इस्लाम और ईसाई धर्म के बीच समानताएं और अंतर (2 का भाग 2): समान लेकिन बहुत अलग

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:
A- A A+

विवरण: मूल पाप, मोक्ष और यीशु के अंतिम दिनों के बारे में इस्लाम और ईसाई धर्म के विचार बहुत अलग हैं।

  • द्वारा Aisha Stacey (© 2017 IslamReligion.com)
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 1
  • देखा गया: 2,551 (दैनिक औसत: 3)
  • रेटिंग: अभी तक नहीं
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0
खराब श्रेष्ठ

Similarities-and-Differences-between-Islam-and-Christianity-2.jpgमुसलमानों और ईसाइयों में बहुत समानता है; दयालुता और करुणा पर उनके विचारों से लेकर अंत समय में एक आवश्यक भूमिका निभाने वाले यीशु के आख्यान। सभ्यताओं के संघर्ष से दूर, कम ज्ञान भी आश्चर्यजनक समानताओं को प्रकट करता है। हालांकि, सिद्धांत और विश्वास के मामले कई जगह भिन्न हो सकते हैं। इसके बावजूद, बातचीत और चर्चा के लिए समान आधार और कई शुरुआती बिंदु हैं।

मूल पाप

आदम और हव्वा की कहानी ईसाई और इस्लाम धर्म दोनों में मौजूद है। ऊपरी तौर पर कहानियां एक जैसी लगती हैं। आदम पहले इंसान थे, हव्वा उसकी पसली से बनाई गई थी, और वे स्वर्ग में शांति से रहते थे। शैतान उनके साथ स्वर्ग में था; वर्जित वृक्ष के फल खाने के लिए वह उन्हें गुमराह करता था और बहकाता था। लेकिन बिना कपड़े की रूपरेखा के अलावा, कहानियाँ बहुत भिन्न हैं। क़ुरआन और पैगंबर मुहम्मद (ईश्वर की दया और कृपा उन पर बनी रहे) की प्रामाणिक परंपराएं हमें बताती हैं कि शैतान एक सांप के रूप में आदम और हव्वा के पास नहीं आया था, और ना ही उसने उन्हें निषिद्ध फल खाने में धोखा दिया था। शैतान ने उन्हें बहकाया और धोखा दिया, और उन्होंने आंकने में एक गंभीर गलती की। यह केवल हव्वा की गलती नहीं थी बल्कि आदम और हव्वा दोनों इस गलती के लिए जिम्मेदार थे।

क़ुरआन की कहानी में किसी भी जगह हमें यह नहीं बताया गया है कि उन दोनों में से हव्वा कमजोर थी या वह आदम को उकसाने के लिए जिम्मेदार थी। उन दोनों ने एक साथ निर्णय लिया, और कुछ समय बाद उन्हें अपनी गंभीर गलती का एहसास हुआ, पश्चाताप हुआ और ईश्वर से क्षमा की भीख मांगी। ईश्वर ने दोनों को माफ कर दिया। इसकी रौशनी में, हम देख सकते हैं कि इस्लाम में मूल पाप नामक कोई अवधारणा नहीं है। आदम के वंशजों को उनके पूर्वजों के कार्यों के लिए दंडित नहीं किया जाता है। ईश्वर क़ुरआन में कहता है कि कोई भी दूसरे व्यक्ति के फैसलों के लिए जिम्मेदार नहीं है। "... तथा नहीं लादेगा कोई लादने वाला, दूसरे का बोझ, अपने ऊपर..." (क़ुरआन 35:18) इस्लाम में ऐसी कोई अवधारणा नहीं है कि एक इंसान पापी पैदा होता है। बल्कि, लोग पवित्रता की स्थिति में पैदा होते हैं और स्वाभाविक रूप से ईश्वर की पूजा करने के लिए इच्छुक होते हैं। उनके स्लेट साफ होते हैं; उनके क्षमा मांगने या पश्चाताप करने के लिए कुछ भी नहीं होता है।

एक तरफ मूल पाप का ईसाई सिद्धांत सिखाता है कि मानवजाति पहले से ही आदम और हव्वा के पापों से कलंकित होकर पैदा हुई है। वे कहते हैं, यीशु मानवजाति के पापों का प्रायश्चित करने के लिए पैदा हुए और मर गए। यदि आप मानते हैं कि यीशु की मृत्यु ने आपके पापों को दूर कर दिया है, तो आपके लिए मुक्ति का द्वार खुल गया है। इस्लाम इसे पूरी तरह खारिज करता है। इस्लाम सिखाता है कि पैगंबर यीशु को उनके पहले सभी पैगंबरो के संदेश की पुष्टि करने के लिए इस्राईल के लोगो के पास भेजा गया था; कि ईश्वर एक है, जिसका कोई साझीदार, सहयोगी या संतान नहीं है, इसलिए, उसके अलावा और कुछ भी पूजा के योग्य नहीं है।

मोक्ष

क्योंकि इस्लाम मानता है कि हर इंसान पाप से मुक्त पैदा होता है, इस अवस्था में रहने के लिए एक व्यक्ति को केवल ईश्वर की आज्ञाओं का पालन करने की जरूरत है, और एक पुण्य जीवन जीने की कोशिश करनी चाहिए। यदि कोई पाप में पड़ जाता है, लेकिन फिर पश्चाताप करता है, तो उसे ईश्वर से क्षमा मांगनी चाहिए। क्षमा सीधे ईश्वर से मांगी जानी चाहिए; किसी बिचौलिये के जरिये हैं। क़ुरआन और पैगंबर मुहम्मद हमें बताते हैं कि ईश्वर की क्षमा आसानी से मिल सकती है। प्रामाणिक परंपराओं में हम पाते हैं कि पैगंबर मुहम्मद ने कहा, "ईश्वर दिन में पाप करने वाले के पश्चाताप को स्वीकार करने के लिए रात में अपना हाथ बढ़ाता है, और ईश्वर रात में पाप करने वाले के पश्चाताप को स्वीकार करने के लिए दिन में अपना हाथ बढ़ाता है, और यह ऐसा ही चलता रहेगा जब तक कि सूरज पश्चिम से निकले।"[1]

"आप कह दें मेरे उन भक्तों से, जिन्होंने अपने ऊपर अत्याचार किये हैं कि तुम निराश न हो ईश्वर की दया से। वास्तव में, ईश्वर क्षमा कर देता है सब पापों को। निश्चय वह अति क्षमी, दयावान् है।" (क़ुरआन 39:53)

ईमानदारी से पश्चाताप करना क्षमा का आश्वासन देता है, और ईश्वर की इच्छा के प्रति समर्पण के माध्यम से मोक्ष प्राप्त होता है। मनुष्य को सच्ची संतुष्टि और सुरक्षा तभी मिलेगी जब वह ईश्वर को अप्रसन्न करने के परिणामों से डरते हुए उसकी दया और क्षमा में आशा रखने में सक्षम होगा। इस्लाम में ईश्वर से जुड़े रहना मोक्ष की कुंजी है, और क़ुरआन हमें बताता है कि अच्छे कर्म और व्यवहार करने से और ईमानदारी से विश्वास करने स्वर्ग में अनन्त जीवन मिलेगा।

हालांकि ईसाई धर्म में, मुक्ति पूरी तरह से एक अलग चीज है। यीशु मसीह की मृत्यु के परिणामस्वरूप मुक्ति मिली है। विशेष रूप से रोमन कैथोलिक धर्मशास्त्र के अनुसार, निर्दोष यीशु की मृत्यु और पूर्ण रक्त बलिदान के परिणामस्वरूप मोक्ष मिला है। उनकी मृत्यु उन सभी लोगों के पापों को दूर कर देती है जो यीशु को ईश्वर के पुत्र के रूप में स्वीकार करते हैं और उनके पुनरुत्थान में विश्वास करते हैं। कुछ ईसाई संप्रदाय कहते हैं कि अच्छे काम और अच्छे नैतिक गुणों का विकास एक व्यक्ति के उद्धार में सहायता करता है। फिर भी अन्य मानते हैं कि व्यक्‍ति बपतिस्मा लेना चाहिए।

सूली पर चढाना और यीशु की वापसी

जहां इस्लाम और ईसाई धर्म इस बात से सहमत हैं कि सूली पर चढ़ाया गया था, वे इस बात से असहमत हैं कि क्या यीशु स्वयं सूली पर चढ़े थे और उनकी मृत्यु हो गई थी। यीशु के सूली पर मरने का विचार ईसाई विश्वास के केंद्र में है, लेकिन इसे इस्लाम खारिज करता है। यीशु के सूली पर चढ़ने और मृत्यु के बारे में इस्लामी मान्यता स्पष्ट है। इस्लाम हमें बताता है कि यीशु मानवजाति के पापों का प्रायश्चित करने के लिए नहीं मरे। उन्हें सूली पर चढ़ाने की साजिश थी, लेकिन वह सफल नहीं हुई। ईश्वर ने अपनी असीम दया से किसी और को उनके जैसा बना के यीशु को इस अपमान से बचा लिया और उनकी आत्मा और शरीर को जीवित स्वर्ग में उठा लिया। क़ुरआन सूली पर चढ़ाये गए व्यक्ति के सटीक विवरण को नहीं बताता है, लेकिन हम निश्चित रूप से जानते हैं और विश्वास करते हैं कि यह पैगंबर यीशु नहीं थे।

ईसाई धर्म और इस्लाम भी इस बात से सहमत हैं कि यीशु धरती पर वापस आएंगे। इस्लाम बताता है कि न्याय के दिन से पहले के दिनों में, यीशु इस दुनिया में वापस आएंगे और लोगों को ईश्वर के एक होने में विश्वास करना सिखाएंगे। वह एक न्यायप्रिय शासक होंगे, क्रूस को तोड़ देंगे, मसीह-विरोधी को मार डालेंगे, फिर पवित्रशास्त्र के सभी लोग (यहूदी और ईसाई) इस्लाम में प्रवेश करेंगे।

ईसाई धर्म में यीशु की वापसी को अक्सर दूसरे आगमन के रूप में जाना जाता है। ईसाई संप्रदायों में कई अंतर हैं, हालांकि, अधिकांश सिखाते हैं कि यीशु जीवित और मृत के बीच न्याय करने के लिए वापस आएंगे, और ईश्वर के राज्य की स्थापना करेंगे। बहुत से लोग मानते हैं कि वह एक हज़ार साल तक पृथ्वी पर राज्य करेंगे, कुछ का कहना है कि यीशु का शासन तब शुरू होगा जब वह मसीह विरोधी को हरा देंगे।



फुटनोट:

[1] सहीह मुस्लिम

खराब श्रेष्ठ

इस लेख के भाग

सभी भागो को एक साथ देखें

टिप्पणी करें

  • (जनता को नहीं दिखाया गया)

  • आपकी टिप्पणी की समीक्षा की जाएगी और 24 घंटे के अंदर इसे प्रकाशित किया जाना चाहिए।

    तारांकित (*) स्थान भरना आवश्यक है।

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सूची सामग्री

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास

आपकी इतिहास सूची खाली है।