इस्लाम में खुशी (3 का भाग 2): खुशी और विज्ञान

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:
A- A A+

विवरण: इस्लाम खुशी प्राप्त करने के वैज्ञानिक तरीकों से सहमत है

  • द्वारा Aisha Stacey (© 2011 IslamReligion.com)
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 5,045 (दैनिक औसत: 5)
  • रेटिंग: अभी तक नहीं
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0
खराब श्रेष्ठ

HappinessinIslampart2.jpgइस्लाम में खुशी के भाग 1 में हमने पश्चिमी विचारों में खुशी के विकास और पश्चिमी संस्कृति पर इसके प्रभाव पर चर्चा की। भाग 2 में हम खुशी की परिभाषाओं की फिर से चर्चा करेंगे और विज्ञान और खुशी के बीच के संबंध के बारे में बताएंगे और यह बताएंगे कि इस्लाम की शिक्षाएं इससे कैसे संबंधित है।

मरियम वेबस्टर ऑनलाइन डिक्शनरी खुशी को संतोष या एक सुखद और संतोषजनक अनुभव के रूप में परिभाषित करती है। दार्शनिक अक्सर ख़ुशी को जीवन जीने के एक अच्छे तरीके के रूप में परिभाषित करते हैं। खुशी को सलामती की स्थिति के रूप में भी परिभाषित किया गया है, जिसमे संतोष और बहुत अधिक आनंद की भावनाएं शामिल है।

पिछले कुछ वर्षों से मनोवैज्ञानिक और शोधकर्ता दुनिया भर के लोगों का अध्ययन कर रहे हैं ताकि यह पता लगाया जा सके कि वास्तव में हमें खुशी किस चीज़ से मिलती है। क्या यह पैसा, रवैया, संस्कृति, स्मृति, स्वास्थ्य या परोपकार है? नए निष्कर्ष बताते हैं कि कार्यों का खुशी पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। "यस! पत्रिका" में खुश रहने के लिए वैज्ञानिक रूप से सिद्ध रणनीतियों की एक सूची है। आश्चर्य की बात नहीं है कि ये पूरी तरह उस से मेल खाते हैं जैसा ईश्वर और उनके पैगंबर मुहम्मद (ईश्वर की दया और कृपा उन पर बनी रहे) ने हमें बताया है, जो इस्लाम की पूर्णता का संकेत है।

खुशी को बढ़ाने के सात "वैज्ञानिक रूप से" सिद्ध तरीके नीचे दिए गए हैं।

1.तुलना से बचें।

स्टैनफोर्ड मनोवैज्ञानिक सोनजा ल्यूबोमिर्स्की[1], के अनुसार, दूसरों से अपनी तुलना करने के बजाय अपनी व्यक्तिगत उपलब्धि पर ध्यान केंद्रित करने से अधिक संतुष्टि मिलती है। क़ुरआन में ईश्वर कहता है,

"और (ऐ रसूल) जो उनमें से कुछ लोगों को दुनिया की इस ज़रा सी ज़िन्दगी की रौनक़ से निहाल कर दिया है ताकि हम उनको उसमें आज़माएँ तुम अपनी नज़रें उधर न बढ़ाओ और तुम्हारे ईश्वर की रोज़ी इससे कहीं बेहतर और स्थायी है।" (क़ुरआन 20:131)

2.तब भी मुस्कुराएं जब आपका मन न हो।

डायनर और बिस्वास-डायनर [2] कहते हैं, "खुश लोग... संभावनाओं, अवसरों और सफलता को देखते हैं। जब वे भविष्य के बारे में सोचते हैं तो वे आशावादी होते हैं, और जब वे अतीत की समीक्षा करते हैं तो वे अच्छी चीज़ों का आनंद लेते हैं।"

पैगंबर मुहम्मद (ईश्वर की दया और कृपा उन पर बनी रहे) ने कहा, "किसी भी अच्छे काम के लिए थोड़ा भी मत सोचो, भले ही वो अपने भाई का अभिवादन एक हंसमुख मुस्कान के साथ करना हो।" [3]और अपने भाई को देखकर मुस्कुराना आपकी ओर से दिया गया एक दान है।"[4]

पैगंबर मुहम्मद के साथियों में से एक ने कहा, "जिस दिन से मैंने इस्लाम स्वीकार किया है, ईश्वर के दूत मुझसे हमेशा मुस्कुराते हुए चेहरे के साथ मिलते हैं।"[5]दिवंगत इस्लामी विद्वान शेख इब्न बाज (अल्लाह उन पर दया करे) ने कहा, " एक मुस्कुराता हुआ चेहरा एक अच्छे गुण का संकेत है और अच्छे परिणाम देता है - इससे यह संकेत मिलता है कि दिल में द्वेष नहीं है और इससे लोगों के बीच स्नेह बढ़ता है"।

3.बाहर निकलें और व्यायाम करें।

ड्यूक यूनिवर्सिटी के एक अध्ययन से पता चलता है कि व्यायाम अवसाद के इलाज में दवाओं की तरह ही प्रभावी हो सकता है। पैगंबर मुहम्मद ने कहा: "एक कमजोर आस्तिक की तुलना में एक मजबूत आस्तिक ईश्वर की दृष्टि में बेहतर और अधिक प्रिय है।"[6]वह केवल विश्वास और चरित्र के संदर्भ में बात नहीं कर रहे थे, बल्कि एक आस्तिक में अच्छे स्वास्थ्य और सेहत के लक्षण भी होने चाहिए।

4.मूल्यवान दोस्त और परिवार बनाओ।

डायनर और बिस्वास-डायनर कहते हैं कि खुश लोगों के परिवार, दोस्त और सहयोगी अच्छे होते हैं। [7] "हमें सिर्फ रिश्ते नहीं बल्कि अच्छे रिश्ते की जरुरत होती है जो हमें समझ सके और हमारी देखभाल कर सके। महान ईश्वर कहते हैं:

"और ईश्वर ही की पूजा करो और उसमे किसी को शामिल न करो और माता-पिता, सगे संबंधी, अनाथों, गरीबों, नजदीक के पड़ोसियों और अजनबी पड़ोसियों, अपने साथियो जो आपके साथ हैं, अपने साथ के यात्रियों और अपने नौकरों के साथ अच्छा व्यव्हार करो। निश्चय ही ईश्वर घमंडियो और दिखावा करने वालों को पसन्द नहीं करता। (क़ुरआन 4:36)

पैगंबर मुहम्मद ने कहा, "इस जीवन में एक आस्तिक के लिए खुशी लाने वाली चीजों में एक अच्छा पड़ोसी, एक विशाल घर और एक अच्छा घोड़ा है।"[8]इस्लाम परिवारों, पड़ोसियों और समुदायों की एकजुटता पर बहुत जोर देता है।

5.पुरे दिल से धन्यवाद कहो।

लेखक रॉबर्ट एम्मन्स [9] के अनुसार जो लोग साप्ताहिक आधार पर कृतज्ञता दिखाते हैं वे स्वस्थ, अधिक आशावादी और व्यक्तिगत लक्ष्यों को प्राप्त करने की दिशा में प्रगति करने की अधिक संभावना रखते हैं।.

इस्लाम की मूल शिक्षाओं के अनुसार खुश रहने या संतुष्ट होने के लिए हमें ईश्वर का आभारी होना चाहिए, सिर्फ उसके लिए नहीं जिसे हम आशीर्वाद मानते हैं बल्कि सभी परिस्थितियों के लिए। हम जो भी स्थिति में रहें, हमें आभारी और सुनिश्चित रहना चाहिए कि जब तक हम ईश्वर की शिक्षाओं का पालन कर रहे हैं यह हमारे लिए अच्छा है। ईश्वर ने कहा:

"इसलिए तुम मुझे (ईश्वर) याद रखो और मैं तुम्हें याद रखूंगा, और मेरे प्रति आभारी रहो (मेरे अनगिनत एहसानों के लिए) और कभी भी नाशुक्री न करो।" (क़ुरआन 2:152)

"और याद करो जब ईश्वर ने घोषणा की: 'यदि आप आभारी हैं तो मैं आपको और अधिक दूंगा; परन्तु यदि तुम सच में नाशुक्री करोगे तो मेरा दण्ड बड़ा कठोर है।" (क़ुरआन 14:7)

6.दान करो, अभी दान करो!

परोपकार और दान को अपने जीवन का हिस्सा बना लो और इसके प्रति दृढ़ रहो। शोधकर्ता स्टीफन पोस्ट का कहना है कि किसी पड़ोसी की स्वेच्छा से मदद करना या वस्तुओं और सेवाओं को दान करने से अच्छी सेहत होती है और आपको व्यायाम या धूम्रपान छोड़ने की तुलना में अधिक स्वास्थ्य लाभ मिलते हैं।

इस्लाम लोगों को परिवार, दोस्तों, पड़ोसियों, अजनबियों और यहां तक कि दुश्मनों के प्रति उदार होने के लिए प्रोत्साहित करता है। क़ुरआन और पैगंबर मुहम्मद की प्रामाणिक परंपराओं में इसका बार-बार उल्लेख किया गया है।

"आप कह दें: मेरा ईश्वर जिसके लिए चाहता है जीविका को बढ़ाता और कम करता है, जो भी तुम दान करोगे वह उसका पूरा बदला देगा और वही उत्तम जीविका देने वाला है।" (क़ुरआन 34:39)

लोग पैगम्बर मुहम्मद के पास गए और पूछा, "अगर किसी के पास देने के लिए कुछ नहीं है, तो वह क्या करे?" उन्होंने कहा, "उसे अपने हाथों से काम करना चाहिए और खुद के लिए कमाना चाहिए और जो वह कमाता है उसमें से दान भी देना चाहिए।" लोगों ने आगे पूछा, "यदि वह यह भी नहीं कर पाए तो?" उन्होनें उत्तर दिया, "उसे जरूरतमंदों की मदद करनी चाहिए जो मदद के लिए पुकारते हैं।" तब लोगों ने पूछा, "यदि वो यह भी न कर पाए तो?" उन्होंने उत्तर दिया, "फिर उसे अच्छे कर्म करने चाहिए और बुरे कर्मों से दूर रहना चाहिए और यह एक धर्मार्थ का कार्य माना जाएगा।"[10]

7.धन को अपनी प्राथमिकताओं की सूची में सबसे नीचे रखें।

शोधकर्ता टिम कैसर और रिचर्ड रयान के अनुसार, जो लोग अपनी प्राथमिकता की सूची में पैसा सबसे ऊपर रखते हैं उन्हें अवसाद, चिंता और कम आत्मसम्मान का खतरा अधिक होता है। ईश्वर के दूत ने कहा, "खुश रहो, और उसकी आशा करो जो तुम्हें प्रसन्न रखे। ईश्वर की कसम, मैं नहीं डरता कि तुम गरीब हो जाओगे, लेकिन मुझे डर है कि तुम्हें सांसारिक धन दिया जाएगा जैसा कि तुमसे पहले के लोगों को दिया गया था। इस प्रकार तुम उसके लिये आपस में होड़ करोगे, जैसा उन्होंने किया था, और यह तुम्हें भी नष्ट कर देगा जैसे उनको किया था।"[11]

खुशी केवल अत्यधिक आनंद नहीं है, इसमें संतोष भी शामिल है। अगले लेख में हम इस्लाम में खुशी की भूमिका की जांच करेंगे और देखेंगे कि ईश्वर की आज्ञाओं का पालन करना धार्मिकता, संतोष और खुशी का मार्ग है।



फुटनोट:

[1] द हाउ ऑफ हैप्पीनेस: ए साइंटिफिक अप्रोच टू गेटिंग द लाइफ यू वांट, सोनजा ल्यूबोमिर्स्की, पेंगुइन प्रेस, 2008

[2] हैप्पीनेस: अनलॉकिंग द मिस्ट्रीज ऑफ साइकोलॉजिकल वेल्थ, एड डायनर और रॉबर्ट बिस्वास-डायनर, ब्लैकवेल पब्लिशिंग लिमिटेड, 2008

[3]सहीह मुस्लिम

[4]सहीह अल-बुखारी

[5]सहीह अल-बुखारी

[6]सहीह मुस्लिम

[7] हैप्पीनेस: अनलॉकिंग द मिस्ट्रीज़ ऑफ़ साइकोलॉजिकल वेल्थ, एड डायनर और रॉबर्ट बिस्वास-डायनर, ब्लैकवेल पब्लिशिंग लिमिटेड, 2008

[8] सही इस्नाद बयाल-हकीम के साथ रिपोर्ट किया गया।

[9] थैंक्स! हाउ द न्यू साइंस ऑफ़ ग्रैटिटूड कैन मेक यू हैप्पीयर, रॉबर्ट एम्मन्स, ह्यूटन मिफ्लिन कंपनी, 2007

[10]सहीह अल-बुखारी

[11] इबिड।

खराब श्रेष्ठ

इस लेख के भाग

सभी भागो को एक साथ देखें

टिप्पणी करें

  • (जनता को नहीं दिखाया गया)

  • आपकी टिप्पणी की समीक्षा की जाएगी और 24 घंटे के अंदर इसे प्रकाशित किया जाना चाहिए।

    तारांकित (*) स्थान भरना आवश्यक है।

इसी श्रेणी के अन्य लेख

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सूची सामग्री

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास

(और अधिक पढ़ें...) हटाएं