क़ुरआन का संरक्षण (2 का भाग 2): लिखित क़ुरआन

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:
A- A A+

विवरण: मुहम्मद के समय में क़ुरआन का लेखन और आज तक इसका संरक्षण।

  • द्वारा iiie.net (edited by IslamReligion.com)
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 2,853 (दैनिक औसत: 4)
  • रेटिंग: अभी तक नहीं
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0
खराब श्रेष्ठ

हालांकि पूरे क़ुरआन को उनके कुछ पढ़े-लिखे साथियों ने रहस्योद्घाटन के समय पैगंबर (ईश्वर की दया और कृपा उन पर बनी रहे) द्वारा बोलने के बाद लिख लिया, उनमें से सबसे प्रमुख ज़ैद इब्न थाबीत थे।[1] उनके अन्य महान लेखकों में उबैय इब्न का'ब, इब्न मसूद, मुआविया इब्न अबी-सुफियान, खालिद इब्न अल-वलीद और अज़-ज़ुबैर इब्न अल-अव्वम थे।[2] छंद चमड़े, चर्मपत्र, स्कपुला (जानवरों के कंधे की हड्डियों) और खजूर के डंठल पर दर्ज किए गए थे।[3]

क़ुरआन का संहिताकरण (यानी एक 'पुस्तक के रूप' में) यममा की लड़ाई (11 ए.एच/633 सी.ई) के तुरंत बाद, पैगंबर की मृत्यु के बाद, अबू बक्र की खिलाफत के दौरान किया गया था। उस लड़ाई में पैगंबर के कई साथी शहीद हो गए, और यह आशंका थी कि जब तक पूरे रहस्योद्घाटन की एक लिखित प्रति नहीं बनाई जाती क़ुरआन के बड़े हिस्से उसके याद करने वालों की मृत्यु के बाद खो सकते हैं। इसलिए उमर के सुझाव पर, क़ुरआन को लिखने के लिए अबू बक्र ने ज़ैद इब्न थाबित से एक समिति का नेतृत्व करने का अनुरोध किया, जिसने क़ुरआन के बिखरे हुए अभिलेख को एक साथ इकट्ठा किया और एक मुसहफ - अव्यस्थित चादर तैयार किया जिस पर पूरा क़ुरआन लिखा गया।[4] लिखने में गलतियों से बचने के लिए, समिति ने केवल उस सामग्री को स्वीकार किया जो स्वयं पैगंबर की उपस्थिति में लिखी गई थी, और जिसे कम से कम दो विश्वसनीय गवाहों द्वारा सत्यापित किया जा सकता था जिन्होंने वास्तव में पैगंबर के पाठ को सुना था[5]. एक बार पूरा होने और सर्वसम्मति से पैगंबर के साथियों द्वारा स्वीकार करने के बाद, इन चादरों को खलीफा अबू बक्र (ता. 13 ए.एच/634सी.ई) के पास रखा गया, फिर खलीफा उमर (13-23 ए.एच/634-644 सी.ई), और फिर उमर की बेटी और पैगंबर की विधवा, हफ्सा के पास[6].

तीसरे खलीफा उस्मान (23 ए.एच-35 ए.एच/644-656 सी.ई) ने हफ्सा से क़ुरआन की हस्तलिपि भेजने का अनुरोध किया जो उन्होंने सुरक्षित रखी थी, और इसकी कई बंधी हुई प्रतियों को बनाने का आदेश दिया। यह कार्य पैगंबर के साथियों ज़ैद इब्न थाबित, अब्दुल्ला इब्न अज़-ज़ुबैर, सईद इब्न अल-अस, और अब्दुर-रहमान इब्न अल-हरिथ इब्न हिशाम को सौंपा गया था।[7] 25 ए.एच/646 सी.ई में पूरा होने पर, उस्मान ने मूल हस्तलिपि हफ़्सा को लौटा दी और प्रतियां प्रमुख इस्लामी प्रांतों को भेज दीं।

क़ुरआन के संकलन और संरक्षण के मुद्दे का अध्ययन करने वाले कई गैर-मुस्लिम विद्वानों ने भी इसकी प्रामाणिकता को बताया है। जॉन बर्टन क़ुरआन के संकलन पर अपने महत्वपूर्ण काम के अंत में कहते हैं कि जो क़ुरआन आज हमारे पास है:

"... यह पाठ हमारे पास उस रूप में आया है जिसमें इसे पैगंबर द्वारा आयोजित और स्वीकृत किया गया था .... आज जो हमारे हाथ में है वह मुहम्मद का मुसहफ है।[8]

केनेथ क्रैग रहस्योद्घाटन के समय से आज तक क़ुरआन के संचरण का वर्णन "भक्ति के एक अटूट जीवित क्रम" के रूप में करते हैं।[9] श्वाली सहमत हैं कि:

"जहां तक रहस्योद्घाटन के विभिन्न अंशों की बात है तो हम आश्वस्त हो सकते हैं कि उनका पाठ आम तौर पर ठीक उसी तरह संचारित किया गया है जैसा कि पैगंबर के समय था।"[10]

क़ुरआन की ऐतिहासिक विश्वसनीयता इस तथ्य से और अधिक साबित होती है कि खलीफा उस्मान द्वारा भेजी गई प्रतियों में से एक प्रति आज भी है। यह मध्य एशिया के उज़्बेकिस्तान में ताशकंद शहर के संग्रहालय में है।[11] संयुक्त राष्ट्र की एक शाखा यूनेस्को के विश्व कार्यक्रम की स्मृति के अनुसार, 'यह निश्चित संस्करण है, जिसे उस्मान के मुसहफ के रूप में जाना जाता है।'[12]

Preservation_of_the_Quran_(part_2_of_2)_001.jpg

यह उज़्बेकिस्तान के मुस्लिम बोर्ड के पास रखा गया क़ुरआन का सबसे पुराना लिखित संस्करण है। यह निश्चित संस्करण है, जिसे उस्मान के मुसहफ के रूप में जाना जाता है। यह छवि मेमोरी ऑफ़ दी वर्ल्ड रजिस्टर, यूनेस्को के सौजन्य से।

ताशकंद के मुसहफ की एक प्रतिलिपि अमेरिका में कोलंबिया विश्वविद्यालय पुस्तकालय में उपलब्ध है।[13] यह प्रति इस बात का प्रमाण है कि क़ुरआन का पाठ जो आज प्रचलन में है वह पैगंबर और उनके साथियों के समय के समान है। सीरिया को भेजे गए मुसहफ की एक प्रति (जिसको 1310 ए.एच/1892 सी.ई में जामी मस्जिद में आग लगने से पहले कॉपी कर लिया गया था) इस्तांबुल में टोपकापी संग्रहालय में भी मौजूद है[14], और शुरुआत में हिरन की चमड़ी पर लिखी गई एक हस्तलिपि मिस्र में दार अल-कुतुब अस-सुल्तानिया में मौजूद है। वाशिंगटन में कांग्रेस पुस्तकालय, डबलिन (आयरलैंड) में चेस्टर बीटी संग्रहालय और लंदन संग्रहालय में पाए गए इस्लामी इतिहास के सभी काल के प्राचीन हस्तलिपियों की तुलना ताशकंद, तुर्की और मिस्र की हस्तलिपियों के साथ की गई, जिसके परिणाम इस बात की पुष्टि करते हैं कि लिखने के वास्तविक समय से इसके पाठ में अब तक कोई परिवर्तन नहीं हुआ है।[15]

कुरानफोर्सचुंग संस्थान, उदाहरण के लिए म्यूनिख विश्वविद्यालय (जर्मनी), ने क़ुरआन की 42,000 से अधिक पूर्ण या अधूरी प्राचीन प्रतियां एकत्र कीं। लगभग पचास वर्षों के शोध के बाद, उन्होंने बताया कि विभिन्न प्रतियों के बीच कोई भिन्नता नहीं थी, सिवाय प्रतिलिपिकार की कुछ गलतियों के जिसका आसानी से पता लगाया जा सकता था। यह संस्थान दुर्भाग्य से द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान बमों से नष्ट हो गया।[16]

इस प्रकार, पैगंबर के प्रारंभिक साथियों के प्रयासों और ईश्वर की सहायता से जो क़ुरआन आज हमारे पास है वो उसी तरह से पढ़ा जाता है जैसे इसे उतरा गया था। यह इसे एकमात्र धार्मिक ग्रंथ बनाता है जो अभी भी पूरी तरह से बरकरार है और अपनी मूल भाषा में समझा जाता है। वास्तव में, जैसा कि सर विलियम मुइर कहते हैं, "शायद ही दुनिया में कोई अन्य पुस्तक होगी जो इतने शुद्ध पाठ के साथ बारह शताब्दियां (अब चौदह) से बची हुई है।"[17]

ऊपर दिए गए सबूत क़ुरआन में ईश्वर के वादे की पुष्टि करते हैं:

"हमने ही इसे उतारा है और वास्तव में हम ही इसे संरक्षित करेंगे।" (क़ुरआन 15:9)

क़ुरआन को मौखिक और लिखित दोनों रूपों में ऐसे संरक्षित किया गया है जैसे किसी अन्य किताब को नहीं किया गया, और प्रत्येक रूप एक दूसरे की प्रामाणिकता को साबित करता है।



फुटनोट:

[1]जलाल अल-दीन सुयुति, अल-इतकान फी 'उलूम अल-क़ुरआन, बेरूत: मकतब अल-थिकाफिया, 1973, खंड 1, पृष्ठ 41 और 99

[2]इब्न हजर अल-'असकलानी, अल-इसाबा फी तैमीज़ अस-सहाबा, बेरूत: दार अल-फ़िक्र, 1978; बायर्ड डॉज, द फ़िहरिस्ट ऑफ़ अल-नदीम: ए टेन्थ सेंचुरी सर्वे ऑफ़ मुस्लिम कल्चर, एनवाई: कोलंबिया यूनिवर्सिटी प्रेस, 1970, पृष्ठ 53-63 मुहम्मद एम. आज़मी, क़ुतुब अल-नबी में, बेरूत: अल-मकतब अल-इस्लामी, 1974, वास्तव में उन 48 व्यक्तियों का उल्लेख करता है जो पैगंबर के लिए लिखते थे।

[3]अल-हरीथ अल-मुहसाबी, किताब फहम अल-सुनन, सुयुति में उद्धृत, अल-इत्कान फि 'उलूम अल-क़ुरआन, खंड 1, पृष्ठ 58

[4]सहीह अल-बुखारी खंड 6, हदीस नंबर 201 और 509; खंड 9, हदीस नंबर 301

[5]इब्न हजर अल-असकलानी, फत अल-बारी, खंड 9, पृष्ठ 10-11

[6]सहीह अल-बुखारी खंड 6, हदीस नंबर 201

[7] सहीह अल-बुखारी खंड 4, हदीस नंबर 709; खंड 6, हदीस नंबर 507

[8] जॉन बर्टन, दी कलेक्शन ऑफ़ दी क़ुरआन, कैम्ब्रिज: कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी प्रेस, 1977, पृष्ठ 239-40

[9]केनेथ क्रैग, द माइंड ऑफ द क़ुरआन, लंदन: जॉर्ज एलेन एंड अनविन, 1973, पृष्ठ 26

[10] श्वाली, क़ुरआन का इतिहास, लीपज़िग: डायटेरिच पब्लिशिंग बुकस्टोर, 1909-38, खंड 2, पृष्ठ 120

[11] युसुफ इब्राहिम अल-नूर, मा' अल-मसाहिफ, दुबई: दार अल-मनार, पहला संस्करण, 1993, पृष्ठ 117; इस्माइल मखदूम, तारिख अल-मुशफ अल-उथमानी फी ताशकंद, ताशकंद: अल-इदारा अल-दिनिया, 1971, पृष्ठ 22 ff

[12] (http://www.unesco.org.)

I. मेंडेलसोहन, "द कोलंबिया यूनिवर्सिटी कॉपी ऑफ द समरकंद कुफिक क़ुरआन", द मुस्लिम वर्ल्ड, 1940, पृष्ठ 357-358

ए. जेफ़री और आई. मेंडेलसोहन, "द ऑर्थोग्राफ़ी ऑफ़ द समरक़ंद क़ुरआन कोडेक्स", जर्नल ऑफ़ द अमेरिकन ओरिएंटल सोसाइटी, 1942, खंड 62, पृष्ठ 175-195

[13]द मुस्लिम वर्ल्ड, 1940, खंड 30, पृष्ठ 357-358

[14] युसुफ इब्राहिम अल-नूर, मा' अल-मसाहिफ, दुबई: दार अल-मनार, पहला संस्करण, 1993, पृष्ठ 113

[15] बिलाल फिलिप्स, उसूल अत-तफ़सीर, शारजाह: दार अल-फ़तह, 1997, पृष्ठ 157

[16] मोहम्मद हमीदुल्लाह, मुहम्मद रसूलुल्लाह, लाहौर: इदारा-ए-इस्लामियत, एन.डी., पृष्ठ 179

[17] सर विलियम मुइर, लाइफ ऑफ मुहम्मद, लंदन, 1894, खंड 1, परिचय

खराब श्रेष्ठ

इस लेख के भाग

सभी भागो को एक साथ देखें

टिप्पणी करें

  • (जनता को नहीं दिखाया गया)

  • आपकी टिप्पणी की समीक्षा की जाएगी और 24 घंटे के अंदर इसे प्रकाशित किया जाना चाहिए।

    तारांकित (*) स्थान भरना आवश्यक है।

इसी श्रेणी के अन्य लेख

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सूची सामग्री

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास

आपकी इतिहास सूची खाली है।