L'articolo / video che hai richiesto non esiste ancora.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

요청한 문서 / 비디오는 아직 존재하지 않습니다.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

המאמר / הסרטון שביקשת אינו קיים עדיין.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

L'articolo / video che hai richiesto non esiste ancora.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

요청한 문서 / 비디오는 아직 존재하지 않습니다.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

המאמר / הסרטון שביקשת אינו קיים עדיין.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

क्रिस्टिन, पूर्व-कैथोलिक, अमेरिका (2 का भाग 1)

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:

विवरण: एक पूर्व ईसाई महिला की उन चीजों पर चर्चा जो उसे ईसाई धर्म में अतार्किक लगी और उसकी यहूदी धर्म में रुचि।

  • द्वारा Kristin
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 150 (दैनिक औसत: 2)
  • रेटिंग: अभी तक रेटिंग नहीं दी गई है
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0

धर्म की मेरी खोज हाई स्कूल में तब शुरू हुई जब मैं 15 या 16 साल की थी। मैं उन लोगों के एक बुरे समूह के साथ जुड़ी हुई थी, जिन्हें मैं अपने दोस्त मानती थी, लेकिन समय के साथ मुझे एहसास हुआ कि ये लोग गलत थे। मैंने देखा कि उनका जीवन किस दिशा में जा रहा था, और यह अच्छा नहीं था। मैं नहीं चाहती थी कि इन लोगों का भविष्य का मेरी सफलता पर कोई प्रभाव पड़े, इसलिए मैंने उनसे खुद को पूरी तरह से अलग कर लिया। शुरुआत में यह मुश्किल था, क्योंकि मैं दोस्तों के बिना अकेली थी। मैंने खुद को जोड़ने के लिए कुछ ऐसा ढूंढना शुरू किया जिस पर मैं भरोसा कर सकूं और अपने जीवन को आधार बना सकूं .... ऐसा कुछ जिसे कोई भी व्यक्ति कभी भी मेरे भविष्य को नष्ट करने के लिए उपयोग नहीं कर सकता। स्वाभाविक रूप से, मैं ईश्वर की तलाश में चल पड़ी। हालाँकि, यह पता लगाना आसान नहीं था कि ईश्वर कौन है और सत्य क्या है। आखिर सच क्या है?! जब मैंने धर्म की खोज शुरू की तो यह मेरा प्राथमिक प्रश्न था।

मेरे अपने परिवार में, धर्म के कई बदलाव हुए हैं। मेरे परिवार में यहूदी और कुछ प्रकार के ईसाई धर्म हैं, और अब अलहम्दुलिल्लाह (ईश्वर का शुक्र है) इस्लाम है।

जब मेरी माँ और पिताजी की शादी हुई, तो उन्हें यह तय करने की आवश्यकता महसूस हुई कि बच्चों को किस धर्म में लाया जाए। चूंकि कैथोलिक चर्च वास्तव में उनके लिए एकमात्र विकल्प था (हमारे गांव में सिर्फ 600 लोग हैं) वे दोनों कैथोलिक धर्म में परिवर्तित हो गए और बहन और मेरी कैथोलिक के रूप में परवरिश की। मेरे अपने परिवार में धर्मांतरण की बात की जाये तो, ऐसा लगता है कि वे सभी सुविधा के लिए धर्मांतरण थे। मुझे नहीं लगता कि वे वास्तव में ईश्वर की तलाश कर रहे थे, लेकिन केवल धर्म में एक लक्ष्य को प्राप्त करने के साधन के रूप में जोड़-तोड़ कर रहे थे। अतीत में इन सभी परिवर्तनों के बाद भी, मेरी माँ, पिताजी, बहन या मेरे लिए धर्म का कभी भी अत्यधिक महत्व नहीं था। यदि कुछ भी हो, तो हमारा परिवार ऐसा था कि क्रिसमस और ईस्टर के दौरान चर्च में जाता। मैंने हमेशा महसूस किया कि धर्म मेरे जीवन से कुछ अलग है, सप्ताह के 6 दिन जीवन के लिए और चर्च के लिए सप्ताह में केवल एक दिन, उन दुर्लभ अवसरों पर जब मैं गयी थी। दूसरे शब्दों में, मैं ईश्वर के प्रति या दिन-प्रतिदिन के आधार पर उसकी शिक्षाओं के अनुसार कैसे जीना है, इनको लेकर सचेत नहीं थी।

मैंने कुछ कैथोलिक प्रथाओं को स्वीकार नहीं किया जिनमें शामिल हैं:

1)    एक पुजारी के सामने पाप स्वीकार करना: मैंने सोचा कि मैं सीधे ईश्वर के सामने पाप स्वीकार क्यों नही कर सकती और इसके लिए मुझे एक आदमी के माध्यम की क्या जरुरत है?

2)    "उत्तम" पोप- एक आदमी मात्र, जो एक पैगंबर भी नहीं है, कैसे उत्तम हो सकता है?!

3)    संतों की पूजा- क्या यह पहली आज्ञा का सीधा उल्लंघन नहीं था? 14 वर्षों तक जबरन रविवार के दिन स्कूल में उपस्थिति के बाद भी, मुझे इन और अन्य सवालों के जवाब मिले वह यह थे, "आपको बस विश्वास रखना है !!" क्या मुझे सिर्फ इसलिए विश्वास रखना चाहिए क्योंकि किसी ने मुझे बताया?! मैंने सोचा कि विश्वास सत्य पर आधारित होना चाहिए और उत्तर जो तर्क से अपील करता हो, मुझे कुछ खोजने में दिलचस्पी थी।

मैं अपने माता-पिता, या दोस्तों, या किसी और की सच्चाई नहीं चाहती थी। मुझे ईश्वर का सत्य चाहिए था। मैं हर वह विचार चाहती थी, जो मेरे लिए सच हो, क्योंकि मैं इसे पूरे दिल और आत्मा से मानती थी। मैंने तय किया कि अगर मुझे अपने सवालों के जवाब तलाशने हैं, तो मुझे एक वस्तुनिष्ठ दिमाग से खोजना होगा, और मैंने पढ़ना शुरू किया...

मैंने तय किया कि ईसाई धर्म मेरे लिए धर्म नहीं है। मेरा ईसाइयों के साथ कुछ भी व्यक्तिगत नहीं था, लेकिन मैंने पाया कि धर्म में ही कई विसंगतियां हैं, खासकर जब मैंने बाइबल पढ़ी। बाइबल में जिन विसंगतियों को मैंने पढ़ा और जिन बातों का कोई मतलब नहीं था, वे इतनी अधिक थीं कि मुझे वास्तव में शर्मिंदगी महसूस हुई कि मैंने उनसे पहले कभी सवाल क्यों नहीं किया या उन पर ध्यान क्यों नहीं दिया!

चूँकि मेरे परिवार में कुछ लोग यहूदी हैं, इसलिए मैंने यहूदी धर्म पर शोध करना शुरू किया। मैंने अपने आप से सोचा कि शायद इसका उत्तर यहां हो सकता है। इसलिए लगभग एक साल तक मैंने यहूदी धर्म से संबंधित चीज़ पर शोध किया, मेरा मतलब गहरे शोध से है!! हर दिन मैंने कुछ पढ़ने और सीखने की कोशिश की (मैं अभी भी रूढ़िवादी यहूदी कोषेर कानूनों के बारे में जानती हूं!) मैं पुस्तकालय गयी और दो महीने की अवधि के भीतर यहूदी धर्म पर प्रत्येक पुस्तक की जाँच की, जानकारी देखी। इंटरनेट पर, आराधनालय में गयी, आस-पास के शहरों में अन्य यहूदी लोगों के साथ बात की और तौरात और तल्मूद को पढ़ा। यहाँ तक कि मेरा एक यहूदी मित्र भी इजराईलसे मुझसे मिलने आया था! मुझे लगा कि शायद मुझे वह मिल गया जिसकी मुझे तलाश थी। फिर भी, जिस दिन मुझे आराधनालय जाना था और संभवतः अपने रूपांतरण को आधिकारिक बनाने के बारे में रब्बी से मिलना था, मैं पीछे हट गयी। मैं सच में नहीं जानती कि उस दिन मुझे वहां जाने से किस बात ने रोका था, लेकिन जैसे ही मैं दरवाजे से बाहर जाने वाली थी, मैं रुक गयी और वापस अंदर जाकर बैठ गयी। मुझे लगा जैसे मैं उन सपनों में से एक में थी, जहां आप दौड़ने की कोशिश करते हैं लेकिन सब कुछ धीमी गति में है। मुझे पता था कि रब्बी वहाँ है और मेरी प्रतीक्षा कर रहा है, लेकिन मैंने यह कहने के लिए फोन तक नहीं किया कि मैं आ रही हूँ। रब्बी ने भी मुझे नहीं बुलाया। कुछ ज़रूर छूट रहा था...

यह जानने के बाद कि यहूदी धर्म भी उत्तर नहीं है, मैंने (अपने माता-पिता के बहुत दबाव के बाद) ईसाई धर्म को एक और बार आज़माने का सोचा। जैसा कि मैंने कहा, मेरे पास रविवार के स्कूलों के मेरे वर्षों से तकनीकी में एक अच्छी पृष्ठभूमि थी, लेकिन मैं तकनीकी के पीछे की सच्चाई को खोजने के लिए अधिक चिंतित थी। इस सब की सुंदरता क्या थी, इसकी सुरक्षा कहाँ थी और मैं इसे तार्किक रूप से कैसे स्वीकार कर सकती थी? मुझे पता था कि अगर मुझे ईसाई धर्म पर गंभीरता से विचार करना है, तो कैथोलिक धर्म खत्म हो गया है। मैं अपने शहर के हर चर्च गई थी, लूथरन, पेंटेकोस्टल, लैटर डे सेंट्स (मॉर्मन), और गैर-सांप्रदायिक चर्च। मुझे वह उत्तर नहीं मिला जिसकी मुझे तलाश थी!! यह लोगों का माहौल नहीं था जिसने मुझे दूर कर दिया; बल्कि संप्रदायों के बीच की विसंगतियों ने मुझे परेशान कर रखा था। मेरा मानना था कि एक सही तरीका होना चाहिए, तो मैं संभवतः "सही" संप्रदाय को कैसे चुन सकती थी? मेरे हिसाब से एक दयालु और कृपालु ईश्वर के लिए मानवजाति को इस तरह के विकल्प के साथ छोड़ना असंभव और अनुचित था। मैं खो चुकी थी...

 

 

क्रिस्टिन, पूर्व-कैथोलिक, अमेरिका (2 का भाग 2)

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:

विवरण: एक चैट रूम में इस्लाम से परिचित होने के बाद, क्रिस्टिन धर्म पर शोध करते हुए एक पुस्तकालय में क़ुरआन पढ़ते हुए खुद को रोती हुई पाती है।

  • द्वारा Kristin
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 225 (दैनिक औसत: 3)
  • रेटिंग: अभी तक रेटिंग नहीं दी गई है
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0

उस समय मैं उतनी ही भ्रमित और निराश थी, जितनी कि जब मैंने अपनी खोज शुरू की थी। मुझे ऐसा लगा कि मैंने अपनी बाहें ईश्वर की ओर उठाई और चिल्लायी, "अब क्या?" मैं यहूदी नहीं थी, मैं ईसाई नहीं थी; मैं सिर्फ एक मनुष्य थी जो एक ईश्वर में विश्वास करती थी। मैंने संगठित धर्म को एक साथ छोड़ने का विचार किया। मैं केवल सत्य चाहती थी, मुझे परवाह नहीं थी कि यह किस पवित्र पुस्तक से आये; मैं बस इसे चाहती थी।

एक दिन मैं इंटरनेट पर पढ़ रही थी और मैंने एक ब्रेक लेने और चैट रूम खोजने का फैसला किया। मैंने एक "धर्म चैट" देखा, जिसमें निश्चित रूप से मेरी दिलचस्पी थी, इसलिए मैंने उस पर क्लिक किया। मैंने "मुस्लिम चैट" नाम का एक चैट रूम देखा। क्या मुझे इसमे चैट करना चाहिए? मैं उम्मीद कर रही थी कि कोई आतंकवादी मेरे ई-मेल तक ना पहुंच जाये और मुझे कंप्यूटर वायरस नहीं भेजे - या इससे भी कुछ बुरा। बड़ी-बड़ी दाढ़ी वाले काले कपड़े पहने हुए बड़े-बड़े आदमियों के मेरे दरवाजे पर आकर मुझे अगवा करने की तस्वीरें मेरे दिमाग में कौंध गईं। (आप समझ सकते हैं कि मैं इस्लाम के बारे में कितना जानती थी - शून्य!) लेकिन फिर मैंने सोचा, चलो, यह सिर्फ एक सीधा जाँच पड़ताल है। मैंने चैट करने का फैसला किया और देखा कि उधर लोग उतने डरावने नहीं थे जितना मैंने सोचा था कि वे होंगे। वास्तव में, उनमें से अधिकांश एक-दूसरे को "भाई" या "बहन" कहते थे, भले ही वे अभी-अभी मिले हों! मैंने सभी को नमस्ते कहा और उनसे कहा कि मुझे इस्लाम की बुनियादी बातों से अवगत कराएं - जिसके बारे में मुझे कुछ नहीं पता था। उन्हें जो कहा वह दिलचस्प था और जो मैं पहले से ही मानती थी, उससे मेल खाता था। कुछ लोगों ने मुझे किताबें भेजने की पेशकश की तो मैंने कहा ठीक है। (वैसे, मुझे कभी कोई वायरस नहीं आया और मेरे पति को छोड़कर कोई भी पुरुष मुझे लेने के लिए मेरे दरवाजे पर नहीं आया, लेकिन मैं स्वेच्छा से गई!)

जब मैंने चैट को लॉग ऑफ किया, तो मैं सीधे पुस्तकालय गयी और इस्लाम पर हर किताब की जाँच की, जैसा कि मैंने यहूदी धर्म के लिए किया था। अब मेरी रुचि पढ़ने और सीखने की थी। इससे पहले कि मैं किताबों का विशाल ढेर घर ले आऊं, मैं कुछ देखना चाहती थी। यह मेरे लिए एक महत्वपूर्ण मोड़ था... पहली कुछ किताबें, जिन पर मैंने गौर किया उनमें मूल बातें अधिक विस्तार से बताई गईं, कुछ विद्या संबधित थीं और कुछ में स्कार्फ में महिलाओं के साथ विशाल सुंदर मस्जिदों के चित्र थे। सौभाग्य से मैंने क़ुरआन की भी जाँच की...मैंने इसे बेतरतीब ढंग से खोला और पढ़ना शुरू किया। भाषा ने मुझे सबसे पहले घायल किया, मुझे लगा कि एक अधिकारी मुझसे बात कर रहा है, न कि एक आदमी बात कर रहा है जैसा कि मैंने अन्य "पवित्र" ग्रंथों के साथ महसूस किया था। जो अंश मैंने पढ़ा (और दुर्भाग्य से मुझे नहीं पता कि वह क्या था) इस बारे में बात करता है कि ईश्वर आपसे इस जीवन में क्या करने की अपेक्षा करता है और उसकी आज्ञाओं के अनुसार इसे कैसे जीना है। इसमें कहा गया है कि ईश्वर सबसे दयालु और मेहरबान और क्षमा करने वाला है। सबसे महत्वपूर्ण बात, उसी की ओर हमारी वापसी है। इससे पहले कि मैं यह जानती, मैं अपने प्रत्येक आंसू की बूंदों को सुन सकती थी, क्योंकि वे उन पन्नों पर टकराते थे जिन्हें मैं पढ़ रही थी। मैं पुस्तकालय के ठीक बीच में रो रही थी, क्योंकि आखिरकार, मेरी सारी खोज और आश्चर्य के बाद मुझे वह मिल गया, जिसकी मुझे तलाश थी- अर्थात इस्लाम। मुझे पता था कि क़ुरआन कुछ अनोखा है क्योंकि मैंने बहुत सारे धार्मिक साहित्य पढ़े हैं, और उनमें से कोई भी इतना स्पष्ट नहीं था या मुझे ऐसा एहसास नहीं हुआ था। अब मैं ईश्वर के ज्ञान को देख सकती हूं ... की उन्होंने इस्लाम को खोजने से पहले मुझे यहूदी और ईसाई धर्म का इतनी अच्छी तरह से पता लगाने का मौका दिया, ताकि मैं उन सभी की तुलना कर सकूं और महसूस कर सकूं कि इस्लाम की तुलना में कुछ भी नहीं है।

तब से मैं इस्लाम पर शोध करती रही। मैंने यहूदी धर्म और ईसाई धर्म के साथ जैसा किया था, उस की तरह विसंगतियों की तलाश में इस्लाम का भी शोध किया, लेकिन इस्लाम में कुछ भी ऐसा नहीं मिला। मैंने विसंगति की तलाश में क़ुरआन की छानबीन की; परंतु मैं आज तक उसमें एक भी विसंगति नहीं खोज पाई! क़ुरआन के बारे में मुझे एक और बड़ी बात यह पसंद है कि यह पाठक को इस पर सवाल उठाने की चुनौती देता है। यह अपने बारे में कहता है कि यदि यह ईश्वर की ओर से नहीं होता तो निश्चित रूप से आप इसमें बहुत सारी विसंगतियाँ पाते! इस्लाम न केवल विसंगतियों से मुक्त है, इसमें हर प्रश्न का उत्तर है जिसके बारे में मैं सोच सकती थी - एक ऐसा उत्तर जिसका मतलब है।

तीन महीने बाद, मैंने तय किया कि इस्लाम ही जवाब है और शाहदह कहकर अपने धर्मांतरण को आधिकारिक बना दिया। हालाँकि, मुझे पेनसिल्वेनिया के एक इमाम के साथ स्पीकर फोन पर अपनी शाहदह कहनी पड़ी, क्योंकि मेरे नजदीक कोई मुस्लिम या मस्जिद नहीं थी (निकटतम लगभग 6 घंटे की दूरी पर थी)। मुझे धर्म परिवर्तन के अपने निर्णय पर कभी पछतावा नहीं हुआ। चूंकि मेरे आस-पास कोई मुसलमान नहीं रहता था, इसलिए मुझे पहल करनी पड़ी और खुद बहुत कुछ सीखना पड़ा, लेकिन मैं इससे कभी नहीं थकी क्योंकि मैं सच्चाई सीख रही थी। इस्लाम को स्वीकार करना मेरी आत्मा, मेरे दिमाग और यहां तक कि मैं दुनिया को कैसे देखती हूं, के जागने जैसा था।

मैं इसकी तुलना किसी ऐसे व्यक्ति से कर सकती हूं जिसकी नजर खराब है; वह कक्षा में बने रहने के लिए संघर्ष करता है, ध्यान केंद्रित नहीं कर पाता है और उसे विकलांगता से लगातार चुनौती मिलती रहती है। अगर आप उसे सिर्फ एक जोड़ी चश्मा दें तो सब कुछ स्पष्ट हो जाता है। इस्लाम के बारे में मेरा अनुभव इस प्रकार है: जैसे एक जोड़ी चश्मा प्राप्त करना, जिसने मुझे पहली बार वास्तव में देखने की अनुमति दी।

इस लेख के भाग

सभी भागो को एक साथ देखें

टिप्पणी करें

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

लेख की सूची बनाएं

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास

आपकी इतिहास सूची खाली है।

View Desktop Version