L'articolo / video che hai richiesto non esiste ancora.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

요청한 문서 / 비디오는 아직 존재하지 않습니다.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

המאמר / הסרטון שביקשת אינו קיים עדיין.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

L'articolo / video che hai richiesto non esiste ancora.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

요청한 문서 / 비디오는 아직 존재하지 않습니다.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

המאמר / הסרטון שביקשת אינו קיים עדיין.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

इस्लाम में मरियम (3 का भाग 1)

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:

विवरण: मरयम की इस्लामी अवधारणा पर चर्चा करने वाले तीन लेख में से पहला: भाग 1: उनका बचपन।

  • द्वारा M. Abdulsalam (© 2006 IslamReligion.com)
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 220 (दैनिक औसत: 3)
  • रेटिंग: अभी तक रेटिंग नहीं दी गई है
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0

यीशु की माँ मरियम का इस्लाम में एक विशेष स्थान है, और ईश्वर उन्हें सभी मनुष्यों में सबसे अच्छी महिला होने की घोषणा करता है, जिसे ईश्वर ने उसकी पवित्रता और भक्ति के कारण अन्य सभी महिलाओं से ऊपर चुना है।

"और (याद करो) जब फरिश्तों ने मरयम से कहाः हे मरयम! तुझे ईश्वर ने चुन लिया तथा पवित्रता प्रदान की और संसार की स्त्रियों पर तुझे चुन लिया। हे मरयम,! अपने पालनहार की आज्ञाकारी रहो, सज्दा करो तथा रुकूअ करने वालों के साथ रुकूअ करती रहो।" (क़ुरआन 3:42-43)

उन्हें भी ईश्वर द्वारा अनुसरण करने के लिए एक उदाहरण बनाया गया था, जैसा कि ईश्वर कहता है:

"तथा मरयम, इमरान की पुत्री का, जिसने रक्षा की अपने सतीत्व की, तो फूँक दी हमने उसमें अपनी ओर से रूह़ (आत्मा) तथा उस (मरयम) ने सच माना अपने पालनहार की बातों और उसकी पुस्तकों को और वह इबादत करने वालों में से थी।” (क़ुरआन 66:12)

वास्तव में वह एक ऐसी महिला थी जो यीशु जैसा चमत्कार पैदा कर सकती थी, जो बिना पिता के पैदा हुए थे। वह अपनी पवित्रता और शुद्धता के लिए जानी जाती थी, और अगर ऐसा नही होता, तो कोई भी कौमार्य की स्थिति में रहते हुए जन्म देने के उसके दावे पर विश्वास न करता, एक ऐसा विश्वास और तथ्य जिसे इस्लाम सत्य मानता है। उनका विशेष स्वभाव ऐसा था जिससे बचपन से ही अनेक चमत्कार सिद्ध हुए। आइए हम बताते हैं कि मरियम की सुंदर कहानी के संबंध में ईश्वर ने क्या प्रकट किया।

मरियम का बचपन

"वस्तुतः, ईश्वर ने आदम, नूह़, इब्राहीम की संतान तथा इमरान की संतान को संसार वासियों में चुन लिया था। ये एक-दूसरे की संतान हैं और ईश्वर सब सुनता और जानता है। जब इमरान की पत्नी ने कहाः हे मेरे पालनहार! जो मेरे गर्भ में है, मैंने तेरे लिए उसे समर्पित करने की मनौती मान ली है। तू इसे मुझसे स्वीकार कर ले। वास्तव में, तू ही सब कुछ सुनता और जानता है।" (क़ुरआन 3:33-35)

मरियम का जन्म इमरान और उसकी पत्नी हन्ना से हुआ था, जो दाउद वंश की थी, इस प्रकार वह पैगंबरो के परिवार से थी, आदम से, नूह से और इब्राहिम(उन सभी पर ईश्वर की शांति और आशीर्वाद हो)। जैसा कि छंद में उल्लेख किया गया है, वह इमरान के चुने हुए परिवार में पैदा हुई थी, इमरान इब्राहीम के चुने हुए परिवार में पैदा हुए थे, इब्राहीम एक चुने हुए परिवार में भी पैदा हुए थे। हन्ना एक बांझ महिला थी जो एक बच्चे के लिए तरसती थी, और उसने ईश्वर से एक मन्नत मांगी कि अगर उसने उसे एक बच्चा दिया, तो वह उसे ईश्वर की सेवा के लिए समर्पित करेगी। ईश्वर ने उसकी प्रार्थना का उत्तर दिया, और वो गर्भवती हो गई। जब उसने जन्म दिया, तो वह दुखी हुई क्योंकि उसने एक लड़की को जन्म दिया था, और आमतौर पर बैत-उल-मकदीस की सेवा में पुरुषों को दिया जाता था।

"तो जब उसने उसे जन्म दिया, तो उसने कहा, 'मेरे ईश्वर! मैंने एक स्त्री को जन्म दिया है... और स्त्री पुरुष के समान नहीं है।”

जब उसने अपना दुख व्यक्त किया, तो ईश्वर ने उसे यह कहते हुए उत्तर दिया:

"... जो उसने जना, उसका ईश्वर को भली-भाँति ज्ञान था..." (क़ुरआन 3:36)

... क्योंकि ईश्वर ने उसकी बेटी मरयम को सृष्टि के सबसे महान चमत्कारों में से एक की मां बनने के लिए चुना था: यीशु (ईश्वर की दया और आशीर्वाद उन पर हो) का कुंवारी माँ से जन्म । हन्ना ने अपनी बच्ची का नाम मैरी (अरबी में मरयम) रखा और उसे और उसके बच्चे को शैतान से बचाने के लिए ईश्वर का आह्वान किया:

"... और मैंने उसका नाम मरयम रखा है और मैं उसे तथा उसकी संतान को धिक्कारे हुए शैतान से तेरी शरण में देती हूँ।" (क़ुरआन 3:36)

ईश्वर ने वास्तव में उसकी इस प्रार्थना को स्वीकार कर लिया, और उसने मरयम और जल्द ही उससे पैदा होने वाले बच्चे यीशु को एक विशेष गुण दिया - जो उससे पहले और बाद में किसी को नहीं दिया गया था; उनमें से किसी को भी जन्म के समय शैतान ने स्पर्श नहीं किया था। पैगंबर मुहम्मद (ईश्वर की दया और कृपा उन पर बनी रहे) ने कहा:

"किसी के भी पैदा होने पर शैतान उन्हें छूता है, मरयम और उसके बेटे (यीशु) को छोड़कर, उसने उन्हें स्पर्श करना चाहा वहां से चिल्लाता हुआ भाग गया।" (अहमद)

यहाँ हम मैरी और यीशु के "बेदाग गर्भाधान" के इस कथन और ईसाई सिद्धांत के बीच एक समानता देख सकते हैं, हालांकि दोनों के बीच एक बड़ा अंतर है। इस्लाम 'मूल पाप' के सिद्धांत का प्रचार नहीं करता है, और इसलिए इस व्याख्या की निंदा नहीं करता है कि वे शैतान के स्पर्श से कैसे मुक्त थे, बल्कि यह कि यह ईश्वर द्वारा मरयम और उनके पुत्र यीशु को दिया गया एक अनुग्रह था। अन्य पैगंबरो की तरह, यीशु को गंभीर पाप करने से बचाया गया था। जहाँ तक मरियम का प्रश्न है, भले ही हम यह मान लें कि वह पैगंबर नहीं थी, फिर भी उसे ईश्वर का संरक्षण और मार्गदर्शन प्राप्त हुआ, जो वह पवित्र विश्वासियों को देता है।

"तो तेरे पालनहार ने उसे भली-भाँति स्वीकार कर लिया तथा उसका अच्छा प्रतिपालन किया और ज़करिय्या को उसका संरक्षक बनाया।" (कुरान 3:37)

मरियम के जन्म पर, उसकी माँ हन्ना उन्हें बैत-उल-मकदीस के पास ले गई और उसको मस्जिद के लोगों के संरक्षण में देने की पेशकश की। उनके परिवार के बड़प्पन और धर्मपरायणता को जानकर, वे झगड़ पड़े कि उसे पालने का सम्मान किसको मिलेगा। वे पर्ची डालने के लिए सहमत हुए, और यह कोई और नहीं बल्कि पैगंबर ज़करिय्या थे, जिसे मरयम की देखभाल के लिए चुना गया था। वह उनकी देखरेख और संरक्षण में थी, जिन्होंने उनका पालन-पोषण किया।

उनकी उपस्थिति में चमत्कार और स्वर्गदूतों का उनसे मिलने आना

जैसे-जैसे मरयम बड़ी होती गई, पैगंबर ज़करिय्या ने भी मरयम की उपस्थिति में होने वाले विभिन्न चमत्कारों के कारण उनकी विशेष विशेषताओं पर ध्यान दिया। मरयम जब बड़ी हो रही थी, उन्हें मस्जिद के भीतर एक एकांत कमरा दिया गया, जहाँ वह खुद को ईश्वर की पूजा के लिए समर्पित करती थी। जब भी ज़करिय्या उसकी ज़रूरतों को देखने के लिए कक्ष में प्रवेश करते, तो उन्हें वहां बहुत से बिना मौसम वाले फल मिलते।

"ज़करिय्या जबभी उसके उपासना कक्ष में जाते, तो उसके पास कुछ खाद्य पदार्थ पाते, वह कहते कि हे मरयम! ये कहाँ से आया है? वह कहतीः ये ईश्वर के पास से आया है। वास्तव में, ईश्वर जिसे चाहता है, अगणित जीविका प्रदा करता है।' (कुरान 3:37)

एक से अधिक अवसरों पर स्वर्गदूतों उनसे मिलने आये थे। ईश्वर हमें बताता है कि स्वर्गदूतों ने उससे मुलाकात की और उसे मानवता के बीच उसकी प्रशंसा की स्थिति के बारे में बताया:

"और (याद करो) जब फरिश्तों ने मरयम से कहाः हे मरयम! तुझे ईश्वर ने चुन लिया तथा पवित्रता प्रदान की और संसार की स्त्रियों पर तुझे चुन लिया। हे मरयम,! अपने पालनहार की आज्ञाकारी रहो, सज्दा करो तथा रुकूअ करने वालों के साथ रुकूअ करती रहो।" (क़ुरआन 3:42-43)

स्वर्गदूतों की इन यात्राओं और उन्हें अन्य महिलाओं से ऊपर चुने जाने के कारण, कुछ लोगों ने माना है कि मरयम एक पैगंबर थीं। भले ही वह नहीं थी, जो बहस का विषय है, इस्लाम अभी भी उन्हें अपनी पवित्रता और भक्ति के कारण, और यीशु के चमत्कारी जन्म के लिए चुने जाने के कारण सृष्टि की सभी महिलाओं में सर्वोच्च दर्जा देता है।

 

 

इस्लाम में मरियम (3 का भाग 2)

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:

विवरण: मरयम की इस्लामी अवधारणा पर चर्चा करने वाले तीन लेख में से दूसरा लेख: भाग 2: उसकी घोषणा।

  • द्वारा M. Abdulsalam (© 2006 IslamReligion.com)
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 181 (दैनिक औसत: 2)
  • रेटिंग: अभी तक रेटिंग नहीं दी गई है
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0

उनकी घोषणा

ईश्वर हमें उस उदाहरण के बारे में बताता है जब स्वर्गदूतों ने मरियम को एक बच्चे की और पृथ्वी पर उसके दर्जे और कुछ चमत्कार जो वह करेगा, उसकी खुशखबरी दी:

"जब स्वर्गदूतो ने कहाः हे मरयम! ईश्वर तुझे अपने एक शब्द की शुभ सूचना दे रहा है, जिसका नाम मसीह़ ईसा पुत्र मरयम होगा। वह लोक-प्रलोक में प्रमुख तथा (मेरे) समीपवर्तियों में होगा। वह लोगों से गोद में तथा अधेड़ आयु में बातें करेगा और सदाचारियों में होगा। मरयम ने (आश्चर्य से) कहाः मेरे पालनहार! मुझे पुत्र कहाँ से होगा, मुझे तो किसी पुरुष ने हाथ भी नहीं लगाया है? उसने कहाः इसी प्रकार ईश्वर जो चाहता है, उत्पन्न कर देता है। जब वह किसी काम के करने का निर्णय कर लेता है, तो उसके लिए कहता है किः "हो जा", तो वह हो जाता है। और ईश्वर उसे पुस्तक तथा प्रबोध और तौरात तथा इंजील की शिक्षा देगा।” (क़ुरआन 3:45-48)

यह बाइबिल में उल्लिखित शब्दों की तरह लगता है:

"डरो मत, मरियम, क्योंकि तुम पर ईश्वर का अनुग्रह है और देख, तू गर्भ में गर्भवती होगी, और तेरा एक पुत्र होगा, और उसका नाम यीशु रखना।”

चकित होकर उसने उत्तर दिया:

"यह कैसे हो सकता है, क्योंकि मैं तो किसी आदमी को नहीं जानती?" (लूका 1:26-38)

यह उदाहरण उसके लिए एक बड़ी परीक्षा थी, क्योंकि उसकी महान धर्मपरायणता और भक्ति सभी को ज्ञात थी। वह जानती थी कि लोग उस पर बदचलन होने का आरोप लगाएंगे।

क़ुरआन के अन्य छंदों में, ईश्वर, जिब्रईल द्वारा घोषणा के अधिक विवरण बताता है कि वह एक पैगंबर को जन्म देगी।

"फिर उनकी ओर से पर्दा कर लिया, तो हमने उसकी ओर अपनी रूह़ (आत्मा) को भेजा, तो उसने उसके लिए एक पूरे मनुष्य का रूप धारण कर लिया। उसने कहाः मैं शरण माँगती हूँ अत्यंत कृपाशील की तुझ से, यदि तुझे ईश्वर का कुछ भी भय हो। उसने कहाः मैं तेरे पालनहार का भेजा हुआ हूँ, ताकि तुझे एक पुनीत बालक प्रदान कर दूँ।" (क़ुरआन 19:17-19)

एक बार, जब मरयम अपनी जरूरतों के लिए मस्जिद से निकली, तो स्वर्गदूत जिब्रईल एक आदमी के रूप में उसके पास आया। वह आदमी की निकटता के कारण भयभीत थी, और उसने ईश्वर से शरण मांगी। जिब्रईल ने तब उससे कहा कि वह कोई साधारण व्यक्ति नहीं है, बल्कि वह एक स्वर्गदूत है जिसे ईश्वर ने उसे यह बताने के लिए भेजा है कि वह एक शुद्ध बच्चे को जन्म देगी। वह आश्चर्य से बोली

"वह बोलीः ये कैसे हो सकता है कि मेरे बालक हों, जबकि किसी पुरुष ने मुझे स्पर्श भी नहीं किया है और न मैं व्यभिचारिणी हूँ?" (क़ुरआन 19:20)

स्वर्गदूत ने समझाया कि यह एक ईश्वरीय आदेश है, जिसे पहले ही दिया जा चुका है, और यह वास्तव में सर्वशक्तिमान ईश्वर के लिए बहुत आसान है। ईश्वर ने कहा कि यीशु (ईश्वर की दया और आशीर्वाद उन पर हो) का जन्म, ईश्वर की सर्वशक्तिमानता का प्रतीक होगा, और जैसे उसने बिना पिता या माता के आदम को बनाया, उसने बिना पिता के यीशु को बनाया।

"स्वर्गदूत ने कहाः ऐसा ही होगा, तेरे पालनहार का वचन है कि वह मेरे लिए अति सरल है और ताकि हम उसे लोगों के लिए एक निशानी बनायें तथा अपनी विशेष दया से और ये एक निश्चित बात है।” (क़ुरआन 19:21)

ईश्वर ने यीशु की आत्मा को स्वर्गदूत जिब्रईल के माध्यम से मरियम में फूंक दिया, और यीशु मरियम के गर्भ में आ गए, जैसा कि ईश्वर एक अलग अध्याय में कहता है:

"तथा इमरान की पुत्री मरयम, जिसने रक्षा की अपने सतीत्व की, तो फूँक दी हमने उसमें अपनी ओर से रूह़ (आत्मा)।" (क़ुरआन 66:12)

जब गर्भावस्था के लक्षण स्पष्ट हो गए, तो मरयम और भी चिंतित हो गई कि लोग उसके बारे में क्या कहेंगे। उसकी खबर दूर-दूर तक फैल गई और, जैसा कि अपरिहार्य था, कुछ ने उस पर बदचलन होने का आरोप लगाना शुरू कर दिया। ईसाई विश्वास के विपरीत कि यूसुफ ने मरयम का समर्थन किया था, इस्लाम इस बात को कायम रखता है कि मरयम का ना तो मंगेतर था, ना ही उसका किसी ने समर्थन किया था और ना ही उसकी शादी हुई थी, और इन कारणों की वजह से ही उसे इतनी पीड़ा झेलनी पड़ी। वह जानती थी कि लोग उसकी गर्भावस्था की स्थिति का एकमात्र तार्किक निष्कर्ष निकालेंगे, कि किसी ने उससे विवाह करके उसे छोड़ दिया है। मरयम ने खुद को लोगों से अलग कर लिया और एक अलग देश में चली गई। ईश्वर कहता है:

"फिर वह गर्भवती हो गई तथा उस गर्भ को लेकर दूर स्थान पर चली गयी। फिर प्रसव पीड़ा उसे एक खजूर के तने तक ले आई। ” (कुरान 19:22-23)

 

 

इस्लाम में मरियम (3 का भाग 3)

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:

विवरण: मरयम की इस्लामी अवधारणा पर चर्चा करने वाले तीन लेखों का तीसरा और आखिरी लेख: भाग 3: यीशु का जन्म, और इस्लाम द्वारा यीशु की माँ मरियम को दिया गया महत्व और सम्मान।

  • द्वारा M. Abdulsalam (© 2006 IslamReligion.com)
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 250 (दैनिक औसत: 3)
  • रेटिंग: अभी तक रेटिंग नहीं दी गई है
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0

यीशु का जन्म

प्रसव की शुरुआत में, वह मानसिक और शारीरिक रूप से अत्यधिक दर्द में थी। ऐसी धर्मपरायण और कुलीन महिला बिना विवाह के बच्चे को कैसे जन्म दे सकती है? हमें यहां यह बताना चाहते हैं कि मरयम की गर्भावस्था सामान्य थी। जो अन्य महिलाओं के जैसे ही थी, और दूसरों की तरह अपने बच्चे को जन्म दिया। ईसाई विश्वास के अनुसार, मरयम को प्रसव का दर्द नहीं हुआ था, क्योंकि ईसाई धर्म और यहूदी धर्म मासिक धर्म और परेशानी को हव्वा के पाप के लिए महिलाओं पर एक अभिशाप मानते हैं।[1] इस्लाम ना तो इसका समर्थन करता है, और ना ही 'मूल पाप' के सिद्धांत को, बल्कि इस बात पर जोर देता है कि कोई भी दूसरों के पाप का बोझ नहीं उठाता:

"... कोई भी कुकर्म करेगा, तो उसका भार उसी के ऊपर होगा और कोई किसी दूसरे का बोझ नहीं उठायेगा..." (क़ुरआन 6:164)

इसके अलावा, ना तो क़ुरआन और ना ही पैगंबर मुहम्मद (ईश्वर की दया और कृपा उन पर बनी रहे) ने कभी उल्लेख किया कि वह हव्वा ही थी जिसने पेड़ से फल खाया और आदम को लुभाया। बल्कि, क़ुरआन दोष या तो सिर्फ आदम पर डालता है, या उन दोनों पर:

"तो शैतान ने दोनों को संशय में डाल दिया... तो उन दोनों को धोखे से रिझा लिया। फिर जब दोनों ने उस वृक्ष का स्वाद लिया, तो उनके लिए उनके गुप्तांग खुल गये" (क़ुरआन 7:20-22)

मरियम ने अपनी पीड़ा और दर्द के कारण कामना की कि वह कभी पैदा ही नहीं हुई होती, और कहा:

"क्या ही अच्छा होता, मैं इससे पहले ही मर जाती और भूली-बिसरी हो जाती।" (क़ुरआन 19:23)

बच्चे को जन्म देने के बाद, और जब उसकी पीड़ा और अधिक गंभीर नहीं हो सकती थी, नवजात शिशु, यीशु (ईश्वर की दया और आशीर्वाद उन पर हो) उसके नीचे से चमत्कारिक रूप से चिल्लाया, उसे खुश किया और उसे आश्वस्त किया कि ईश्वर उसकी रक्षा करेगा:

"तो उसके नीचे से पुकारा कि उदासीन न हो, तेरे पालनहार ने तेरे नीचे एक स्रोत बहा दिया है। और हिला दे अपनी ओर खजूर के तने को, तुझपर गिरायेगा वह ताज़ी पकी खजूरें। अतः, खा, पी तथा आँख ठण्डी कर। फिर यदि किसी पुरुष को देखे, तो कह देः वास्तव में, मैंने मनौती मान रखी है, अत्यंत कृपाशील के लिए व्रत की। अतः, मैं आज किसी मनुष्य से बात नहीं करूँगी।" (क़ुरआन 19:24-26)

मरयम ने आश्वस्त महसूस किया। यह यीशु के हाथों किया गया पहला चमत्कार था। उसने अपनी माँ से उसके जन्म पर आश्वस्त होकर बात की, और एक बार फिर जब लोगों ने उसे अपने नवजात शिशु को ले जाते देखा। जब उन्होंने उसे देखा, तो उन्होंने उस पर यह कहते हुए आरोप लगाया:

"सबने कहाः हे मरयम! तूने बहुत बुरा किया..." (क़ुरआन 19:27)

उसने केवल यीशु की ओर इशारा किया, और उसने चमत्कारिक ढंग से बात की, जैसा कि ईश्वर ने घोषणा पर उससे वादा किया था।

"वह पालने में और पुरुषत्व में रहते हुए लोगों से बातें करेगा, और वह धर्मियों में से एक होगा।" (क़ुरआन 3:46)

यीशु ने लोगों से कहा:

"मैं ईश्वर का भक्त हूँ। उसने मुझे पुस्तक (इन्जील) दी है तथा मुझे पैगंबर बनाया है। तथा मुझे शुभ बनाया है, जहाँ रहूँ और मुझे आदेश दिया है प्रार्थना तथा दान का, जब तक जीवित रहूँ। तथा आपनी माँ का सेवक (बनाया है) और उसने मुझे क्रूर तथा अभागा नहीं बनाया है। तथा शान्ति है मुझपर, जिस दिन मैंने जन्म लिया, जिस दिन मरूँगा और जिस दिन पुनः जीवित किया जाऊँगा।” (क़ुरआन 19:30-33)

यहाँ से यीशु का प्रकरण शुरू होता है, लोगों को ईश्वर की आराधना के लिए बुलाने का उनका आजीवन संघर्ष, उन यहूदियों की साजिशों और योजनाओं से बचना जो उन्हें मारने का प्रयास करेंगे।

इस्लाम में मरियम

हम पहले ही उस महान स्थिति पर चर्चा कर चुके हैं, जो इस्लाम मरियम को देता है। इस्लाम उन्हें बनाई गई महिलाओं में सबसे उत्तम होने का दर्जा देता है। क़ुरआन में, मरियम से ज्यादा किसी औरत को तवज्जो नहीं दी गई, भले ही आदम को छोड़कर सभी पैगंबरो की मांएं थीं। क़ुरआन के 114 अध्यायों में से, वह उन आठ लोगों में से है जिनके नाम पर एक अध्याय है, उन्नीसवां अध्याय "मरियम", जो अरबी में मैरी है। क़ुरआन के तीसरे अध्याय का नाम उनके पिता इमरान (हेली) के नाम पर रखा गया है। अध्याय मरियम और इमरान क़ुरआन के सबसे खूबसूरत अध्यायों में से हैं। इसके अलावा, मरयम एकमात्र महिला हैं जिन्हें विशेष रूप से क़ुरआन में नामित किया गया है। पैगंबर मुहम्मद ने कहा:

"दुनिया की सबसे अच्छी महिलाएं चार हैं: मैरी (मरियम) हेली की बेटी, आसिया फिरौन की पत्नी, खदीजा बिन्त खुवेलिद (पैगंबर मुहम्मद की पत्नी), और फातिमा, ईश्वर के दूत मुहम्मद की बेटी।" (अल-तिर्मिज़ी)

इन सभी गुणों के बावजूद, जिनका हमने उल्लेख किया है, मरयम और उनके पुत्र यीशु केवल मानव थे, और उनमें कोई विशेषता नहीं थी जो मानवता के दायरे से परे थी। वे दोनों सृजित प्राणी थे और दोनों का "जन्म" इस संसार में हुआ था। यद्यपि वे गंभीर पाप करने से बचने के लिए ईश्वर की विशेष देखभाल के अधीन थे (यीशु के मामले में पूरी सुरक्षा अन्य पैगंबरो की तरह, और मैरी के मामले में अन्य धर्मी व्यक्तियों की तरह आंशिक सुरक्षा, अगर हम यह माने कि वह एक पैगंबर नहीं थी तो), वे अभी भी गलतियाँ करने के लिए प्रवृत्त थे। ईसाई धर्म के विपरीत, जो मरयम को दोषरहित[2] मानता है, ईश्वर के सिवा कोई भी पूर्ण नहीं है।

इस्लाम सख्त एकेश्वरवाद के विश्वास और कार्यान्वयन की आज्ञा देता है; कि ईश्वर के अलावा किसी के पास कोई अलौकिक शक्ति नहीं है, और सिर्फ ईश्वर ही पूजा, भक्ति और आराधना के योग्य है। भले ही पैगंबरो और धर्मी लोगों ने अपने जीवनकाल में चमत्कार किये हैं, लेकिन उनके पास अपनी मृत्यु के बाद खुद की मदद करने की कोई शक्ति नहीं है, दूसरों की तो बात ही छोड़ दीजिये। सभी मनुष्य ईश्वर के दास हैं और उन्हें ईश्वर की सहायता और दया की आवश्यकता है।

मरयम के लिए भी ऐसा ही है। हालाँकि उनकी उपस्थिति में कई चमत्कार हुए, लेकिन उनकी मृत्यु के बाद यह सब बंद हो गया। कई लोगों ने दावा किया कि उन्होंने मरयम की आत्मा को देखा है, या लोग उसका आह्वान करने के बाद नुकसान से बच गए जैसा कि "ट्रांजिटस मारिया" जैसे अपोक्रिफ़ल साहित्य में उल्लेख किया गया है, लेकिन ये सब सिर्फ लोगों को एक सच्चे ईश्वर की आराधना और भक्ति से दूर करने के लिए शैतान द्वारा किया गया एक दिखावा है। 'द हेल मैरी' जैसी भक्ति ने माला और आवर्धन के अन्य कृत्यों की बड़ाई की, जैसे कि चर्चों की भक्ति और मैरी को आनंदित करने की विशिष्टता, सभी लोगों को ईश्वर के अलावा दूसरों की महिमा और गुणगान करने के लिए प्रेरित करते हैं। इन कारणों के कारण, इस्लाम ने किसी भी प्रकार के नवाचारों के साथ-साथ कब्रों पर पूजा स्थलों का निर्माण, सभी को ईश्वर द्वारा भेजे गए सभी धर्मों के सार को संरक्षित करने के लिए, केवल उसी की आराधना करने और उसके अलावा अन्य सभी की झूठी पूजा को छोड़ने के प्राचीन संदेश की सख्त मनाही की है।

मरयम ईश्वर की दासी थी, और वह सभी महिलाओं में सबसे शुद्ध थी, विशेष रूप से यीशु के चमत्कारी जन्म को सहन करने के लिए चुनी गई थी, जो सभी महान पैगंबरो में से एक थे। वह अपनी धार्मिकता और पवित्रता के लिए जानी जाती थीं, और आने वाले युगों में उन्हें यही महान सम्मान दिया जाता रहेगा। उसकी कहानी पैगंबर मुहम्मद के आने के बाद से गौरवशाली क़ुरआन में बताई गई है, और न्याय के दिन तक अपनी मूल स्थिति में अपरिवर्तित रहेगी।



फुटनोट:

[1] उत्पत्ति (3:16) देखें

[2] सेंट ऑगस्टीन: "डे नैट. एट ग्रटिस", 36.

इस लेख के भाग

सभी भागो को एक साथ देखें

टिप्पणी करें

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

लेख की सूची बनाएं

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास

आपकी इतिहास सूची खाली है।

View Desktop Version