El artículo / video que has solicitado no existe todavía.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

L'articolo / video che hai richiesto non esiste ancora.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

요청한 문서 / 비디오는 아직 존재하지 않습니다.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

המאמר / הסרטון שביקשת אינו קיים עדיין.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

El artículo / video que has solicitado no existe todavía.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

L'articolo / video che hai richiesto non esiste ancora.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

요청한 문서 / 비디오는 아직 존재하지 않습니다.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

המאמר / הסרטון שביקשת אינו קיים עדיין.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

मन की शांति की खोज (4 का भाग 1): मन की शांति प्राप्त करने में बाधाएं

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:

विवरण: लोगों के लिए मन की शांति क्या है और वे इसे प्राप्त करने का प्रयास कैसे करते हैं, इस पर एक नज़र; उन बाधाओं पर भी एक नज़र जो हमें मन की शांति प्राप्त करने से रोकती हैं।

  • द्वारा Dr. Bilal Philips (transcribed from an audio lecture by Aboo Uthmaan)
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 718 (दैनिक औसत: 4)
  • रेटिंग: अभी तक रेटिंग नहीं दी गई है
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0

मन की शांति का विषय एक सार्वभौमिक आवश्यकता है। इस ग्रह पर ऐसा कोई नहीं है जो मन की शांति नहीं चाहता हो। यह कोई ऐसी इच्छा नहीं है जो हमारे लिए नई हो; बल्कि यह कुछ ऐसा है जिसे हर कोई युगों से खोज रहा है चाहे वो किसी भी रंग, संप्रदाय, धर्म, नस्ल, देश, आयु, लिंग, धन, क्षमता या तकनीकी प्रगति का हो।

लोगों ने मन की शांति के लिए कई तरह के रास्ते अपनाए हैं, कुछ ने भौतिक संपत्ति और धन जमा करके, अन्य ने ड्रग्स के माध्यम से; कुछ ने संगीत के माध्यम से, अन्य ने ध्यान के माध्यम से; कुछ ने अपने पति और पत्नी के माध्यम से, अन्य ने अपने करियर के माध्यम से और कुछ ने अपने बच्चों की उपलब्धियों के माध्यम से। और भी बहुत कुछ।

फिर भी तलाश जारी रहती है। हमारे समय में हमें यह बताया गया है कि तकनीकी प्रगति और आधुनिकीकरण हमारे लिए भौतिक सुख-सुविधाएं लाएगा और इनके माध्यम से हमें मन की शांति मिलेगी।

हालांकि, अगर हम दुनिया के सबसे अधिक तकनीकी रूप से उन्नत और सबसे अधिक औद्योगीकृत राष्ट्र अमेरिका को देखें तो हम देखेंगे कि हमें जो बताया गया है वह सत्य नहीं है। आंकड़े बताते हैं कि अमेरिका में लगभग 20 मिलियन वयस्क सालाना अवसाद (डिप्रेशन) से पीड़ित होते हैं; और अवसाद मन की अशांति के सिवा कुछ नही है। इसके अलावा वर्ष 2000 में आत्महत्या के कारण मृत्यु की दर एड्स से मरने वालों की दर से दोगुनी थी। हालांकि जैसा हम समाचार मीडिया को जानते हैं, हम उन लोगों के बारे में अधिक सुनते हैं जो एड्स से मरते हैं और उन लोगों के बारे में नहीं सुनते जो आत्महत्या से मरते हैं। इसके अलावा अमेरिका में लोग हत्या से ज्यादा आत्महत्या से मरते हैं, और हत्या की दर ही बहुत ज्यादा है।

तो वास्तविकता यह है कि तकनीकी प्रगति और आधुनिकीकरण की वजह से मन की शांति नहीं आती। आधुनिकीकरण की सुविधाओं के बावजूद हमारे मन की शांति हमारे पूर्वजों की तुलना में बहुत कम है।

मन की शांति हमारे जीवन के अधिकांश भाग में नहीं होती है; ऐसा लगता है कि यह कभी हमारे वश में नही है।

हम में से कई लोग व्यक्तिगत सुख को मन की शांति समझने की भूल करते हैं; हम विभिन्न प्रकार की चीजों का आनंद लेते हैं, चाहे वह धन हो, यौन संबंध हों या और कुछ। लेकिन ये ज्यादा समय के नही होते, आते-जाते रहते हैं। हां हमें समय-समय पर व्यक्तिगत सुख मिलते हैं और हम समय-समय पर विभिन्न चीजों से प्रसन्न होते हैं, लेकिन यह मन की शांति नही है। मन की सच्ची शांति स्थिरता और संतोष की वह भावना है जो हमें जीवन की सभी मुश्किलों और कठिनाइयों में जीना सिखाती है।

हमें यह समझने की जरूरत है कि मन की शांति कोई ऐसी चीज नहीं है जो हमारे आसपास इस दुनिया में मौजूद है क्योंकि जब हम शब्दकोश की परिभाषा के अनुसार शांति को परिभाषित करते हैं तो इसका मतलब है युद्ध या झगड़े से मुक्ति। ऐसा कहीं नही होता। दुनिया में कहीं न कहीं हमेशा युद्ध या किसी प्रकार की नागरिक अशांति रहती है। यदि हम शांति को राज्य स्तर की दृष्टि से देखें तो शांति का मतलब है अव्यवस्था से मुक्ति और सुरक्षा, लेकिन दुनिया में पूर्ण रूप से ऐसा कहीं नही है। यदि हम शांति को सामाजिक, पारिवारिक और काम के स्तर पर देखें तो शांति का मतलब है असहमति और तर्क-वितर्क से मुक्ति, लेकिन क्या कोई ऐसा सामाजिक वातावरण है जिसमें कभी असहमति या तर्क न हो? अगर किसी जगह की बात की जाये, तो हां ऐसा स्थान हो सकता है जहां शांति हो, उदाहरण के लिए कुछ द्वीप, लेकिन यह बाहरी शांति थोड़े समय के लिए होगी, कभी न कभी आंधी या तूफान आएगा ही।

ईश्वर कहता है:

"वास्तव में मैंने इंसान को संघर्ष में रहने वाला बनाया है।" (क़ुरआन 90:4)

यही हमारे जीवन का स्वाभाव है; हमारे जीवन में कठिन परिश्रम और संघर्ष है, उतार-चढ़ाव है, कठिनाइयों का समय और आराम का समय है।

यह परीक्षाओं से भरा जीवन है जैसा कि ईश्वर कहता है:

"और हम निश्चित ही कुछ भय से, और कुछ भूख से, और कुछ जान-माल और पैदावार की कमी से तुम्हारी परीक्षा लेंगे। और धैर्य से काम लेनेवालों को शुभ-सूचना दे दो।" (क़ुरआन 2:155)

जीवन के परिश्रम और संघर्ष की परिस्थितियों से निपटने के लिए, धैर्य ही कुंजी है।

लेकिन अगर हम उस मन की शांति की बात करें जो हम ढूंढ रहें है और अगर हमारे पास वह मन की शांति नहीं है तो हम धैर्य नहीं रख सकते हैं।

हम परिश्रम और संघर्ष की दुनिया में रह रहे हैं, लेकिन फिर भी इस दुनिया में पर्यावरण की शांति से हम अपने मन की शांति प्राप्त कर सकते हैं।

बेशक यहां कुछ बाधाएं हैं जो हमें शांति प्राप्त करने से रोकती हैं। इसलिए सबसे पहले हमें अपने जीवन की उन बाधाओं को पहचानना होगा जो हमें मन की शांति प्राप्त करने से रोकती हैं और उन्हें दूर करने के लिए रणनीति बनानी होगी। बाधाएं केवल यह सोच लेने से नहीं हटेंगी कि हमें उन्हें दूर करना है; हमें इसके लिए कुछ कदम उठाने पड़ेंगे। तो हम इन बाधाओं को कैसे दूर करेंगे ताकि हमें वो मिल सके जिससे मन की शांति मिलना संभव हो?

सबसे पहले हमें बाधाओं को पहचानना होगा। हमें इनके प्रति जागरूक रहना होगा, क्योंकि यदि हम इन्हें पहचान नहीं पाएंगे तो इन्हें दूर भी नहीं कर पाएंगे।

दूसरा कदम है इन बाधाओं को स्वीकार करना। उदाहरण के लिए, क्रोध मन की शांति के लिए सबसे बड़ी बाधाओं में से एक है। उदाहरण के लिए, अगर कोई व्यक्ति गुस्से में है, तो उस परिस्थिति में उसे मन की शांति कैसे मिल सकती है? यह संभव नहीं है। इसलिए व्यक्ति को यह पहचानने की जरूरत है कि क्रोध मन की शांति के लिए एक बाधा है।

हालांकि, अगर कोई व्यक्ति कहता है कि, "हां, यह एक बाधा है लेकिन मुझे गुस्सा नहीं आता", तो ऐसा व्यक्ति गलत है। उसने उस बाधा को एक समस्या नहीं माना और वह आत्म-त्याग की स्थिति में है। ऐसे में वह इस बाधा को दूर नहीं कर सकता।

यदि हम जीवन में आने वाली बाधाओं को देखें तो हम उन्हें विभिन्न शीर्षकों में रख सकते हैं: व्यक्तिगत समस्याएं, पारिवारिक मुद्दे, वित्तीय दुविधाएं, काम का दबाव और आध्यात्मिक भ्रम। और इन शीर्षकों के तहत कई मुद्दे हैं।

इस लेख के भाग

सभी भागो को एक साथ देखें

टिप्पणी करें

इसी श्रेणी के अन्य लेख

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

लेख की सूची बनाएं

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास

आपकी इतिहास सूची खाली है।

View Desktop Version