बचाया; उन्होंने कुछ मामूली सामान पैक किया, और भारी मन से दूसरी जगह चले गए। तीन दिनों के बाद, पैगंबर सालेह की चेतावनी पूरी हुई। आकाश बिजली और गड़गड़ाहट से भर गया और पृथ्वी हिंसक रूप से हिल गई। ईश्वर ने थमूद शहर को नष्ट कर दिया और उसके लोग भय और अविश्वास की पीड़ा में मर गए।

इब्न कथिर ने कहा कि सालेह की जाती के सभी लोग एक ही समय में मृत हो गए। उनका अहंकार और अविश्वास उन्हें बचा ना सका और ना ही उनकी मूर्तियाँ। उनकी बड़ी और असाधारण इमारतों ने उन्हें कोई सुरक्षा नहीं दी। ईश्वर मानवजाति को स्पष्ट मार्गदर्शन देना जारी रखता है लेकिन अविश्वासी अपने अहंकार और इनकार में बने रहते हैं। ईश्वर सबसे दयालु और सबसे क्षमाशील है: वह क्षमा करना पसंद करता है। हालांकि, ईश्वर की चेतावनियों को नज़रअंदाज़ नहीं किया जाना चाहिए। ईश्वर की सजा, जैसा कि थमुद के लोगों को मिली, तेज और गंभीर हो सकती है।

खराब श्रेष्ठ

टिप्पणी करें

  • (जनता को नहीं दिखाया गया)

  • आपकी टिप्पणी की समीक्षा की जाएगी और 24 घंटे के अंदर इसे प्रकाशित किया जाना चाहिए।

    तारांकित (*) स्थान भरना आवश्यक है।

इसी श्रेणी के अन्य लेख

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सूची सामग्री

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास