इस्लाम, एक महान सभ्यता (2 का भाग 1): परिचय

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:
A- A A+

विवरण: एक सभ्यता के रूप में इस्लाम धर्म की महानता के बारे में विभिन्न गैर-मुस्लिम विद्वानों और बुद्धिजीवियों के कथन। भाग 1: परिचय।

  • द्वारा iiie.net
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 4,239 (दैनिक औसत: 5)
  • रेटिंग: अभी तक नहीं
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0
खराब श्रेष्ठ

Islam__a_Profound_Civilization_(part_1_of_2)_001.jpg

इस्लाम जो मुहम्मद (ईश्वर की दया और कृपा उन पर बनी रहे) को दिया गया था वह इससे पहले के सभी धर्मों का विस्तार और परिणति है, और इसलिए यह सभी समय और सभी लोगों के लिए है। इस्लाम की यह स्थिति चकाचौंध तथ्यों से जीवित है। सबसे पहले, कोई अन्य आसमानी पुस्तक उसी रूप और सामग्री में मौजूद नहीं है जैसा कि इसे उतारा गया था। दूसरा, कोई अन्य धर्म मानव जीवन के सभी क्षेत्रों में सभी समय का मार्गदर्शन करने का कोई ठोस दावा नही करता है। लेकिन इस्लाम बड़े पैमाने पर मानवता को संबोधित करता है और सभी मानवीय समस्याओं के बारे में बुनियादी मार्गदर्शन करता है। इसके अलावा, यह चौदह सौ वर्षों की कसौटी पर खरा उतरा है और इसमें एक आदर्श समाज की स्थापना की सभी क्षमताएं हैं, जैसा कि अंतिम पैगंबर मुहम्मद के नेतृत्व में हुआ था।

यह एक चमत्कार ही था कि पैगंबर मुहम्मद अपने सबसे कट्टर दुश्मनों को भी पर्याप्त भौतिक संसाधनों के बिना इस्लाम की ओर ला सकते थे। मूर्तियों की पूजा करने वाले, पूर्वजों के तरीकों को अंधो की तरह मानने वाले, झगड़ों को बढ़ावा देने वाले, और मानवीय गरिमा और रक्त का अपमान करने वाले, इस्लाम और उसके पैगंबर के मार्गदर्शन में सबसे अनुशासित राष्ट्र बन गए। इस्लाम ने धार्मिकता को योग्यता और सम्मान की एकमात्र कसौटी के रूप में घोषित करके उनके सामने आध्यात्मिक ऊंचाइयों और मानवीय गरिमा के द्वार खोले। इस्लाम ने बुनियादी कानूनों और सिद्धांतों से उनके सामाजिक, सांस्कृतिक, नैतिक और व्यावसायिक जीवन को आकार दिया जो मानव प्रकृति के अनुरूप हैं और ये हर समय लागू होते हैं क्योंकि मानव स्वभाव बदलता नही है।

यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है कि पश्चिमी ईसाइयों ने आरंभिक चरण में इस्लाम की अभूतपूर्व सफलता को ईमानदारी से समझने की बजाय इसे एक प्रतिद्वंद्वी धर्म के रूप में माना। सदियों से चल रहे धर्मयुद्ध के दौरान, इस सोंच को बहुत बल और प्रोत्साहन मिला और इस्लाम की छवि को धूमिल करने के लिए भारी मात्रा मे साहित्यों की रचना की गई। लेकिन इस्लाम ने अपनी वास्तविकता को आधुनिक विद्वानों को दिखाना शुरू कर दिया, इस्लाम के बारे मे इन विद्वानों की साहसिक और उद्देश्यपूर्ण टिप्पणियों ने तथाकथित निष्पक्ष प्राच्यवादियों द्वारा इसके खिलाफ लगाए गए सभी आरोपों को खारिज कर दिया।

यहां हम आधुनिक समय के गैर-मुस्लिम विद्वानों द्वारा इस्लाम पर कुछ टिप्पणियां प्रस्तुत करते हैं। सत्य को अपनी पैरवी के लिए किसी अधिवक्ता की आवश्यकता नहीं है, लेकिन इस्लाम के खिलाफ लंबे समय तक दुर्भावनापूर्ण प्रचार ने स्वतंत्र और उद्देश्यपूर्ण विचारकों के मन में भी बहुत भ्रम पैदा कर दिया है।

हम आशा करते हैं कि निम्नलिखित टिप्पणियां इस्लाम के वस्तुनिष्ठ मूल्यांकन को आरंभ करने में योगदान देंगे।

कैनन टेलर, वॉलवरहैमटन में चर्च कांग्रेस से पहले पढ़ा गया पेपर, 7 अक्टूबर 1887, दी प्रीचिंग ऑफ़ इस्लाम में अर्नोंड द्वारा उद्धृत, पृष्ठ 71-72:

“इस्लाम ने हठधर्मिता को साहस मे बदल दिया। यह दास को आशा देता है, मानव जाति को भाईचारा देता है, और मानव स्वभाव के मूलभूत तथ्यों को मान्यता देता है।"

सरोजिनी नायडू का "दी लीडर्स ऑफ़ इस्लाम" पर व्याख्यान, सरोजिनी नायडू के भाषण और लेख देखें, मद्रास, 1918, पृष्ठ 167:

"न्याय की भावना इस्लाम के सबसे अद्भुत आदर्शों में से एक है, क्योंकि मैंने जब क़ुरआन पढ़ा, तो मुझे जीवन के वो गतिशील सिद्धांत मिलें जो रहस्यवादी नही हैं लेकिन पूरी दुनिया के लिए अनुकूल जीवन के दैनिक आचरण के लिए व्यावहारिक नैतिकता है।"

डी लेसी ओ'लेरी, इस्लाम एट द क्रॉसरोड्स, लंदन, 1923, पृष्ठ 8:

"हालांकि इतिहास यह स्पष्ट करता है कि दुनिया भर में फैले कट्टर मुसलमानों की किंवदंती और विजयी जातियों को तलवार के बल पर इस्लाम कबूल करने को मजबूर करना सबसे काल्पनिक रूप से बेतुके मिथकों में से एक है जिसे इतिहासकारों ने कभी दोहराया है।

एच.ए.आर. गिब, विदर इस्लाम, लंदन, 1932, पृष्ठ 379:

"लेकिन इस्लाम के पास मानवता के लिए एक और सेवा है। यह यूरोप की तुलना में वास्तविक पूर्व के अधिक निकट है, और इसमें अंतर-नस्लीय समझ और सहयोग की एक शानदार परंपरा है। मानव जाति की इतनी सारी विभिन्न जातियों की स्थिति, अवसर और प्रयासों की समानता में एकजुट होने में सफलता का ऐसा रिकॉर्ड किसी अन्य समाज के पास नहीं है ... इस्लाम में अभी भी नस्ल और परंपरा के स्पष्ट रूप से अपरिवर्तनीय तत्वों को समेटने की शक्ति है। यदि कभी पूर्व और पश्चिम के महान समाजों के विरोध को सहयोग से बदलना है, तो इस्लाम की मध्यस्थता एक अनिवार्य शर्त है। इसमे काफी हद तक उस समस्या का समाधान है जो यूरोप अपने संबंधों मे पूर्व के साथ झेल रहा है। यदि वे एकजुट हो जाते हैं, तो शांतिपूर्ण मुद्दे की आशा अथाह रूप से बढ़ जाएगी। लेकिन अगर यूरोप इस्लाम के सहयोग को ठुकरा देता है, तो यह मुद्दा दोनों के लिए विनाशकारी साबित हो सकता है।

जी.बी. शॉ, द जेनुइन इस्लाम, वॉल्यूम 1, नंबर 81936:

"मैंने हमेशा मुहम्मद के धर्म को उसकी अद्भुत जीवन शक्ति के कारण उच्च सम्मान दिया है। यह एकमात्र ऐसा धर्म है जो अस्तित्व के बदलते चरण में आत्मसात करने की क्षमता रखता है जो खुद को हर युग के लिए आकर्षक बनाता है। मैंने उनका अध्ययन किया है - मेरी राय में एक अद्भुत व्यक्ति जो मसीह विरोधी नही है, उसे मानवता का उद्धारकर्ता कहा जाना चाहिए। मेरा मानना है कि अगर उनके जैसा आदमी आधुनिक दुनिया की तानाशाही ग्रहण कर लेता है, तो वह उसकी समस्याओं को इस तरह से हल करने में सफल होगा जिससे उसे बहुत आवश्यक शांति और खुशी मिल सके: मैंने मुहम्मद के विश्वास के बारे में भविष्यवाणी की है कि यह कल के यूरोप को स्वीकार्य होगा क्योंकि यह आज के यूरोप को स्वीकार्य होने लगा है।"

खराब श्रेष्ठ

इस लेख के भाग

सभी भागो को एक साथ देखें

टिप्पणी करें

  • (जनता को नहीं दिखाया गया)

  • आपकी टिप्पणी की समीक्षा की जाएगी और 24 घंटे के अंदर इसे प्रकाशित किया जाना चाहिए।

    तारांकित (*) स्थान भरना आवश्यक है।

इसी श्रेणी के अन्य लेख

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सूची सामग्री

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास

(और अधिक पढ़ें...) हटाएं