요청한 문서 / 비디오는 아직 존재하지 않습니다.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

המאמר / הסרטון שביקשת אינו קיים עדיין.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

요청한 문서 / 비디오는 아직 존재하지 않습니다.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

המאמר / הסרטון שביקשת אינו קיים עדיין.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

धर्मशास्त्रों में विश्वास

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:

विवरण: ईश्वर ने अपने संदेश को धर्मशास्त्रों के रूप में क्यों प्रकट किया, और ईश्वर के दो धर्मशास्त्रों: बाइबिल और क़ुरआन का संक्षिप्त विवरण।

  • द्वारा Imam Mufti
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 1
  • देखा गया: 382 (दैनिक औसत: 1)
  • रेटिंग: अभी तक रेटिंग नहीं दी गई है
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0

ईश्वर द्वारा प्रकट किए गए धर्मशास्त्रों में विश्वास इस्लामी आस्था का तीसरा स्तम्भ है।

हम धर्मशास्त्रों के रहस्योद्घाटन के चार मुख्य कारणों की पहचान कर सकते हैं:

(1)  किसी नबी को प्रकट किया गया धर्मग्रंथ ईश्वर और साथी मनुष्यों के प्रति धर्म और दायित्वों को जानने के लिए एक संदर्भ बिंदु है। प्रकट शास्त्रों के माध्यम से ईश्वर स्वयं को प्रकट करते हैं और मानव की रचना के प्रयोजन की व्याख्या करते हैं।

(2)  इसको उद्घृत कर, 'धार्मिक विश्वास और व्यवहार या सामाजिक व्यवहार के विषयों में इसके अनुयायियों के बीच विवादों और मतभेदों को सुलझाया जा सकता है।

(3)  धर्मशास्त्र धर्म को भ्रष्टाचार और पतन से सुरक्षित रखने के लिए हैं, कम से कम पैगंबर की मृत्यु के बाद कुछ समय के लिए। वर्तमान समय में, हमारे पैगंबर मुहम्मद, (ईश्वर की दया और आशीर्वाद उन पर हो) को क़ुरआन प्रकट हुई, और यह एकमात्र धर्मशास्त्र है जो भ्रष्ट होने से बचा हुआ है।

(4)  यह मनुष्यों को देने के लिए ईश्वर का प्रमाण है। मनुष्यों को इसके विपरीत जाने की अनुमति नहीं है।

किसी मुसलमान का दृढ़ विश्वास होता है कि दैवीय रूप से प्रकट की गई पुस्तकें वास्तव में दयालु ईश्वर द्वारा मानव जाति का मार्गदर्शन करने हेतु अपने नबियों को प्रकट की गई थीं। केवल क़ुरआन ही ईश्वर का बोला गया शब्द नहीं है, बल्कि ईश्वर ने पैगंबर मुहम्मद से पहले भी नबियों से बात की थी।

"…और मूसा से ईश्वर ने सीधे बात की।" (क़ुरआन 4:164)

ईश्वर सच्चे विश्वासियों का वर्णन करते हुए बतलाते हैं कि:

"…उस पर विश्वास करो जो तुम (मुहम्मद) पर उतारा गया है और जो तुमसे पहले नीचे भेजा गया है…" (क़ुरआन 2:4)

सभी धर्मग्रंथों का सबसे महत्वपूर्ण और केंद्रीय संदेश केवल और केवल ईश्वर की पूजा करना था।

"और तुम्हारे आगे भेजे गए सभी पैगम्बरों को हमने प्रकट किया और बोला, मेरे सिवा कोई ईश्वर नहीं, इसलिए मेरी उपासना करो।’" (क़ुरआन 21:25)

इस्लाम अपने वर्तमान स्वरूप में किसी भी अन्य आकाशीय धर्म की तुलना में पवित्र रहस्योद्घाटन के सम्बन्ध में अधिक समावेशी (शामिल)है।

मुसलमान निम्नलिखित धर्मशास्त्रों का पालन और सम्मान करते हैं:

(i)   पैगंबर मुहम्मद को प्रकट क़ुरआन।

(ii)  पैगंबर मूसा (आज पढ़े जाने वाले पुराने नियम से अलग) को प्रकट तोराह (अरबी में तवरा)।

(iii) पैगंबर जीसस (आजकल गिरजाघरों में पढ़े जाने वाले नए नियम से अलग) को प्रकट गॉस्पेल (अरबी में इंजील)।

(iv) डेविड के साम्स (अरबी में ज़बूर)।

(v)  मूसा और अब्राहम के स्क्रॉल (अरबी में सुहुफ)।

तीसरा, मुसलमान इन सभी में जो कुछ भी सच है और न तो बदला गया है और न ही जानबूझकर गलत अर्थ में समझा गया है, उसमें विश्वास रखते हैं।

चौथा, इस्लाम इस बात की पुष्टि करता है कि ईश्वर ने क़ुरआन को पिछले धर्मग्रंथों पर एक साक्षी के रूप में प्रकट किया और उनकी पुष्टि की, क्योंकि वे उसमें कहते हैं:

"और हमने तुम्हारे पास (ऐ मुहम्मद) यह सच्ची किताब (क़ुरआन) उतारी है, जो उन धर्मशास्त्रों की पुष्टि करती है जो इससे पहले आई थी और यह विश्वासयोग्य है और उन (पुराने ग्रंथों का संग्रह) पर एक साक्षी है…" (क़ुरआन 5:48)

अर्थ है कि क़ुरआन पिछले धर्मग्रंथों में जो कुछ भी सच है उसकी पुष्टि करती है और मनुष्यों ने जो भी परिवर्तन और परिवर्धन किए हैं उन्हें अस्वीकार करती है।

मूल धर्मशास्त्र और बाइबिल

हमें दो विषयों के बीच अंतर करना चाहिए: मूल तोराह, गॉस्पेल (सुसमाचार), और साम्स (भजन) और वर्तमान की बाइबिल। मूल ग्रन्थ ईश्वर के रहस्योद्घाटन थे, लेकिन वर्तमान की बाइबिल में सटीक मूल ग्रंथ नहीं है।

क़ुरआन के अतिरिक्त आज ऐसा कोई दैवीय ग्रंथ अस्तित्व में नहीं है जो जिस मूल भाषा में प्रकट किया गया था उसी में उपलब्ध हो। बाइबिल को अंग्रेजी में प्रकट नहीं किया गया था। आज की बाइबल की विभिन्न पुस्तकें अधिक से अधिक तृतीयक अनुवाद हैं और विभिन्न इसके संस्करण मौजूद हैं। ये कई अनुवाद उन लोगों द्वारा किए गए थे जिनका ज्ञान, कौशल या सच्चाई ज्ञात नहीं है। परिणामस्वरूप, कुछ बाईबल दूसरों की तुलना में बड़ी हैं और इनमें अंतर्विरोध और आंतरिक विसंगतियां हैं! कोई मूल पुस्तक उपलब्ध नहीं है। दूसरी ओर, क़ुरआन एकमात्र ऐसा ग्रंथ है जो अपनी मूल भाषा और शब्दों सहित जस की तस आज अस्तित्व में है। क़ुरआन के एक भी अक्षर को उसके रहस्योद्घाटन के बाद से नहीं बदला गया है। यह आंतरिक रूप से संगत है और कोई विरोधाभास इसमें नहीं हैं। यह आज वैसी ही है जैसा कि 1400 वर्ष पूर्व प्रकट हुई थी, जो याद रखने और लिखने की ठोस परंपरा द्वारा प्रसारित की गयी थी। अन्य पवित्र ग्रंथों के विपरीत, पूरे क़ुरआन को लगभग हर इस्लामी विद्वान और सैकड़ों हजारों सामान्य मुसलमानों ने पीढ़ी दर पीढ़ी कंठस्थ किया है!

पिछले धर्मशास्त्रों में अनिवार्य रूप से सम्मिलित हैं:

(i)   मनुष्य की रचना और पहले के राष्ट्रों की कहानियाँ, जो आने वाला था उसकी भविष्यवाणियाँ जैसे न्याय के दिन से पहले के संकेत, नए पैगम्बरों की उपस्थिति, और अन्य समाचार।

सिनेगोग और गिरजाघरों में आजकल पढ़ी जाने वाली बाइबल की कहानियाँ, भविष्यवाणियाँ और समाचार आंशिक रूप से सत्य और आंशिक रूप से झूठे हैं। इन पुस्तकों में ईश्वर द्वारा प्रकट मूल धर्मशास्त्र के कुछ अनुवादित अंश, भविष्यवक्ताओं के शब्द, विद्वानों के स्पष्टीकरण, लेखकों-शास्त्रियों की त्रुटियों और कुछ दुर्भावनापूर्ण सम्मिलन और विलोपन (काट-छांट) शामिल हैं। क़ुरआन, अंतिम और विश्ववसनीय ग्रंथ, हमें कल्पना से तथ्यों को समझने में मदद करता है। एक मुसलमान के लिए, यह इन कहानियों में असत्य और सत्य को पहचानने की कसौटी है। उदाहरण के लिए, बाइबल में अभी भी कुछ स्पष्ट अंश हैं जो ईश्वर के एकत्व की ओर इंगित करते हैं।[1]  साथ ही, पैगंबर मुहम्मद के बारे में कुछ भविष्यवाणियां भी बाइबिल में पाई जाती हैं।[2]  फिर भी, ऐसे अंश अस्तित्व में हैं, यहां तक कि पूरी किताबें मौजूद हैं, जिन्हें लगभग पूरी तरह से जाली और मनुष्यों की करतूत के रूप में जाना जाता है।[3]

(ii)  विधि और नियम, अनुमत और निषिद्ध, जैसे मूसा का कानून।

अगर हम पिछली किताबों में निहित कानून को मान भी लें, यानी कि जो वैध और जो निषिद्ध है, और यह भ्रष्ट भी नहीं हुआ हो, तो भी क़ुरआन उन नियमों को निरस्त करता है, यह उन पुराने कानून को रद्द करता है जो अपने समय के लिए उपयुक्त था और आज लागू नहीं है । उदाहरण के लिए, इस्लामी कानून द्वारा आहार, धार्मिक प्रार्थना, उपवास, उत्तराधिकार, विवाह और विवाह-विच्छेद से संबंधित पुराने कानूनों को रद्द कर दिया गया है (या, कई मामलों में, इनकी पुष्टि की गई है)।

पवित्र क़ुरआन

क़ुरआन अन्य धर्मग्रंथों से निम्नलिखित संबंधों में अलग है:

(1)  क़ुरआन चमत्कारपूर्ण और अननुकरणीय है। इसके समान कुछ भी मनुष्य द्वारा निर्मित नहीं किया जा सकता है।

(2) क़ुरआन के बाद, ईश्वर द्वारा कोई और धर्मशास्त्र प्रकट नहीं किया जाएगा। जिस तरह पैगंबर मुहम्मद अंतिम पैगंबर हैं, उसी तरह क़ुरआन अंतिम ग्रंथ है।

(3) क़ुरआन को परिवर्तन से बचाने, भ्रष्ट होने से बचाने और विकृतियों से बचाने का जिम्मा ईश्वर ने अपने ऊपर लिया है। दूसरी ओर, पिछले धर्मशास्त्रों में परिवर्तन और विकृतियां आ गयी हैं और वे अपने मूल रूप में नहीं है।

(4)  क़ुरआन, एक ओर, पुराने धर्मशास्त्रों की पुष्टि करता है और दूसरी ओर उन ग्रंथों पर एक साक्षी है।

(5)  क़ुरआन उन्हें निरस्त करता है, जिसका अर्थ है कि यह पिछले धर्मग्रंथों के फैसलों को रद्द करता है और उन्हें अनुपयुक्त कहता है। पुराने धर्मशास्त्रों के कानून अब लागू नहीं होते; इस्लाम के नए कानून के साथ पिछले नियमों को निरस्त कर दिया गया है।



फुटनोट:

[1] उदाहरण के लिए मूसा की घोषणा: "हे इस्राएल, सुनो, हमारा स्वामी हमारा ईश्वर ही एक ईश्वर है" (व्यवस्थाविवरण 6:4) और यीशु की घोषणा: "...सभी आज्ञाओं में से पहली है, सुनो, हे इस्राएल; हमारा स्वामी हमारा ईश्वर एक ईश्वर है” (मरकुस 12:29)।

[2] देखें (व्यवस्थाविवरण 18:18), (व्यवस्थाविवरण 33:1-2), (यशायाह 28:11), (यशायाह 42:1-13), (हबक्कूक 3:3), (यूहन्ना 16:13), (यूहन्ना1:19-21), (मत्ती 21:42-43), एवं और।

[3] उदाहरण के लिए अपोक्रिफा की पुस्तकें देखें।

टिप्पणी करें

इसी श्रेणी के अन्य लेख

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

लेख की सूची बनाएं

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास

आपकी इतिहास सूची खाली है।

View Desktop Version