O artigo / vídeo que você requisitou não existe ainda.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

您所请求的文章/视频尚不存在。

The article/video you have requested doesn't exist yet.

あなたが要求した記事/ビデオはまだ存在していません。

The article/video you have requested doesn't exist yet.

L'articolo / video che hai richiesto non esiste ancora.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

요청한 문서 / 비디오는 아직 존재하지 않습니다.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

המאמר / הסרטון שביקשת אינו קיים עדיין.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

O artigo / vídeo que você requisitou não existe ainda.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

您所请求的文章/视频尚不存在。

The article/video you have requested doesn't exist yet.

L'articolo / video che hai richiesto non esiste ancora.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

요청한 문서 / 비디오는 아직 존재하지 않습니다.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

המאמר / הסרטון שביקשת אינו קיים עדיין.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

क़ुरआन के पैगंबर: एक परिचय (2 का भाग 1)

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:

विवरण: ईश्वर के पैगंबरो में विश्वास मुस्लिम आस्था का एक मुख्य हिस्सा है। भाग 1 में पैगंबर मुहम्मद से पहले के सभी पैगंबरो (ईश्वर की दया और आशीर्वाद उन पर हो) का परिचय है जिसका उल्लेख मुस्लिम धर्मग्रंथ में आदम से लेकर इब्राहिम और उनके दो बेटों तक है।

  • द्वारा Imam Mufti (© 2013 IslamReligion.com)
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 285 (दैनिक औसत: 3)
  • रेटिंग: अभी तक रेटिंग नहीं दी गई है
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0

ProphetsOfTheQuran1.jpgक़ुरआन में पच्चीस पैगंबरो का उल्लेख है, जिनमें से अधिकांश का उल्लेख बाइबिल में भी किया गया है। ये पैगंबर कौन थे, वे कहां रहते थे, उन्हें किसके पास भेजा गया था, क़ुरआन और बाइबल में उनके नाम क्या हैं, और उनके द्वारा किए गए कुछ चमत्कार क्या हैं? हम इन आसान सवालों के जवाब देंगे।

शुरू करने से पहले, हमें दो बातों को समझना होगा:

ए.     अरबी में दो अलग-अलग शब्दों का प्रयोग किया जाता है, नबी और रसूल। पैगंबर को नबी कहते हैं और दूत या धर्म प्रचारक को रसूल। हमारे उद्देश्य के लिए इन दो शब्दों के अर्थ लगभग समान हैं

बी.   क़ुरआन में चार पुरुषों का उल्लेख है, जिनके बारे में मुस्लिम विद्वान अनिश्चित हैं कि वे पैगंबर थे या नहीं: जुल-क़रनैन (18:83), लुकमान (अध्याय 31), उज़ैर (9:30), और तुब्बा (44:37, 50:14)।

1.    आदम या एडम इस्लाम के पहले पैगंबर हैं। वह पारंपरिक इस्लामी मान्यता के अनुसार पहले इंसान भी हैं। आदम का ज़िक्र 25 छंदो में और क़ुरआन में 25 बार किया गया है। ईश्वर ने आदम को अपने हाथों से बनाया और उसकी पत्नी, हव्वा या ईव को आदम की पसली से बनाया। वह स्वर्ग में रहते थे और वहां से अवज्ञा के कारण पृथ्वी पर भेज दिए गए थे। उनके दो बेटों की कहानी का उल्लेख एक बार अध्याय 5 (अल-माइदा) में किया गया है

2.     क़ुरआन में इदरीस या एनोक का दो बार उल्लेख किया गया है। इसके अलावा इनके बारे में बहुत कम जाना जाता है। कहा जाता है कि वह बेबीलोन, इराक में रहते थे और मिस्र चले गये थे और वह कलम से लिखने वाले पहले व्यक्ति थे

3.    क़ुरआन में 43 बार नूह या नोआह का उल्लेख किया गया है। वह इराक में किर्क के रहने वाले बताये जाते हैं। बहुदेववाद (शिर्क) पहली बार उनके लोगों के बीच हुआ, जो वर्तमान में इराक के दक्षिण में कुफा शहर के करीब रहते थे। उनकी पत्नी एक अविश्वासी थी जैसा कि अध्याय 66 (अत-तहरीम) में वर्णित है। उनके बेटे ने भी अविश्वास को चुना और बाढ़ में डूब गया। कहानी अध्याय 11 (हूद) में मिलती है

उनके महान चमत्कारों में से एक आर्क था, जिसे उन्होंने ईश्वर की आज्ञा पर बनाया था। जो माउंट जूडी पर टिकी हुई थी, जिसे आज अयन दीवर शहर के पास सीरिया-तुर्की सीमा के बीच कहा जाता है।

4.     हूद को अंग्रेजी में हेबर कहते हैं। क़ुरआन में उनका 7 बार उल्लेख किया गया है। हुद अरबी बोलने वाले पहले व्यक्ति थे और अरब के पहले पैगंबर थे। उन्हें आद के लोगों के पास अल-अहकाफ नाम की जगह पर भेजा गया था। जो यमन में हाडरामौत और रुब अल-ख़ाली (एम्प्टी क्वार्टर) के आसपास है। ईश्वर ने आद के लोगों को 8 दिन और सात रातों तक चलने वाली प्रचंड हवा से नष्ट कर दिया था

5.    क़ुरआन में सालेह का 9 बार जिक्र किया गया है। वह अरब के एक पैगंबर थे, जो थमूद के लोगों के लिए भेजे गए थे। जो हिजाज़ और तबुक के बीच अल-हिज्र के नाम से जाने वाले क्षेत्र में रहते थे। अल-हिज्र एक प्राचीन नाम था। आज, यह स्थान सऊदी अरब में "मदा'इन सालिह" के रूप में जाना जाता है और यूनेस्को का विश्व धरोहर स्थल है। वे शानदार संरचनाएं हैं जिन्हें सचमुच पहाड़ों में उकेरा गया है। लोगों ने मांग की कि वह पैगंबर होने के अपने दावे को साबित करने के लिए चट्टानों से एक ऊंटनी निकाले। उन्होंने किया, और उन्हें चेतावनी दी कि वे इसे नुकसान ना पहुंचाएं, लेकिन सालेह की चेतावनी के बावजूद वहां के लोगो ने उस ऊंटनी को मार डाला। एक जोरदार चीख - सैहा - ने उन सभी को मार डाला

6.   क़ुरआन के 25 अध्यायों में इब्राहिम या अब्राहम का 69 बार उल्लेख किया गया है। उनके पिता का नाम अजार था। वे कसदियों के राज्य के ऊर नगर में रहते थे। जब राजा निम्रोद ने उन्हें जिंदा जलाने की कोशिश की, तो वह आज के सीरिया में स्थित अरब प्रायद्वीप के उत्तर में ऊर से हारान चले गए थे। हारान से वह अपनी पत्नी सारा और अपने भाई के बेटे लोत (अरबी में लूत) और उसकी पत्नी के साथ फिलिस्तीन चले गए थे। अकाल के कारण, उन्हें मजबूर होकर मिस्र जाना पड़ा

बाद में वह लूत के साथ फिलिस्तीन के दक्षिण में लौट आये, इब्राहिम बीर सब'आ में बस गये और लूत मृत सागर के करीब बस गये। 

तब इब्राहीम अपनी दूसरी पत्नी हाजिरा को अपने पुत्र इस्माईल के साथ मक्का ले गये और ईश्वर के आदेश पर उन्हें वहीं छोड़ दिया। मक्का एक बंजर भूमि थी और ज़मज़म का कुआँ उनके जीवित रहने के लिए ईश्वर द्वारा प्रदान किया गया था। जुरहुम की प्राचीन जनजाति ज़मज़म के कारण वहां बस गए। कहा जाता है कि इब्राहिम को फिलिस्तीन के हेब्रोन में दफनाया गया था।

 7, 8.  इब्राहीम के दो बेटे थे: इशाक या इसहाक और इस्माइल या इश्माएल। क़ुरआन में इसहाक का 16 बार उल्लेख किया गया है जबकि इश्माएल का 12 बार उल्लेख किया गया है। इसहाक अपने पिता इब्राहीम के साथ रहते थे, और हेब्रोन, फिलिस्तीन में मर गये। ईश्वर ने इब्राहीम को इस्माईल की बलि चढ़ाने का आदेश दिया। वह अपने माता-पिता के साथ मक्का गया और वहां अपनी मां के साथ रह गया। इब्राहिम मक्का में कई बार इस्माईल से मिलने गए, और एक बार, ईश्वर ने इब्राहिम और इस्माईल को काबा (पवित्र घर) बनाने का आदेश दिया। इस्माईल मक्का में मर गये और उन्हें वहीं दफनाया गया। इसहाक यहूदियों के पूर्वज है और इस्माईल अरबों का पूर्वज है

 

 

क़ुरआन के पैगंबर: एक परिचय (2 का भाग 2)

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:

विवरण: ईश्वर के पैगंबरो में विश्वास मुस्लिम आस्था का एक मुख्य हिस्सा है। भाग 2 में पैगंबर मुहम्मद (ईश्वर की दया और कृपा उन पर बनी रहे) से पहले, लूत से यीशु तक मुस्लिम धर्मग्रंथों में वर्णित सभी पैगंबरो का परिचय है।

  • द्वारा Imam Mufti (© 2013 IslamReligion.com)
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 302 (दैनिक औसत: 4)
  • रेटिंग: अभी तक रेटिंग नहीं दी गई है
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0

9.    ProphetsOfTheQuran2.jpg क़ुरआन में 17 बार लोत या लूत का जिक्र है। वह इब्राहीम के भतीजे उनके भाई का पुत्र है। लूत मृत सागर के दक्षिणी सिरे की ओर रहते थे। उसके लोग सदोम और अमोरा के थे। लूत ने इब्राहीम पर विश्वास किया और मिस्र से लौटने के बाद, वे अलग-अलग स्थानों में बस गए। सदोम के लोग समलैंगिकता करने वाले पहले लोग थे। यही कारण है कि समलैंगिकों को कभी-कभी सदोमाइट्स कहा जाता है। उनकी पत्नी आस्तिक नहीं थी। उसने पाप नहीं किया, लेकिन उसे स्वीकार कर लिया। सदोम और अमोरा के लोगों पर चट्टानें बरसाई गईं, जिसने उन्हें कुचल डाला।

10.  इसहाक के पुत्र और इब्राहीम के पोते याकूब या जैकब का क़ुरआन में 16 बार उल्लेख किया गया है। याकूब का दूसरा नाम इस्राईल था। "बनी इस्राईल," इस्राईल के बच्चे, या इस्राईलियों का नाम उनके नाम पर रखा गया है। सब इब्रानी पैगंबर उन्ही से आए हैं, जिनमें से अंतिम ईसा या यीशु थे। याकूब बारह जनजातियों के पिता हैं। जिन्हें क़ुरआन में अल-असबात (7:160) के नाम से जाना जाता है। कहा जाता है कि उसने इराक के उत्तर की यात्रा की, फिलिस्तीन लौट आये और फिर मिस्र में बस गये और वहां उनकी मृत्यु हो गई। उन्हें उनकी अंतिम इच्छा के अनुसार उनके पिता के साथ हेब्रोन, फिलिस्तीन में दफनाया गया था। बाइबिल में उल्लेख है कि इसहाक ने रेबेका से शादी की और उसके बेटे जैकब ने रेचल (अरबी में राहिल) से शादी की

11.  याकूब या इस्राईल के पुत्र यूसुफ या जोसेफ का क़ुरआन में 17 बार उल्लेख किया गया है। उसके भाइयों ने उसे यरूशलेम के कुएँ में छोड़ दिया था, और फिर मिस्र ले जाया गया, जहां उसने सरकार में एक उच्च पद प्राप्त किया। बाद में उसके पिता याकूब और भाई मिस्र में बस गए

12. शुएब या जेथ्रो, जिनका क़ुरआन में 11 बार उल्लेख किया गया है, मदयान के लोगों को भेजे गए थे, जो इब्राहिम के पुत्रों में से एक थे। शुएब, लूत और मूसा के समय के बीच रहे और अरब के पैगंबर थे। उनके लोग अल-अयका नामक वृक्ष की पूजा करते थे (15:78, 26:176, 38:13, 50:14)। वे रास्ते के लुटेरे थे, और व्यापारिक सौदों में ठगे जाते थे। उन्हें कई दंड दिए गए: भूकंप के साथ एक भयानक आवाज ने उन्हें नष्ट कर दिया

13. अय्यूब या जोब का उल्लेख क़ुरआन में 4 बार किया गया है। कहा जाता है कि वह या तो मृत सागर या दमिश्क के पास रहते थे। वह एक समृद्ध पैगंबर थे, जिसे गरीबी और बीमारी के साथ ईश्वर द्वारा परखा गया था, लेकिन वह धैर्यवान थे और उनकी वफादार पत्नी ने उनकी मदद की, जो हर मुश्किल में उनके साथ रही। आखिरकार, उन्हें उनके धैर्य के लिए ईश्वर द्वारा अत्यधिक पुरस्कृत किया गया

14. यूनुस या योना, जिसे "धून-नून" के नाम से भी जाना जाता है, क़ुरआन में उनका 4 बार उल्लेख किया गया है। वह इराक में मोसुल के नजदीक नीनवे में रहते थे। वो अपने लोगों को छोड़ कर (इससे पहले कि ईश्वर उन्हें अनुमति देते) अभी के ट्यूनीशिया की ओर बढ़ गये, लेकिन संभवतः याफा में मर गए। वह व्हेल द्वारा निगल लिए गए थे, फिर उन्होंने ईश्वर से पश्चाताप किया और इराक में अपने लोगों के पास वापस चले गए, जहां सभी 100,000 लोगों ने पश्चाताप किया और उन पर विश्वास किया

15. क़ुरआन में दो बार धूल-किफ़्ल का उल्लेख है। कुछ विद्वानों का कहना है कि वह अय्यूब के पुत्र थे, अन्य कहते हैं कि वह बाइबल का यहेजकेल हैं

16. मूसा या मोसेस क़ुरआन में सबसे अधिक बार उल्लेखित पैगंबर हैं, उनका 136 बार उल्लेख किया गया है। मूसा से पहले, यूसुफ ने मिस्र के लोगों के बीच एकेश्वरवाद (तौहीद: एक, सच्चे ईश्वर की पूजा) का संदेश फैलाना शुरू कर दिया था। उनका लक्ष्य तब और मजबूत हुआ जब उनके पिता याकूब और उसके भाई भी मिस्र में बस गए, उन्होंने धीरे-धीरे पूरे मिस्र को परिवर्तित कर दिया। यूसुफ के बाद, मिस्र के लोग बहुदेववाद (शिर्क) में वापस आ गए और याकूब के बच्चे, इज़राइली, कई गुना बढ़ गए और समाज में प्रमुखता प्राप्त की। मूसा इस्राएलियों के पास उस समय भेजे गए पहले पैगंबर थे। जब मिस्र का फिरौन उन्हें गुलाम बना रहा था। उत्पीड़न से बचने के लिए मूसा मदयान चले गए। ईश्वर ने उन्हें सिनाई में स्थित पर्वत तूर पर एक पैगंबर बनाया और उन्हें नौ महान चमत्कार दिए गए

17.  हारून या आरोन मूसा के भाई है और क़ुरआन में 20 बार इनका उल्लेख किया गया है

18,19. इलियास या एलिय्याह और यस'आ का क़ुरआन में दो बार उल्लेख किया गया है, वे दोनों बालबेक में रहते थे

20,21.क़ुरआन में दाऊद या डेविड का 16 बार उल्लेख किया गया है। उन्होंने युद्ध में इस्राएलियों का नेतृत्व किया और जीत हासिल की, और उनके पास बहुत से चमत्कार थे। उनके पुत्र, सुलैमान या सोलोमन का 17 बार उल्लेख किया गया है और वह महान चमत्कारों वाले राजा भी थे। दोनों को यरूशलेम में दफनाया गया था

22. जकारियाह या जकर्याह का उल्लेख 7 बार किया गया है। वह एक बढ़ई थे। उसने यीशु की माता मरियम को पाला था

23.  याह्या या जॉन जकारियाह के पुत्र हैं और इनका क़ुरआन में 5 बार उल्लेख किया गया है। वह यरूशलेम में मारे गए, और उनका सिर दमिश्क ले जाया गया।

24. ईसा या जीसस नाम का 25 बार, मसीह का 11 बार और 'मरयम के पुत्र' का 23 बार उल्लेख किया गया है। उनका जन्म फिलिस्तीन के बेथलहम में हुआ था। कहा जाता है कि वह अपनी मां के साथ मिस्र गये थे। वह इस्राईल के वंश में अन्तिम पैगंबर थे

पांच पैगंबर अरब के थे: हूद, सालेह, शुएब, इस्माइल और मुहम्मद। उनमें से चार को अरब के लोगों के लिए भेजा गया था, जबकि मुहम्मद को सभी मनुष्यों के लिए भेजा गया था।

अंत में, पैगंबर, बाइबिल और गैर-बाइबिल, इस्लामी धर्मग्रंथ के अभिन्न अंग हैं। मुसलमान खुद को ईश्वर द्वारा मानवता के लिए भेजे गए पैगंबरो के लक्ष्य के सच्चे उत्तराधिकारी के रूप में देखते हैं: एक सच्चे ईश्वर की पूजा और उसकी आज्ञाकारिता।

चयनित संदर्भ:

1.    इब्न कथिर। कसस उल-अम्बिया। काहिरा: दार अत-तबा वा-नशर अल-इस्लामिया, 1997

2.     इब्न हजर अल-असकलानी। तुहफा उल-नुबाला 'मिन कसस इल-अम्बिया लिल इमाम अल-हाफिद इब्न कथिर। जेद्दा: मकतबा अस-सहाबा, 1998.

3.    महमूद अल-मसरी। क़सस उल-अम्बिया लिल-अत्फ़ल। काहिरा: मकतबा अस-सफा, 2009।

4.    डॉ. शकी अबू खलील। एटलस अल-क़ुरआन। दमिश्क: दार-उल-फ़िक्र, 2003.

इस लेख के भाग

सभी भागो को एक साथ देखें

टिप्पणी करें

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

लेख की सूची बनाएं

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास

आपकी इतिहास सूची खाली है।

View Desktop Version