नरक की आग का विवरण (5 का भाग 4): नरक की भयावहता I

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:
A- A A+

विवरण: इस्लामिक धार्मिक स्रोतों में विस्तृत रूप से चित्रात्मक पीड़ा, डरावनी और नरक की सजा का पहला भाग।

  • द्वारा Imam Mufti
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 6,476 (दैनिक औसत: 7)
  • रेटिंग: अभी तक नहीं
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0
खराब श्रेष्ठ

A_Description_of_Hellfire_(part_4_of_5)_001.jpgनरक की आग की तीव्रता ऐसी होगी कि लोग उससे बचने के लिए अपनी सबसे प्यारी संपत्ति को छोड़ने को तैयार होंगे:

"निश्चित ही जो अविश्वासी हो गये तथा अविश्वासी रहते हुए मर गये, तो उनसे धरती भर सोना भी स्वीकार नहीं किया जायेगा, यद्यपि उसके द्वारा अर्थदंड दे। उन्हीं के लिए दुःखदायी यातना है और उनका कोई सहायक न होगा।" (क़ुरआन 3:91)

इस्लाम के पैगंबर ने कहा:

"नरक के लोगों में से एक जिसने इस दुनिया के जीवन में सबसे अधिक आनंद पाया, उसे पुनरुत्थान के दिन लाया जाएगा और उसे नरक की आग में डुबो दिया जाएगा। तब उससे पूछा जाएगा, 'हे आदम के बेटे, क्या तुमने कभी कुछ अच्छा देखा है?' क्या तुमने कभी किसी आनंद का आनंद लिया है?' वह कहेगा, 'नहीं, ईश्वर की शपथ, हे ईश्वर।"[1]

नरक में कुछ क्षण और व्यक्ति अपने सभी अच्छे समय को भूल जाएगा। इस्लाम के पैगंबर हमें सूचित करते हैं:

"क़यामत के दिन ईश्वर उससे पूछेंगे जिसकी आग में सबसे हल्की सज़ा है, 'अगर आपके पास धरती पर जो कुछ भी आप चाहते थे वो मिल जाता, तो क्या आप उसे अपने आप को बचाने के लिए देते?' वह कहेगा, 'हाँ।' ईश्वर कहेंगे, 'मैं तुमसे उससे कम चाहता था जब तुम दुनिया में थे, मैंने तुमसे कहा था कि तुम उपासना में मेरे साथ किसी को न जोड़ो, लेकिन तुमने दूसरों को आराधना में मेरे साथ जोड़ने पर जोर दिया।’"[2]

आग की भयावहता और तीव्रता एक आदमी को अपना दिमाग खो देने के लिए काफी है। वह खुद को बचाने के लिए वह सब कुछ छोड़ने के लिए तैयार होगा जो उसके लिए प्रिय है, लेकिन वह कभी नहीं होगा। ईश्वर कहता है:

"कामना करेगा पापी कि दण्ड के रूप में दे दे, उस दिन की यातना के, अपने पुत्रों को, तथा अपनी पत्नी और अपने भाई को, तथा अपने समीपवर्ती परिवार को, जो उसे शरण देता था, और जो धरती में है सभी को, फिर वह उसे यातना से बचा ले। कदापि ऐसा नहीं होगा। वह अग्नि की ज्वाला होगी जो खोपड़ी से कस कर पकड़ रही होगी!" (क़ुरआन 70:11-16)

नरक की सजा अलग-अलग होगी। नरक के कुछ स्तरों की पीड़ा दूसरों की तुलना में अधिक होगी। लोगों को उनके कर्मों के अनुसार एक स्तर पर रखा जाएगा। इस्लाम के पैगंबर ने कहा:

"कुछ ऐसे हैं जिनके टखनों तक आग पहुँचेगी, कुछ उनके घुटनों तक, कुछ उनकी कमर तक, और कुछ उनकी गर्दन तक।"[3]

उन्होंने नरक में सबसे हल्की सजा की बात की:

"वह व्यक्ति जो पुनरुत्थान के दिन नरक के लोगों के बीच सबसे कम सजा प्राप्त करेगा, वह एक आदमी होगा, उसके पैर के तलवे के नीचे एक सुलगता हुआ अंगारा रखा जाएगा। इससे उनका दिमाग खौल उठेगा।"[4]

यह व्यक्ति सोचेगा कि किसी और को उससे ज्यादा कठोर सजा नहीं दी जा रही है, भले ही वह सबसे हल्की सजा पाने वाला हो।[5]

क़ुरआन की कई आयतें नरक के लोगों के लिए विभिन्न स्तरों की सजा की बात करती हैं:

"पाखंडी आग की सबसे निचली गहराई में होंगे।" (क़ुरआन 4:145)

"और जिस दिन न्याय स्थापित किया जाएगा (स्वर्गदूतों से कहा जाएगा): फिरौन के लोगों को कठोर दंड में डाल दो!" (क़ुरआन 40:46)

ईश्वर द्वारा प्रज्वलित अग्नि नरक के लोगों की त्वचा को जला देगी। त्वचा शरीर का सबसे बड़ा अंग और संवेदना का स्थान है जहां जलन का दर्द महसूस होता है। ईश्वर जली हुई त्वचा को फिर से एक नई त्वचा से बदल देंगे ताकि उसे फिर जलाया जा सके, और यह दोहराया जाता रहेगा:

"वास्तव में, जिन लोगों ने हमारे छंदो के साथ अविश्वास किया, हम उन्हें नरक में झोंक देंगे। जब-जब उनकी खालें पकेंगी, हम उनकी खालें बदल देंगे, ताकि वे यातना चखें, निःसंदेह ईश्वर प्रभुत्वशाली तत्वज्ञ है।" (क़ुरआन 4:56)

नरक की एक और सजा पिघलना है। जब उनके सिर पर अत्यधिक गर्म पानी डाला जाएगा, तो यह आंतरिक भाग को पिघला देगा:

"...उनके सिरों पर धारा बहायी जायेगी खोलते हुए पानी की, जिससे गला दी जायेगी उनके पेटों के भीतर की वस्तुएँ और उनकी खालें।" (क़ुरआन 22:19-20)

पैगंबर मुहम्मद ने कहा:

"अत्यधिक गरम पानी उनके सिर पर डाला जाएगा और उसमें तब तक घुल जाएगा जब तक कि वह उनके अंदरूनी हिस्सों को काट न दे, उन्हें निकाल न दे; जब तक कि वह उनके पांवों से न निकल जाए, और सब कुछ पिघल जाए। तब वे वैसे ही बहाल हो जाएंगे जैसे वे थे।"[6]

पापियों को नरक मे अपमानित करने का एक तरीका यह होगा कि ईश्वर उन्हें न्याय के दिन मुंह के बल और अँधा, बहरा और गूंगा कर देगा।

"और हम उन्हें एकत्र करेंगे प्रलय के दिन उनके मुखों के बल, अंधे, गूँगे और बहरे बनाकर और उनका स्थान नरक है, जबभी वह बुझने लगेगी, तो हम उसे और भड़का देंगे।" (क़ुरआन 17:97)

"और जो बुराई लायेगा, तो वही झोंक दिये जायेंगे औंधे मुँह नरक में, (तथा कहा जायेगाः) तुम्हें वही बदला दिया जा रहा है, जो तुम करते रहे हो।’" (क़ुरआन 27:90)

"झुलसा देगी उनके चेहरों को अग्नि तथा उसमें उनके जबड़े (झुलसकर) बाहर निकले होंगे।" (क़ुरआन 23:104)

"जिस दिन उलट-पलट किये जायेंगे उनके मुख अग्नि में, वे कहेंगेः हमारे लिए क्या ही अच्छा होता कि हम कहा मानते ईश्वर का तथा कहा मानते रसूल का।’" (क़ुरआन 33:66)

अविश्वासियों की एक और दर्दनाक सजा उनके चेहरों पर नरक में घसीटने की होगी। ईश्वर कहता है:

"दरअसल, अपराधी गलती और पागलपन में हैं। जिस दिन उनके मुँह पर आग में घसीटा जाएगा (कहा जाएगा), 'नरक के स्पर्श का स्वाद चखो।’" (क़ुरआन 54:47-48)

उन्हें जंजीरों और बेड़ियों में जकड़ के उनके चेहरे से नरक में घसीटा जाएगा:

"जिन्होंने झुठला दिया पुस्तक (क़ुरआन) को और उसे, जिसके साथ हमने भेजा अपने रसूलों को, तो शीघ्र ही वे जान लेंगे, जब तौक़ होंगे उनके गलों में तथा बेड़ियाँ, वे खींचे जायेंगे, खौलते पानी में, फिर अग्नि में झोंक दिये जायेंगे।" (क़ुरआन 40:70-72)



फुटनोट:

[1] सहीह मुस्लिम

[2] सहीह अल-बुखारी

[3] सहीह मुस्लिम

[4] सहीह अल-बुखारी

[5] सहीह मुस्लिम

[6] तिर्मिज़ी

खराब श्रेष्ठ

इस लेख के भाग

सभी भागो को एक साथ देखें

टिप्पणी करें

  • (जनता को नहीं दिखाया गया)

  • आपकी टिप्पणी की समीक्षा की जाएगी और 24 घंटे के अंदर इसे प्रकाशित किया जाना चाहिए।

    तारांकित (*) स्थान भरना आवश्यक है।

इसी श्रेणी के अन्य लेख

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सूची सामग्री

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास

आपकी इतिहास सूची खाली है।