क्रिस्टिन, पूर्व-कैथोलिक, अमेरिका (2 का भाग 1)

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:
A- A A+

विवरण: एक पूर्व ईसाई महिला की उन चीजों पर चर्चा जो उसे ईसाई धर्म में अतार्किक लगी और उसकी यहूदी धर्म में रुचि।

  • द्वारा Kristin
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 3,822 (दैनिक औसत: 4)
  • रेटिंग: अभी तक नहीं
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0
खराब श्रेष्ठ

धर्म की मेरी खोज हाई स्कूल में तब शुरू हुई जब मैं 15 या 16 साल की थी। मैं उन लोगों के एक बुरे समूह के साथ जुड़ी हुई थी, जिन्हें मैं अपने दोस्त मानती थी, लेकिन समय के साथ मुझे एहसास हुआ कि ये लोग गलत थे। मैंने देखा कि उनका जीवन किस दिशा में जा रहा था, और यह अच्छा नहीं था। मैं नहीं चाहती थी कि इन लोगों का भविष्य का मेरी सफलता पर कोई प्रभाव पड़े, इसलिए मैंने उनसे खुद को पूरी तरह से अलग कर लिया। शुरुआत में यह मुश्किल था, क्योंकि मैं दोस्तों के बिना अकेली थी। मैंने खुद को जोड़ने के लिए कुछ ऐसा ढूंढना शुरू किया जिस पर मैं भरोसा कर सकूं और अपने जीवन को आधार बना सकूं .... ऐसा कुछ जिसे कोई भी व्यक्ति कभी भी मेरे भविष्य को नष्ट करने के लिए उपयोग नहीं कर सकता। स्वाभाविक रूप से, मैं ईश्वर की तलाश में चल पड़ी। हालाँकि, यह पता लगाना आसान नहीं था कि ईश्वर कौन है और सत्य क्या है। आखिर सच क्या है?! जब मैंने धर्म की खोज शुरू की तो यह मेरा प्राथमिक प्रश्न था।

मेरे अपने परिवार में, धर्म के कई बदलाव हुए हैं। मेरे परिवार में यहूदी और कुछ प्रकार के ईसाई धर्म हैं, और अब अलहम्दुलिल्लाह (ईश्वर का शुक्र है) इस्लाम है।

जब मेरी माँ और पिताजी की शादी हुई, तो उन्हें यह तय करने की आवश्यकता महसूस हुई कि बच्चों को किस धर्म में लाया जाए। चूंकि कैथोलिक चर्च वास्तव में उनके लिए एकमात्र विकल्प था (हमारे गांव में सिर्फ 600 लोग हैं) वे दोनों कैथोलिक धर्म में परिवर्तित हो गए और बहन और मेरी कैथोलिक के रूप में परवरिश की। मेरे अपने परिवार में धर्मांतरण की बात की जाये तो, ऐसा लगता है कि वे सभी सुविधा के लिए धर्मांतरण थे। मुझे नहीं लगता कि वे वास्तव में ईश्वर की तलाश कर रहे थे, लेकिन केवल धर्म में एक लक्ष्य को प्राप्त करने के साधन के रूप में जोड़-तोड़ कर रहे थे। अतीत में इन सभी परिवर्तनों के बाद भी, मेरी माँ, पिताजी, बहन या मेरे लिए धर्म का कभी भी अत्यधिक महत्व नहीं था। यदि कुछ भी हो, तो हमारा परिवार ऐसा था कि क्रिसमस और ईस्टर के दौरान चर्च में जाता। मैंने हमेशा महसूस किया कि धर्म मेरे जीवन से कुछ अलग है, सप्ताह के 6 दिन जीवन के लिए और चर्च के लिए सप्ताह में केवल एक दिन, उन दुर्लभ अवसरों पर जब मैं गयी थी। दूसरे शब्दों में, मैं ईश्वर के प्रति या दिन-प्रतिदिन के आधार पर उसकी शिक्षाओं के अनुसार कैसे जीना है, इनको लेकर सचेत नहीं थी।

मैंने कुछ कैथोलिक प्रथाओं को स्वीकार नहीं किया जिनमें शामिल हैं:

1) एक पुजारी के सामने पाप स्वीकार करना: मैंने सोचा कि मैं सीधे ईश्वर के सामने पाप स्वीकार क्यों नही कर सकती और इसके लिए मुझे एक आदमी के माध्यम की क्या जरुरत है?

2) "उत्तम" पोप- एक आदमी मात्र, जो एक पैगंबर भी नहीं है, कैसे उत्तम हो सकता है?!

3) संतों की पूजा- क्या यह पहली आज्ञा का सीधा उल्लंघन नहीं था? 14 वर्षों तक जबरन रविवार के दिन स्कूल में उपस्थिति के बाद भी, मुझे इन और अन्य सवालों के जवाब मिले वह यह थे, "आपको बस विश्वास रखना है !!" क्या मुझे सिर्फ इसलिए विश्वास रखना चाहिए क्योंकि किसी ने मुझे बताया?! मैंने सोचा कि विश्वास सत्य पर आधारित होना चाहिए और उत्तर जो तर्क से अपील करता हो, मुझे कुछ खोजने में दिलचस्पी थी।

मैं अपने माता-पिता, या दोस्तों, या किसी और की सच्चाई नहीं चाहती थी। मुझे ईश्वर का सत्य चाहिए था। मैं हर वह विचार चाहती थी, जो मेरे लिए सच हो, क्योंकि मैं इसे पूरे दिल और आत्मा से मानती थी। मैंने तय किया कि अगर मुझे अपने सवालों के जवाब तलाशने हैं, तो मुझे एक वस्तुनिष्ठ दिमाग से खोजना होगा, और मैंने पढ़ना शुरू किया...

मैंने तय किया कि ईसाई धर्म मेरे लिए धर्म नहीं है। मेरा ईसाइयों के साथ कुछ भी व्यक्तिगत नहीं था, लेकिन मैंने पाया कि धर्म में ही कई विसंगतियां हैं, खासकर जब मैंने बाइबल पढ़ी। बाइबल में जिन विसंगतियों को मैंने पढ़ा और जिन बातों का कोई मतलब नहीं था, वे इतनी अधिक थीं कि मुझे वास्तव में शर्मिंदगी महसूस हुई कि मैंने उनसे पहले कभी सवाल क्यों नहीं किया या उन पर ध्यान क्यों नहीं दिया!

चूँकि मेरे परिवार में कुछ लोग यहूदी हैं, इसलिए मैंने यहूदी धर्म पर शोध करना शुरू किया। मैंने अपने आप से सोचा कि शायद इसका उत्तर यहां हो सकता है। इसलिए लगभग एक साल तक मैंने यहूदी धर्म से संबंधित चीज़ पर शोध किया, मेरा मतलब गहरे शोध से है!! हर दिन मैंने कुछ पढ़ने और सीखने की कोशिश की (मैं अभी भी रूढ़िवादी यहूदी कोषेर कानूनों के बारे में जानती हूं!) मैं पुस्तकालय गयी और दो महीने की अवधि के भीतर यहूदी धर्म पर प्रत्येक पुस्तक की जाँच की, जानकारी देखी। इंटरनेट पर, आराधनालय में गयी, आस-पास के शहरों में अन्य यहूदी लोगों के साथ बात की और तौरात और तल्मूद को पढ़ा। यहाँ तक कि मेरा एक यहूदी मित्र भी इजराईलसे मुझसे मिलने आया था! मुझे लगा कि शायद मुझे वह मिल गया जिसकी मुझे तलाश थी। फिर भी, जिस दिन मुझे आराधनालय जाना था और संभवतः अपने रूपांतरण को आधिकारिक बनाने के बारे में रब्बी से मिलना था, मैं पीछे हट गयी। मैं सच में नहीं जानती कि उस दिन मुझे वहां जाने से किस बात ने रोका था, लेकिन जैसे ही मैं दरवाजे से बाहर जाने वाली थी, मैं रुक गयी और वापस अंदर जाकर बैठ गयी। मुझे लगा जैसे मैं उन सपनों में से एक में थी, जहां आप दौड़ने की कोशिश करते हैं लेकिन सब कुछ धीमी गति में है। मुझे पता था कि रब्बी वहाँ है और मेरी प्रतीक्षा कर रहा है, लेकिन मैंने यह कहने के लिए फोन तक नहीं किया कि मैं आ रही हूँ। रब्बी ने भी मुझे नहीं बुलाया। कुछ ज़रूर छूट रहा था...

यह जानने के बाद कि यहूदी धर्म भी उत्तर नहीं है, मैंने (अपने माता-पिता के बहुत दबाव के बाद) ईसाई धर्म को एक और बार आज़माने का सोचा। जैसा कि मैंने कहा, मेरे पास रविवार के स्कूलों के मेरे वर्षों से तकनीकी में एक अच्छी पृष्ठभूमि थी, लेकिन मैं तकनीकी के पीछे की सच्चाई को खोजने के लिए अधिक चिंतित थी। इस सब की सुंदरता क्या थी, इसकी सुरक्षा कहाँ थी और मैं इसे तार्किक रूप से कैसे स्वीकार कर सकती थी? मुझे पता था कि अगर मुझे ईसाई धर्म पर गंभीरता से विचार करना है, तो कैथोलिक धर्म खत्म हो गया है। मैं अपने शहर के हर चर्च गई थी, लूथरन, पेंटेकोस्टल, लैटर डे सेंट्स (मॉर्मन), और गैर-सांप्रदायिक चर्च। मुझे वह उत्तर नहीं मिला जिसकी मुझे तलाश थी!! यह लोगों का माहौल नहीं था जिसने मुझे दूर कर दिया; बल्कि संप्रदायों के बीच की विसंगतियों ने मुझे परेशान कर रखा था। मेरा मानना था कि एक सही तरीका होना चाहिए, तो मैं संभवतः "सही" संप्रदाय को कैसे चुन सकती थी? मेरे हिसाब से एक दयालु और कृपालु ईश्वर के लिए मानवजाति को इस तरह के विकल्प के साथ छोड़ना असंभव और अनुचित था। मैं खो चुकी थी...

खराब श्रेष्ठ

इस लेख के भाग

सभी भागो को एक साथ देखें

टिप्पणी करें

  • (जनता को नहीं दिखाया गया)

  • आपकी टिप्पणी की समीक्षा की जाएगी और 24 घंटे के अंदर इसे प्रकाशित किया जाना चाहिए।

    तारांकित (*) स्थान भरना आवश्यक है।

इसी श्रेणी के अन्य लेख

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सूची सामग्री

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास

आपकी इतिहास सूची खाली है।