L'articolo / video che hai richiesto non esiste ancora.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

요청한 문서 / 비디오는 아직 존재하지 않습니다.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

המאמר / הסרטון שביקשת אינו קיים עדיין.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

L'articolo / video che hai richiesto non esiste ancora.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

요청한 문서 / 비디오는 아직 존재하지 않습니다.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

המאמר / הסרטון שביקשת אינו קיים עדיין.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

ईसाई विद्वान बाइबिल में मतभेदों को पहचानते हैं (7 का भाग 3): नए नियम के कथित लेखक

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:

विवरण: नए नियम के कथित लेखकों के कथनों मे ईसाई विद्वानों द्वारा पाए गए मतभेदों के साक्ष्य।

  • द्वारा Misha’al ibn Abdullah (taken from the Book: What Did Jesus Really Say?)
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 2453 (दैनिक औसत: 10)
  • रेटिंग: अभी तक रेटिंग नहीं दी गई है
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0

हम बताएंगे कि प्रत्येक इंजील "के अनुसार....." परिचय के साथ शुरू होता है जैसे "संत मत्ती के अनुसार इंजील," "संत लूका के अनुसार इंजील," "संत मरकुस के अनुसार इंजील," "संत यूहन्ना के अनुसार इंजील।” सड़क पर औसत आदमी के लिए स्पष्ट निष्कर्ष यह है कि इन लोगों को उन पुस्तकों के लेखक के रूप में जाना जाता है जो उन्होंने लिखी होती हैं। हालांकि ऐसा नहीं है। क्यों? क्योंकि मौजूद चार हजार प्रतियों में से एक पर भी लेखक के हस्ताक्षर नहीं हैं। यह अभी माना गया है कि वे लेखक थे। हालाँकि, हाल की खोजें इस विश्वास का खंडन करती हैं। उदाहरण के लिए, यहां तक ​​कि आंतरिक सबूत भी साबित करते हैं कि, मत्ती के नाम पे जो इंजील है वो उन्होंने नहीं लिखा था:

"... यीशु जब वहाँ से जा रहा था तो उसने चुंगी की चौकी पर बैठे एक व्यक्ति को देखा। उसका नाम मत्ती था। यीशु ने उससे कहा, “मेरे पीछे चला आ।” इस पर मत्ती खड़ा हुआ और उसके पीछे हो लिया। (मत्ती 9:9)

यह समझने के लिए किसी को वैज्ञानिक होने की आवश्यकता नहीं है कि ना तो यीशु और ना ही मत्ती ने "मत्ती" का यह छंद लिखा है। इस तरह के प्रमाण पूरे नए नियम में कई जगहों पर पाए जा सकते हैं। हालांकि कई लोगों ने यह अनुमान लगाया है कि यह संभव है कि एक लेखक कभी-कभी तीसरे व्यक्ति में लिख सकता है, फिर भी, बाकी सबूतों के प्रकाश में जो हम इस पुस्तक में देखेंगे, इस परिकल्पना के खिलाफ बहुत अधिक सबूत हैं।

यह अवलोकन किसी भी तरह से नए नियम तक सीमित नहीं है। इस बात का भी प्रमाण है कि व्यवस्थाविवरण के कम से कम भाग ना तो ईश्वर ने लिखे थे और ना ही मूसा ने। इसे व्यवस्थाविवरण 34:5-10 में देखा जा सकता है जहाँ हम पढ़ते हैं:

"तो मूसा ... मर गए ... और उसने (सर्वशक्तिमान ईश्वर ने) उसे (मूसा को) दफनाया ... वह 120 वर्ष के थे जब वह मरे ... और मूसा की तरह इज़राइल में कोई पैगंबर नहीं पैदा हुआ ...."

क्या मूसा ने अपना मृत्युलेख स्वयं लिखा था? यहोशू 24:29-33 में यहोशू अपनी मृत्यु के बारे में भी विस्तार से बताता है। साक्ष्य वर्तमान मान्यता का अत्यधिक समर्थन करते हैं कि बाइबिल की अधिकांश पुस्तकें उनके कथित लेखकों द्वारा नहीं लिखी गई थीं।

कोलिन्स द्वारा आरएसवी के लेखकों का कहना है कि "किंग्स" के लेखक "अज्ञात" हैं। यदि वे जानते थे कि यह ईश्वर का वचन है तो वे निस्संदेह इस पर अपना नाम लिखते। इसके बजाय, उन्होंने ईमानदारी से "लेखक ... अज्ञात" कहना चुना है। लेकिन अगर लेखक अज्ञात है तो इसका श्रेय ईश्वर को ही क्यों दिया जाए? फिर यह कैसे दावा किया जा सकता है कि यह "प्रेरित" है? हम पढ़ते हैं कि यशायाह की पुस्तक के लिए "मुख्य रूप से यशायाह को श्रेय दिया जाता है। हो सकता है कि इसके भाग दूसरों के द्वारा लिखे गए हों।" सभोपदेशक: "लेखक संदेहास्पद है, लेकिन ज्यादा मुमकिन है की सुलैमान थे।” रूथ: "लेखक, निश्चित रूप से ज्ञात नहीं, शायद सैमुअल,” या कोई और।

आइए हम नए नियम की केवल एक पुस्तक पर थोड़ा और विस्तृत रूप से देखें:

"इब्रानियों की पुस्तक का लेखक अज्ञात है। मार्टिन लूथर ने ने कहा कि अपुल्लोस लेखक थे... टर्टुलियन ने कहा कि इब्रानी बरनबास का एक पत्र था... एडॉल्फ हार्नैक और जे. रेंडेल हैरिस ने अनुमान लगाया कि यह प्रिसिला (या प्रिस्का) द्वारा लिखा गया था। विलियम रैमसे ने सुझाव दिया कि यह फिलिप द्वारा लिखा गया था। हालांकि, पारंपरिक स्थिति यह है कि प्रेरित पौलुस ने इब्रानियों को लिखा... यूसेबियस का मानना था कि पॉल ने इसे लिखा है, लेकिन ओरिजन पॉलीन के लेखकत्व के प्रति सकारात्मक नहीं थे।"[1]

क्या हम इसे ऐसे "ईश्वर द्वारा प्रेरित" कहते हैं?

जैसा कि अध्याय एक में देखा गया है, सेंट पॉल और उनके बाद के चर्च ने, उनके जाने के बाद यीशु के धर्म में बहुत परिवर्तन किये और उन सभी ईसाइयों को मार दिया और प्रताड़ित किया जिन्होंने पॉलीन सिद्धांतों के पक्ष में प्रेरितों की शिक्षाओं को त्यागने से इनकार कर दिया था। पॉलीन जिस इंजील पर विश्वास करते थे उसको छोड़कर सभी को व्यवस्थित रूप से नष्ट कर दिया गया या फिर से लिखा गया। पादरी चार्ल्स एंडरसन स्कॉट ने ये कहा:

"इसकी संभावना अधिक है कि संयुक्त इंजील (मत्ती, मरकुस और लूका) में से कोई भी पौलुस की मृत्यु से पहले उस रूप में अस्तित्व में नहीं था जो हमारे पास है। और यदि दस्तावेजों को कालक्रम के सख्त क्रम में देखें, तो पॉलिन पत्री समसामयिक इंजील से पहले आये थे।"[2]

इस कथन की आगे प्रो. ब्रैंडन द्वारा पुष्टि की गई है: "प्राचीनतम ईसाई लेख जो हमारे लिए संरक्षित किए गए हैं, वे प्रेरित पौलुस के पत्र हैं"[3]

दूसरी शताब्दी के उत्तरार्ध में, कुरिन्थ के बिशप डायोनिसियस कहते हैं:

"जैसा कि भाइ ने चाहा की मै पत्र लिखूं, मैंने ऐसा ही किया, और शैतान के इन प्रेरितों ने टेआस को (अवांछनीय तत्वों से) भर दिया, कुछ चीजों का आदान-प्रदान किया और दूसरों को जोड़ा, जिनके लिए एक शोक आरक्षित है। इसलिए, यह आश्चर्य की बात नहीं है कि अगर कुछ लोगों ने ईश्वर के पवित्र लेखों में मिलावट करने का भी प्रयास किया हो, क्योंकि उन्होंने अन्य कार्यों में भी ऐसा ही करने का प्रयास किया है, जिनकी तुलना इनसे नहीं की जानी चाहिए। ”

क़ुरआन इसकी पुष्टि इन शब्दों से करता है:

"तो विनाश है उनके लिए जो अपने हाथों से पुस्तक लिखते हैं, फिर कहते हैं कि ये ईश्वर की ओर से है, ताकि उसके द्वारा तनिक मूल्य खरीदें! तो विनाश है उनके अपने हाथों के लेख के कारण! और विनाश है उनकी कमाई के कारण।” (क़ुरआन 2:79)



फुटनोट:

[1] किंग जेम्स बाइबिल के परिचय से, नया संशोधित और अद्यतन छठा संस्करण, हिब्रू/ग्रीक कुंजी अध्ययन, लाल पत्र संस्करण।

[2] आधुनिक ज्ञान के प्रकाश में ईसाई धर्म का इतिहास, पादरी चार्ल्स एंडरसन स्कॉट, पृष्ठ 338

[3] "रिलिजन इन एन्सिएंट हिस्ट्री," एस.जी.एफ. ब्रैंडन, पृष्ठ 228.

इस लेख के भाग

सभी भागो को एक साथ देखें

टिप्पणी करें

इसी श्रेणी के अन्य लेख

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

लेख की सूची बनाएं

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास

आपकी इतिहास सूची खाली है।

View Desktop Version