Статьи / видео вы запросили еще не существует.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

您所请求的文章/视频尚不存在。

The article/video you have requested doesn't exist yet.

あなたが要求した記事/ビデオはまだ存在していません。

The article/video you have requested doesn't exist yet.

L'articolo / video che hai richiesto non esiste ancora.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

요청한 문서 / 비디오는 아직 존재하지 않습니다.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

המאמר / הסרטון שביקשת אינו קיים עדיין.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

Статьи / видео вы запросили еще не существует.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

您所请求的文章/视频尚不存在。

The article/video you have requested doesn't exist yet.

L'articolo / video che hai richiesto non esiste ancora.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

요청한 문서 / 비디오는 아직 존재하지 않습니다.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

המאמר / הסרטון שביקשת אינו קיים עדיין.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

एंसलम तुरमेदा,पुजारी और ईसाई विद्वान, स्पेन

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:

विवरण: पूर्व अंडालूसिया में एक प्रसिद्ध ईसाई विद्वान का एक विश्वसनीय छात्र पैराकलेट के बारे में एक चर्चा को सुनता है, जो एक आने वाले पैगंबर है जिसका बाइबिल में उल्लेख किया गया है।

  • द्वारा Anselm Tormeeda
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 147 (दैनिक औसत: 2)
  • रेटिंग: अभी तक रेटिंग नहीं दी गई है
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0

पैगंबरों की मृत्यु के बाद, इस्लामी विजय के दौरान और तुरंत बाद में, बड़ी संख्या में ईसाई इस्लाम में परिवर्तित हो गए। उन्हें कभी मजबूर नहीं किया गया, बल्कि यह वह चीज़ थी जिसकी वे पहले से अपेक्षा कर रहे थे। एक पुजारी और ईसाई विद्वान एंसलम तुरमेदा[1] एक ऐसे व्यक्ति थे, जिनका इतिहास बताना व्यर्थ नहीं होगा।  उन्होंने "द गिफ्ट टू द इंटेलीजेंट फॉर रीफ्यूटिंग द आर्ग्यूमेंट्स ऑफ़ द क्रिस्टियन्स" नामक एक प्रसिद्ध पुस्तक लिखी [2]। इस पुस्तक के परिचय[3] में उन्होंने अपने इतिहास का वर्णन किया है:

"आप सभी को बता दूं कि मेरा मूल मालोर्का शहर से है, जो समुद्र पर एक महान शहर और एक छोटी घाटी द्वारा दो पहाड़ों में विभाजित है। यह एक व्यापारिक शहर है, जिसमें दो अद्भुत बंदरगाह हैं। बड़े व्यापारी जहाज आए और विभिन्न कार्गो के साथ बंदरगाह में लंगर डाला। शहर द्वीप पर है जिसका एक ही नाम है - मालोर्का, और इसकी अधिकांश भूमि अंजीर और जैतून के पेड़ों से आबाद है। मेरे पिता शहर के एक सम्मानित व्यक्ति थे। मैं उनका इकलौता बेटा था।

जब मैं छह साल का था, उन्होंने मुझे एक पुजारी के पास भेजा, जिसने मुझे इंजील और तर्क पढ़ना सिखाया, जिसे मैंने छह साल में पूरा किया। उसके बाद, मैंने मालोर्का को छोड़ दिया और हिंडोला क्षेत्र के लार्डा शहर की यात्रा की, जो उस क्षेत्र के ईसाइयों के लिए सीखने का केंद्र था। वहां एक हजार से डेढ़ हजार ईसाई छात्र एकत्रित हुए। सभी पुजारी के प्रशासन के अधीन थे जो उन्हें पढ़ाते थे। मैंने चार और वर्षों तक इंजील और उसकी भाषा का अध्ययन किया। उसके बाद मैं अनबर्डिया के क्षेत्र में बोलोग्ने के लिए रवाना हुआ। बोलोग्ने एक बहुत बड़ा शहर है, यह उस क्षेत्र के सभी लोगों के लिए सीखने का केंद्र है। हर साल दो हजार से ज्यादा छात्र अलग-अलग जगहों से इकट्ठा होते हैं। वे खुद को खुरदुरे कपड़े से ढँक लेते हैं जिसे वे "गॉड का रंग" कहते हैं।”  वे सभी, चाहे वे किसी कर्मकार के पुत्र हों या शासक के पुत्र हों, छात्रों को दूसरों से अलग बनाने के लिए इस आवरण को पहनते हैं।

केवल पुजारी ही उन्हें सिखाता है, नियंत्रित करता है और निर्देशित करता है।  मैं एक वृद्ध पुजारी के साथ चर्च में रहता था। उनके ज्ञान और धार्मिकता और तपस्या के कारण लोगों द्वारा उनका बहुत सम्मान किया जाता था, जो उन्हें अन्य ईसाई पुजारियों से अलग करता था। राजाओं और शासकों की तरफ से उपहारों के साथ, हर जगह से सलाह के लिए प्रश्न और अनुरोध आते थे। उन्हें आशा थी कि वह उनके उपहारों को स्वीकार करेगा और उन्हें आशीर्वाद देगा। इस पुजारी ने मुझे ईसाई धर्म के सिद्धांत और उसके नियम सिखाए। मैंने उनके कर्तव्यों का पालन किया और उनकी मदद करके मैं उनके बहुत करीब हो गया जब तक कि मैं उनके सबसे भरोसेमंद सहायकों में से एक नहीं बन गया, ताकि वह चर्च में अपने निवास और खाने-पीने की दुकान की चाबियों के साथ मुझ पर भरोसा कर सकें। उसने अपने लिए केवल एक छोटे से कमरे की चाबी रखी थी जिसमें वह सोते थे। मुझे लगता था कि, और ईश्वर सबसे अच्छा जानता है, उसने अपना खजाना वहीं रखा था। मैं दस साल तक एक छात्र और नौकर था, फिर वह बीमार पड़ गया और अपने साथियों की बैठक में शामिल होने में असफल रहा

उनकी अनुपस्थिति के दौरान, पुजारियों ने कुछ धार्मिक मामलों पर चर्चा की, जब तक कि वे उस बात पर नहीं पहुंचे जो सर्वशक्तिमान ईश्वर ने अपने पैगंबर यीशु के माध्यम से इंजील में कहा था: "उसके बाद पैराकलेट नामक एक पैगंबर आएगा." उन्होंने इस पैगंबर के बारे में और पैगंबरो में से कौन था, इस बारे में बहुत बहस की। सभी ने अपने ज्ञान और समझ के अनुसार अपनी राय दी, और इस मुद्दे का कोई हल न निकला। मैं अपने पुजारी के पास गया, और हमेशा की तरह, उन्होंने पूछा कि उस दिन बैठक में क्या चर्चा हुई थी। मैंने उन्हें पैराकेलेट नाम के बारे में पुजारियों के विभिन्न मतों का उल्लेख किया, और उन्होंने इसका अर्थ स्पष्ट किए बिना बैठक को कैसे समाप्त किया। उसने मुझसे पूछा: "आपका जवाब क्या था?" मैंने अपनी राय दी जो एक प्रसिद्ध व्याख्या की व्याख्या से ली गई थी। उन्होंने कहा कि मैं कुछ पुजारियों की तरह लगभग सही था, और अन्य पुजारी गलत थे। "लेकिन सच्चाई इन सब से अलग है"। ऐसा इसलिए है क्योंकि उस महान नाम की व्याख्या केवल कुछ जानकार विद्वान ही जानते हैं। और हमारे पास केवल थोड़ा सा ज्ञान है." और मैं गिर पड़ा, और उसके पांव चूम लिया, और कहा, आप तो जानते है कि मैं बहुत दूर की यात्रा करके आपके पास आया हूं, और दस वर्ष से अधिक समय से आपकी सेवा कर रहा हूं; और अनुमान से परे ज्ञान प्राप्त किया, तो कृपया मुझ पर दया करें और मुझे इस नाम की सच्चाई बताएं.” तब पुजारी ने रोते हुए कहा: "मेरे बेटे, ईश्वर की कसम, मेरी सेवा करने और मेरी देखभाल करने से तुम मुझे बहुत प्यारे हो गए हो।" जानो इस नाम की सच्चाई, इसमें बहुत बड़ा फायदा है, लेकिन बड़ा खतरा भी है। और मुझे डर है जब तुम इस सच्चाई को जानोगे, और ईसाईयों को पता चलेगा तो तुम तुरंत मारे जाओगे.” मैंने कहा: "ईश्वर की कसम, और ईश्वर के द्वारा भेजे गए इंजील की कसम, जो कुछ तुम मुझसे कहोगे, उसके बारे में मैं कभी भी कुछ भी नहीं बोलूंगा, मैं इसे अपने दिल में रखूंगा।”  उन्होंने कहा: "मेरे बेटे, जब आप अपने देश से यहां आए, तो मैंने आपसे पूछा कि क्या यह मुसलमानों के करीब है, और क्या उन्होंने आपके खिलाफ प्रचार किया था और क्या आपने उनके खिलाफ प्रचार किया था। यह इस्लाम के लिए आपकी नफरत का परीक्षण करने के लिए था। मेरे बेटे, पैराकलेट उनके पैगंबर मुहम्मद का नाम है, जैसा की दानियाल ने कहा था कि चौथी पुस्तक उनको दी जाएगी। उसका मार्ग स्पष्ट मार्ग है जिसका उल्लेख इंजील में किया गया है.” मैंने कहा: "तो, महोदय, आप इन ईसाइयों के धर्म के बारे में क्या कहते हैं?” उन्होंने कहा: "मेरे बेटे, अगर ये ईसाई यीशु के मूल धर्म पर बने रहते, तो वे ईश्वर के धर्म पर होते, क्योंकि यीशु और अन्य सभी पैगंबरों का धर्म ईश्वर का सच्चा धर्म है। लेकिन उन्होंने इसे बदल दिया और अविश्वासी बन गए.”  मैंने उनसे पूछा: "फिर, महोदय, इससे मोक्ष क्या है?” उन्होंने कहा "ओह मेरे बेटे, इस्लाम को अपनाना” मैंने उससे पूछा: "क्या इस्लाम अपनाने वाला बच जाएगा?” उन्होंने उत्तर दिया: “हाँ, इस संसार में और परलोक में.”  मैंने कहा: “विवेकपूर्ण अपने लिए चुनता है; अगर आप इस्लाम की खूबियों को जानते हैं, तो आपको इससे क्या परहेज है?” उन्होंने उत्तर दिया: "मेरे बेटे, सर्वशक्तिमान ईश्वर ने मुझे इस्लाम की सच्चाई और इस्लाम के पैगंबर के बारे में तब तक नहीं बताया जब तक कि मैं बूढ़ा नहीं हो गया और मेरा शरीर कमजोर हो गया। हां, इसमें हमारे लिए कोई बहाना नहीं है, इसके विपरीत, हमारे खिलाफ ईश्वर का प्रमाण स्थापित किया गया है। अगर तुम्हारी उम्र में ईश्वर ने मुझे इस पर निर्देशित किया होता, तो मैं सब कुछ छोड़कर सत्य के धर्म को अपना लेता। इस दुनिया का प्यार हर पाप का सार है, और देखें कि मैं कैसे ईसाईयों द्वारा सम्मानित हूं, और मैं कैसे समृद्धि और आराम में रहता हूं! मेरे मामले में, अगर मैं इस्लाम के प्रति थोड़ा सा झुकाव दिखाता हूं, तो वे मुझे तुरंत मार डालेंगे। मान लीजिए कि मैं उनसे बच गया और मुसलमानों के पास भागने में सफल हो गया, तो वे कहेंगे, अपने इस्लाम को हम पर एहसान मत समझो, बल्कि सच्चाई के धर्म में प्रवेश करने से ही आपको फायदा हुआ है, जिस धर्म से आप ईश्वर की सजा से बचेंगे! इसलिए मैं उनके बीच नब्बे वर्ष से अधिक उम्र के एक गरीब बूढ़े व्यक्ति के रूप में उनकी भाषा जाने बिना जीवित रहूंगा और मैं उनके बीच भूखा मरूंगा। मैं हूं, और सभी प्रशंसा ईश्वर के लिए है, मसीह के धर्म पर और जिस पर वह आये थे, और ईश्वर जानता है मेरे बारे मे.”  तो मैंने उनसे पूछा: "क्या आप मुझे मुसलमानों के देश में जाने और उनका धर्म अपनाने की सलाह देते हैं?” उन्होंने मुझसे कहा: "यदि आप बुद्धिमान हैं और अपने आप को बचाने की आशा रखते हैं, तो उस पर चलें जिससे यह जीवन और परलोक प्राप्त होगा। परन्तु मेरे पुत्र, इस विषय में हमारे पास कोई और नहीं है; यह केवल तुम्हारे और मेरे बीच है। कोशिस करना और इसके बारे में किसी को न बताना। अगर इसका खुलासा हो गया और लोगों को इसके बारे में पता चल गया, तो वे आपको तुरंत मार डालेंगे। मैं उनके खिलाफ आपकी मदद नहीं करूंगा। यदि आप उन्हें बता दें कि आपने मुझसे इस्लाम के बारे में क्या सुना है, या मैंने आपको मुसलमान बनने के लिए प्रोत्साहित किया है, तो यह आपके किसी काम का नहीं होगा, क्योंकि मैं इसे अस्वीकार कर दूंगा। वे तुम्हारे विरुद्ध मेरी गवाही पर विश्वास करेंगे। तो एक शब्द भी मत कहना, चाहे कुछ भी हो जाए.” मैंने उनसे वादा किया कि मै किसी को नही बताऊंगा।

वह मेरे वादे से संतुष्ट थे। मैं जाने के लिए तैयार होने लगा और उनसे अलविदा कहा। उसने मेरे लिए प्रार्थना की और मुझे पचास सोने के दीनार दिए[4]। फिर मैं अपने गृहनगर मालोर्का के लिए एक जहाज से गया जहाँ मैं अपने माता-पिता के साथ छह महीने तक रहा। फिर मैंने सिसिली की यात्रा की और वहाँ पाँच महीने तक रहा, मुस्लिम देश जाने के लिए एक जहाज की प्रतीक्षा में। आखिरकार, एक जहाज ट्यूनीशिया के लिए आया। हम सूर्यास्त से ठीक पहले निकल गए और दूसरे दिन दोपहर में ट्यूनीशियाई बंदरगाह पहुंचे। जब मैं जहाज से उतरा, तो मेरे आगमन के बारे में सुनने वाले ईसाई विद्वान मेरा अभिवादन करने आए और मैं उनके साथ चार महीने आराम से रहा। उसके बाद, मैंने उनसे पूछा कि क्या कोई अनुवादक है। तत्कालीन सुल्तान अबू अल-अब्बास अहमदी था। उन्होंने कहा कि एक अच्छा आदमी था, सुल्तान का चिकित्सक, जो उनके सबसे करीबी सलाहकारों में से एक था। उसका नाम युसूफ अल-तबीबो था। यह सुनकर मुझे बहुत प्रसन्नता हुई, और मैंने पूछा कि वह कहाँ रहता है। वे मुझे उनसे अलग से मिलने के लिए वहां ले गए। मैंने उसे अपनी कहानी और मेरे वहाँ आने का कारण बताया; जो इस्लाम कबूल करना था। वह बहुत प्रसन्न हुआ क्योंकि यह उसकी सहायता से किया जाएगा। हम सुल्तान के महल में चले गए। वह सुल्तान से मिला और उसे मेरी कहानी के बारे में बताया और मुझसे मिलने के लिए उसकी अनुमति मांगी।

सुल्तान राजी हो गया और मैंने खुद को उसके सामने पेश किया। सुल्तान ने सबसे पहले मेरी उम्र के बारे में पूछा.मैंने उससे कहा कि मैं पैंतीस साल का हूं। फिर उन्होंने मुझसे मेरी पढ़ाई और मेरे द्वारा पढ़े गए विज्ञान के बारे में पूछा। मेरे कहने के बाद उन्होंने कहा। "आपका आगमन कल्याण का आगमन है"। ईश्वर की दया से मुसलमान बनो.” मैंने फिर डॉक्टर से कहा, "माननीय सुल्तान से कहो कि ऐसा हमेशा होता है कि जब कोई अपना धर्म बदलता है, तो उसके लोग उसे बदनाम करते हैं और उसके बारे में बुरा कहते हैं। इसलिए, मैं चाहता हूं कि वह कृपया इस शहर के ईसाई पुजारियों और व्यापारियों को मुझसे पूछने और उनकी बात सुनने के लिए भेजें। फिर मैं ईश्वर की मर्जी से इस्लाम कबूल कर लूंगा।” उन्होंने अनुवादक के माध्यम से मुझसे कहा, "आपने पूछा है कि अब्दुल्ला बिन सलाम ने पैगंबर से क्या पूछा था जब वह - अब्दुल्ला अपने इस्लाम की घोषणा करने आए थे.” फिर उसने पुजारियों और कुछ ईसाई व्यापारियों को बुलवाया और मुझे बगल के एक कमरे में बैठने दिया जो उन्हें दिखाई नहीं दे रहा था। उसने पूछा, "जहाज पर आए इस नए पुजारी के बारे में आप क्या कहेंगे?"। उन्होंने कहा: "वह हमारे धर्म में एक महान विद्वान है"। हमारे धर्माध्यक्षों का कहना है कि वह सबसे अधिक शिक्षित हैं और हमारे धार्मिक ज्ञान में उनसे बेहतर कोई नहीं है.” ईसाइयों को जो कहना था, उसे सुनने के बाद सुल्तान ने मुझे बुलवाया और मैं उनके सामने पेश हुआ। मैंने दो गवाही की घोषणा की कि ईश्वर के अलावा कोई भी पूजा के योग्य नहीं है और मुहम्मद (ईश्वर की दया और कृपा उन पर बनी रहे) उनके दूत हैं, और जब ईसाइयों ने यह सुना तो वह बदल गए और कहा: "तुम्हे सिर्फ तुम्हारी शादी की इच्छा ने उकसाया है, क्योंकि हमारे धर्म में पुजारी शादी नहीं कर सकते।" फिर वे पीड़ा और शोक में वहां चले गए।

सुल्तान ने मेरे लिए खजाने से हर दिन एक चौथाई दीनार नियुक्त किया और मुझे अल-हज्ज मुहम्मद अल-सफ़र की बेटी से शादी करने दिया। जब मैंने शादी करने का फैसला किया, तो उन्होंने मुझे सौ सोने के दीनार और एक अच्छी पोशाक दी। मैंने तब विवाह किया और ईश्वर ने मुझे एक बच्चे का आशीर्वाद दिया, जिसे मैंने पैगंबर के नाम से आशीर्वाद के रूप में मुहम्मद नाम दिया.”[5]



फुटनोट:

[1]इस्लाम धर्म अपनाने के बाद, उन्हें अबू मुहम्मद बिन अब्दुल्ला अल-तर्जुमनी के नाम से जाना जाने लगा। उन्हें अल-तर्जुमन (अनुवादक) कहा जाता था क्योंकि उनके रूपांतरण के पांच महीने से भी कम समय में, सुल्तान ने उन्हें समुद्री प्रशासन का जनरल नियुक्त किया जहां उन्होंने अरबी भाषा सीखी और मुसलमानों और ईसाइयों के बीच चर्चा में एक कुशल अनुवादक बन गए। केवल एक साल बाद ही उन्होंने अरबी भाषा में महारत हासिल कर ली और उन्हें अनुवाद का प्रमुख नियुक्त किया गया। वह आम लोगों के बीच प्रसिद्ध थे, जिन्होंने उन्हें कुछ सुखद उपनाम दिए; सबसे लोकप्रिय सिदी तोहफाह था, जिसका अर्थ है "माई मास्टर गिफ्ट", उनकी प्रसिद्ध पुस्तक का जिक्र करते हुए।

[2] अरबी में तुहफत अल-अरिब फी अल-रद्द 'अला अहल अल-सालिब'। यह पुस्तक ईसाई धर्म की संरचना के लिए एक शक्तिशाली आघात थी क्योंकि यह उस समय के सर्वश्रेष्ठ ईसाई विद्वानों में से एक द्वारा लिखी गई थी।

[3] परिचय के बाद उन्होंने हफ्सा साम्राज्य से जुड़ी कुछ घटनाओं के बारे में लिखा। उन्होंने नौ अध्यायों का अनुसरण किया, जिनमें से एक यह था कि चार सुसमाचार यीशु के शिष्यों द्वारा नहीं लिखे गए थे जिनके लिए वे आम तौर पर जिम्मेदार थे। उन्होंने बपतिस्मा, त्रिएकत्व, मूल पाप, प्रभु भोज, भोग, आस्था का नियम सहित अन्य विषयों पर भी चर्चा की। उन्होंने इंजील और तार्किक तर्क के आधार पर इन सभी सिद्धांतों का खंडन किया। उन्होंने मसीह के मानवीय स्वभाव को भी सिद्ध किया और उनके कथित दैवीय स्वभाव का खंडन किया। फिर वह बाइबल के अंतर्निहित ग्रंथों में अंतर्विरोधों को प्रकट करता है। उन्होंने उन मुद्दों पर भी चर्चा की कि ईसाइयों ने मुसलमानों की आलोचना की है, जैसे कि धार्मिक विद्वानों और पवित्र पुरुषों के लिए विवाह की अनुमति, खतना और स्वर्ग में शारीरिक आनंद। उन्होंने मुहम्मद की पैगंबरी की सच्चाई को साबित करने के लिए शास्त्रों के प्रमाणों का उपयोग करते हुए अपनी पुस्तक समाप्त की।

[4] मुद्रा के सिक्के

[5] अब्दुर-रहीम ग्रीन द्वारा लिखित किताब, मटेरियल ऑन द ऑथेंसिटी ऑफ़ द क़ुरआन: प्रूफ्स दैट ईट इज़ अ रेवेलशन फ्रॉम ऑलमाइटी गॉड से लिया गया

टिप्पणी करें

इसी श्रेणी के अन्य लेख

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

लेख की सूची बनाएं

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास

आपकी इतिहास सूची खाली है।

View Desktop Version