यीशु का सबसे बड़ा आदेश

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:
A- A A+

विवरण: एक ऐसा आदेश जिसका यदि पालन किया जाए, तो वह ईश्वर के राज्य से दूर नहीं होगा।

  • द्वारा Imam Mufti
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 21 May 2023
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 2,995 (दैनिक औसत: 3)
  • रेटिंग: अभी तक नहीं
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0
खराब श्रेष्ठ

Jesus__Greatest_Commandment_001.jpgआदमी एक शिक्षक था। उसने मूसा के सिद्धांत सिखाये। वह यह देखकर मोहित हो गया कि यीशु ने कपटियों और घृणा करने वालों के प्रश्नों का बुद्धिमानी से उत्तर दिया:

"कानून के शिक्षकों में से एक आया और उन्हें बहस करते सुना। यह देखते हुए कि यीशु ने उन्हें अच्छा उत्तर दिया है, उस ने उस से पूछा, 'सब आज्ञाओं में से सबसे महत्वपूर्ण कौन सी है?'"

उन्होंने महसूस किया कि यह उनके लिए महान शिक्षक यीशु से पूछने का मौका था, सबसे महत्वपूर्ण आज्ञा क्या थी, वह कैसे बच सकता है, जीवन में कैसे प्रवेश और ईश्वर के राज्य में कैसे प्रवेश कर सकता।

अब, हमें अपने सभी पूर्वाग्रहों को, रविवार के स्कूलों में हमें जो कुछ सिखाया गया है, और नश्वर पुरुषों की सभी शिक्षाओं को त्यागने की जरूरत है। जो लोग यीशु से प्यार करते हैं, उन्हें यीशु को बात करने देना चाहिए:

"सबसे महत्वपूर्ण," यीशु ने उत्तर दिया, "यह है: 'हे इस्राईल, सुन, हमारे ईश्वर यहोवा एक है। अपने ईश्वर यहोवा से अपने सारे मन और अपने सारे प्राण और अपनी सारी बुद्धि और अपनी सारी शक्ति से प्रेम करना।'"

एक महान प्रश्न का एक महान उत्तर: ईश्वर को स्वीकार करें कि हमारा ईश्वर एक है, उससे प्रेम करें, और अपनी सर्वोत्तम क्षमता से उससे प्रार्थना करें।

यीशु यहीं न रुके। उनके पास सिखाने के लिए और भी बहुत कुछ था। जाहिर है, यीशु उस आदमी को वह सब कुछ सिखा रहे थे जो उसे ईश्वर के राज्य में प्रवेश करने के लिए आवश्यक था। यीशु ने कहा:

"... दूसरा यह है: 'अपने पड़ोसी से अपने समान प्रेम करो।'"

महान शिक्षक ने आगे स्पष्ट किया:

"इन से बड़ी कोई आज्ञा नहीं है"

जिस व्यक्ति ने यीशु से प्रश्न किया, उसने यह सुनिश्चित करने के लिए आदेशों को दोहराया कि उसने उन्हें सही ढंग से सुना है:

मरकुस 12:32 "'अच्छा कहा, शिक्षक,' उस व्यक्ति ने उत्तर दिया. 'आप सही कह रहे हो कि ईश्वर एक है और उसके अलावा कोई दूसरा नहीं है …'"

यीशु ने देखा कि उस आदमी ने सबसे बड़ी आज्ञा को सही ढंग से सीखा था, उसने उसे खुशखबरी दी:

मरकुस 12:34 "जब यीशु ने देखा, कि उसने बुद्धिमानी से उत्तर दिया है, तो उस ने उस से कहा, तू ईश्वर के राज्य से दूर नहीं है।’"

इस कहानी में कुछ महत्वपूर्ण सबक हैं:

पहला, यीशु ने मनुष्य को उससे अधिक सिखाया, फिर भी उसने यह नहीं कहा कि वह ईश्वर का पुत्र था, या कि उद्धारकर्ता को उसके पाप से मानवजाति को बचाने के लिए भेजा गया था। उन्होंने ऐसा कुछ भी नहीं कहा जैसा कि लोगों को मसीह में 'फिर से जन्म लेने' के लिए दोहराने का निर्देश दिया गया है, "आपको व्यक्तिगत रूप से मुझे स्वीकार करना चाहिए, मुझे ईश्वर के पुत्र के रूप में स्वीकार करना चाहिए, आपका व्यक्तिगत ईश्वर और उद्धारकर्ता जो तेरे पापो के लिए सूली पर मर जाएगा, और फिर जी उठेगा। पवित्र आत्मा तुम्हे भर दे..."

सिर्फ वो सुने जो यीशु ने कहा और उसे छोड़ दें जो अन्य लोगों ने जोड़ा है।

दूसरा, उद्धार इसी आज्ञा पर निर्भर करता है। यीशु ने इसे तब स्पष्ट किया जब एक अन्य व्यक्ति यीशु से सीखने के लिए उसके पास आया (मरकुस 10:17-29)। वह आदमी अपने घुटनों पर गिर गया और यीशु से कहा:

मार्क 10:17-18 "अच्छे गुरु, अनन्त जीवन का अधिकारी होने के लिये मैं क्या करूं?" यीशु ने उत्तर दिया: "तुम मुझे अच्छा क्यों कहते हो? कोई भी अच्छा नहीं है - केवल ईश्वर को छोड़कर"

तीसरा, यीशु पुष्टि करते हैं कि इनसे बड़ी कोई आज्ञा नहीं है। अगर कोई सोचे कि सबसे बड़ी आज्ञा बाद में बदल दी गई हो तो, इसके लिए यीशु ने हमें बताया:

मत्ती 5:17-19 "मैं तुमसे सच कहता हूँ कि जैसे आकाश और पृथ्वी कभी नहीं मिटेंगे, वैसे ही कानून में लिखा छोटे-से-छोटा अक्षर या बिंदु भी बिना पूरा हुए नहीं मिटेगा, उसमें लिखी एक-एक बात पूरी होगी। इसलिए अगर कोई इसकी छोटी आज्ञाओं में से किसी एक को भी तोड़ता है और दूसरों को भी ऐसा करना सिखाता है, तो वह स्वर्ग के राज में दाखिल होने के लायक नहीं होगा। मगर जो इन्हें मानता है और दूसरों को भी ऐसा करना सिखाता है, वह स्वर्ग के राज में दाखिल होने के लायक होगा।"

चौथा, जो कोई भी यीशु से प्रेम करता है और जीवन में प्रवेश करना चाहता है, उसे यीशु की सबसे बड़ी आज्ञा का पालन करना चाहिए जैसा उन्होंने कहा था:

यूहन्ना 14:15 "यदि तुम मुझ से प्रेम रखते हो, तो मेरी आज्ञाओं को मानो।"

मत्ती 19:17 "यदि तुम जीवन में प्रवेश करना चाहते हो, तो आज्ञाओं का पालन करो।"

पांचवा, एक सच्चे मसीही को यीशु की कही हुई बातों को उसके शब्दों को मोड़े बिना या उनमें छिपे अर्थ को खोजे बिना स्वीकार करना चाहिए। यीशु ने ठीक वही सिखाया जो मूसा ने उससे करीब 2,000 साल पहले सिखाया था:

व्यवस्थाविवरण 6:4-5 "हे इस्राएल, सुन, यहोवा हमारा ईश्वर है, यहोवा एक ही है। अपने ईश्वर से अपने सारे मन और अपने सारे प्राण और अपनी सारी शक्ति से प्रेम रखना।"

यीशु (ईश्वर की दया और आशीर्वाद उन पर हो) ने वही शाश्वत सत्य सिखाया जो ईश्वर के सभी पैगंबरो ने अपने लोगों को सिखाया: ईश्वर एक है, केवल उसी से प्रार्थना करो।

व्यवस्थाविवरण 6:13 "अपने ईश्वर यहोवा से डरो, केवल उसी की उपासना करो, और उसके नाम की शपथ लो।"

व्यवस्थाविवरण 5:7 "मेरे सिवा तुम्हारा कोई दूसरा ईश्वर न होगा।"

यशायाह 43:11 "मैं तुम्हारा ईश्वर हूं और मेरे सिवा कोई उद्धारकर्ता नहीं।"

होशे 13:4 "मैं तुम्हारा ईश्वर हूं, जो तुम्हें मिस्र से निकाल लाया। तुम मेरे अलावा किसी ईश्वर को स्वीकार न करो, मेरे अलावा कोई उद्धारकर्ता नहीं है।"

भजन संहिता 95:6-7 "आओ, हम झुककर प्रार्थना करें, हम अपने निर्माता यहोवा के सामने घुटने टेकें। क्योंकि हम उसके चरागाह के लोग हैं और उसकी आवाज की भेड़ें हैं और वह हमारा ईश्वर है।"

यीशु ने शैतान को भी इस शिक्षा पर बल दिया:

मत्ती 4:10 "हे शैतान, मुझ से दूर हो! क्योंकि लिखा है, अपने ईश्वर यहोवा की उपासना करो, और केवल उसी की उपासना करो।"

छठा, क़ुरआन यीशु की सबसे बड़ी आज्ञा की पुष्टि करता है। क़ुरआन हमें बिल्कुल सिखाता है कि ईश्वर ने सभी पैगंबरो को एक ही शिक्षा के साथ भेजा: केवल एक सच्चे ईश्वर की पूजा करना।

"... और तुम्हारा पूज्य एक ही पूज्य है, उस अत्यंत दयालु, दयावान के सिवा कोई पूज्य नहीं। ..." (क़ुरआन 2:163)

"और तेरे पालनहार ने आदेश दिया है कि उसके सिवा किसी की वंदना न करो..." (क़ुरआन 17:23)

"और नहीं भेजा हमने आपसे पहले कोई भी दूत, परन्तु उसकी ओर यही वह़्यी प्रकाशना करते रहे कि मेरे सिवा कोई पूज्य नहीं है। अतः मेरी ही वंदना करो।' (क़ुरआन 21:25)

सातवां, पुनरुत्थान के दिन, क़ुरआन हमें बताता है कि ईश्वर यीशु से पूछेगा:

"तथा जब ईश्वर (प्रलय के दिन) कहेगाः हे मरयम के पुत्र यीशु! क्या तुमने लोगों से कहा था कि ईश्वर को छोड़कर मुझे तथा मेरी माता को पूज्य बना लो?'" (क़ुरआन 5:116)

यीशु जवाब देंगे:

"वह कहेगाः तू पवित्र है, मुझसे ये कैसे हो सकता है कि ऐसी बात कहूँ, जिसका मुझे कोई अधिकार नहीं? यदि मैंने कहा होगा, तो तुझे अवश्य उसका ज्ञान हुआ होगा। तू मेरे मन की बात जानता है और मैं तेरे मन की बात नहीं जानता। वास्तव में, तू ही परोक्ष (ग़ैब) का अति ज्ञानी है। मैंने केवल उनसे वही कहा था, जिसका तूने आदेश दिया था कि ईश्वर की पूजा करो, जो मेरा पालनहार तथा तुम सभी का पालनहार है। मैं उनकी दशा जानता था, जब तक उनमें था और जब तूने मेरा समय पूरा कर दिया, तो तू ही उन्हें जानता था और तू प्रत्येक वस्तु से सूचित है। यदि तू उन्हें दण्ड दे, तो वे तेरे दास (बन्दे) हैं और यदि तू उन्हें क्षमा कर दे, तो वास्तव में तू ही प्रभावशाली गुणी है। "(क़ुरआन 5:116-118)

खराब श्रेष्ठ

टिप्पणी करें

  • (जनता को नहीं दिखाया गया)

  • आपकी टिप्पणी की समीक्षा की जाएगी और 24 घंटे के अंदर इसे प्रकाशित किया जाना चाहिए।

    तारांकित (*) स्थान भरना आवश्यक है।

इसी श्रेणी के अन्य लेख

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सूची सामग्री

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास

आपकी इतिहास सूची खाली है।