Статьи / видео вы запросили еще не существует.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

O artigo / vídeo que você requisitou não existe ainda.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

L'articolo / video che hai richiesto non esiste ancora.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

요청한 문서 / 비디오는 아직 존재하지 않습니다.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

המאמר / הסרטון שביקשת אינו קיים עדיין.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

Статьи / видео вы запросили еще не существует.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

O artigo / vídeo que você requisitou não existe ainda.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

L'articolo / video che hai richiesto non esiste ancora.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

요청한 문서 / 비디오는 아직 존재하지 않습니다.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

המאמר / הסרטון שביקשת אינו קיים עדיין.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

पवित्र क़ुरआन में यीशु और मरियम की कहानी (3 का भाग 1): मरियम

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:

विवरण: निम्नलिखित तीन भागो की श्रृंखला में मरयम (यीशु की माता) के बारे में पवित्र क़ुरआन के छंद शामिल हैं, जिसमें उनके जन्म, बचपन, व्यक्तिगत गुण और यीशु का चमत्कारी जन्म शामिल है।

  • द्वारा IslamReligion.com
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 27 Dec 2021
  • मुद्रित: 1
  • देखा गया: 381 (दैनिक औसत: 5)
  • रेटिंग: अभी तक रेटिंग नहीं दी गई है
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0

मरियम का जन्म

“वस्तुतः, ईश्वर ने आदम, नूह़, इब्राहीम की संतान तथा इमरान की संतान को संसार वासियों में चुन लिया था। ये एक-दूसरे की संतान हैं और अल्लाह सब सुनता और जानता है। जब इमरान की पत्नी ने कहाः हे मेरे पालनहार! जो मेरे गर्भ में है, मैंने तेरे लिए उसे मुक्त करने की मनौती मान ली है। तू इसे मुझसे स्वीकार कर ले। वास्तव में, तू ही सब कुछ सुनता और जानता है। फिर जब उसने बालिका जनी, तो (संताप से) कहाः मेरे पालनहार! मुझे तो बालिका हो गयी, हालाँकि जो उसने जना, उसका अल्लाह को भली-भाँति ज्ञान था -और नर नारी के समान नहीं होता- और मैंने उसका नाम मर्यम रखा है और मैं उसे तथा उसकी संतान को धिक्कारे हुए शैतान से तेरी शरण में देती हूँ।'' (क़ुरआन 3:33-36)

मरियम का बचपन

"तो तेरे पालनहार ने उसे भली-भाँति स्वीकार कर लिया तथा उसका अच्छा प्रतिपालन किया और ज़करिय्या को उसका संरक्षक बनाया। ज़करिय्या जबभी उसके मेह़राब (उपासना कक्ष) में जाता, तो उसके पास कुछ खाद्य पदार्थ पाता, वह कहता कि हे मरयम! ये कहाँ से (आया) है? वह कहतीः ये ईश्वर के पास से आया है। वास्तव में, ईश्वर जिसे चाहता है, अगणित जीविका प्रदा करता है।" (क़ुरआन 3:37)

भक्त मरियम

"और (याद करो) जब स्वर्गदूतो ने मरयम से कहाः हे मरयम! तुझे ईश्वर ने चुन लिया तथा पवित्रता प्रदान की और संसार की स्त्रियों पर तुझे चुन लिया। हे मरयम! अपने पालनहार की आज्ञाकारी रहो, सज्दा करो तथा रुकूअ करने वालों के साथ रुकूअ करती रहो। ये ग़ैब (परोक्ष) की सूचनायें हैं, जिन्हें हम आपकी ओर प्रकाशना कर रहे हैं और आप उनके पास उपस्थित नहीं थे, जब वे अपनी पर्चियां फेंक रहे थे कि कौन मरयम का अभिरक्षण करेगा और न उनके पास उपस्थित थे, जब वे झगड़ रहे थे।” (क़ुरआन  3:42-44)

नवजात बच्चे के लिए खुशखबरी

"जब स्वर्दूतो ने कहाः हे मरयम! ईश्वर तुझे अपने एक शब्द की शुभ सूचना दे रहा है, जिसका नाम मसीह़ ईसा पुत्र मरयम होगा। वह लोक-प्रलोक में प्रमुख तथा मेरे समीपवर्तियों में होगा। वह लोगों से गोद में तथा अधेड़ आयु में बातें करेगा और सदाचारियों में होगा। मरयम ने (आश्चर्य से) कहाः मेरे पालनहार! मुझे पुत्र कहाँ से होगा, मुझे तो किसी पुरुष ने हाथ भी नहीं लगाया है? उसने कहाः इसी प्रकार ईश्वर जो चाहता है, उत्पन्न कर देता है। जब वह किसी काम के करने का निर्णय कर लेता है, तो उसके लिए कहता है किः "हो जा", तो वह हो जाता है। और ईश्वर उसे पुस्तक तथा प्रबोध और तौरात तथा इंजील की शिक्षा देगा। और फिर वह बनी इस्राईल का एक दूत होगा और कहेगाः कि मैं तुम्हारे पालनहार की ओर से निशानी लाया हूं। मैं तुम्हारे लिए मिट्टी से पक्षी के आकार के समान बनाऊंगा, फिर उसमें फूंक दूंगा, तो वह ईश्वर की अनुमति से पक्षी बन जायेगा और ईश्वर की अनुमति से जन्म से अंधे तथा कोढ़ी को स्वस्थ कर दूंगा और मुर्दो को जीवित कर दूंगा तथा जो कुछ तुम खाते तथा अपने घरों में संचित करते हो, उसे तुम्हें बता दूंगा। निःसंदेह, इसमें तुम्हारे लिए बड़ी निशानियां हैं, यदि तुम विश्वासी हो। तथा मैं उसकी सिध्दि करने वाला हूं, जो मुझसे पहले की है 'तौरात'। तुम्हारे लिए कुछ चीज़ों को ह़लाला (वैध) करने वाला हूं, जो तुमपर ह़राम (अवैध) की गयी है तथा मैं तुम्हारे पास तुम्हारे पालनहार की निशानी लेकर आया हूं। अतः तुम ईश्वर से डरो और मेरे आज्ञाकारी हो जाओ। वास्तव में, ईश्वर मेरा और तुम सबका पालनहार है। अतः उसी की वंदना करो। यही सीधी डगर है।" (क़ुरआन 3:45-51)

"तथा आप, इस पुस्तक (क़ुरआन) मे मरयम की चर्चा करें, जब वह अपने परिजनों से अलग होकर एक पूर्वी स्थान की ओर आयीं। फिर उनकी ओर से पर्दा कर लिया, तो हमने उसकी ओर अपनी रूह़ (आत्मा) को भेजा, तो उसने उसके लिए एक पूरे मनुष्य का रूप धारण कर लिया। उसने कहाः मैं शरण माँगती हूँ अत्यंत कृपाशील की तुझ से, यदि तुझे ईश्वर का कुछ भी भय हो।"[1] स्वर्गदूत ने कहाः मैं तेरे पालनहार का भेजा हुआ हूँ, ताकि तुझे एक पुनीत बालक प्रदान कर दूँ। वह बोलीः ये कैसे हो सकता है कि मेरे बालक हों, जबकि किसी पुरुष ने मुझे स्पर्श भी नहीं किया है और न मैं व्यभिचारिणी हूँ? स्वर्गदूत ने कहाः ऐसा ही होगा, तेरे पालनहार का वचन है कि वह मेरे लिए अति सरल है और ताकि हम उसे लोगों के लिए एक निशानी बनायें तथा अपनी विशेष दया से और ये एक निश्चित बात है।[2] (क़ुरआन 19:16-21)

बेदाग गर्भाधान

"तथा जिसने रक्षा की अपनी सतीत्व की, तो फंक दी हमने उसके भीतर अपनी आत्मा से और उसे तथा उसके पुत्र को बना दिया एक निशानी संसार वासियों के लिए।"[3] (क़ुरआन  21:91)

यीशु का जन्म

"फिर वह गर्भवती हो गई तथा उस (गर्भ को लेकर) दूर स्थान पर चली गयी। फिर प्रसव पीड़ा उसे एक खजूर के तने तक लायी, कहने लगीः क्या ही अच्छा होता, मैं इससे पहले ही मर जाती और भूली-बिसरी हो जाती। तो उसके नीचे से पुकारा कि उदासीन न हो, तेरे पालनहार ने तेरे नीचे एक स्रोत बहा दिया है। और हिला दे अपनी ओर खजूर के तने को, तुझपर गिरायेगा वह ताज़ी पकी खजूरें। अतः, खा, पी तथा आँख ठण्डी कर। फिर यदि किसी पुरुष को देखे, तो कह देः वास्तव में, मैंने मनौती मान रखी है, अत्यंत कृपाशील के लिए व्रत की। अतः, मैं आज किसी मनुष्य से बात नहीं करूँगी। फिर उस (शिशु ईसा) को लेकर अपनी जाति में आयी, सबने कहाः हे मरयम! तूने बहुत बुरा किया। हे हारून की बहन! तेरा पिता कोई बुरा व्यक्ति न था और न तेरी माँ व्यभिचारिणी थी। मरयम ने उस (शिशु) की ओर संकेत किया। लोगों ने कहाः हम कैसे उससे बात करें, जो गोद में पड़ा हुआ एक शिशु है? वह (शिशु) बोल पड़ाः मैं ईश्वर का भक्त हूँ। उसने मुझे पुस्तक (इन्जील) प्रदान की है तथा मुझे पैगंबर बनाया है। [4]  तथा मुझे शुभ बनाया है, जहां रहूं और मुझे आदेश दिया है प्रार्थना तथा दान का, जब तक जीवित रहूं। तथा आपनी माँ का सेवक (बनाया है) और उसने मुझे क्रूर तथा अभागा नहीं बनाया है। तथा शान्ति है मुझपर, जिस दिन मैंने जन्म लिया, जिस दिन मरूंगा और जिस दिन पुनः जीवित किया जाऊंगा।” (क़ुरआन 19:22-33)

“वस्तुतः ईश्वर के पास ईसा की मिसाल ऐसी ही है, जैसे आदम की। उसे (अर्थात, आदम को) मिट्टी से उत्पन्न किया, फिर उससे कहाः "हो जा" तो वह हो गया।[5] (क़ुरआन 3:59)

"और हमने बना दिया मरयम के पुत्र तथा उसकी माँ को एक निशानी तथा दोनों को शरण दी एक उच्च बसने योग्य तथा प्रवाहित स्रोत के स्थान की ओर।"[6] (क़ुरआन 23:50)

मरियम की उत्कृष्टता

"तथा उदाहरण दिया है ईश्वर ने उनके लिए, जो विश्वासी थे, फ़िरऔन की पत्नी का। जब उसने प्रार्थना कीः हे मेरे पालनहार! बना दे मेरे लिए अपने पास एक घर स्वर्ग में तथा मुझे मुक्त कर दे फ़िरऔन तथा उसके कर्म से और मुझे मुक्त कर दे अत्याचारी जाति से। तथा मरयम, इमरान की पुत्री का, जिसने रक्षा की अपने सतीत्व की, तो फूँक दी हमने उसमें अपनी ओर से रूह़ (आत्मा) तथा उस (मरयम) ने सच माना अपने पालनहार की बातों और उसकी पुस्तकों को और वह भक्तो में से थी।” (क़ुरआन 66:11-12)



फुटनोट:

[1] सबसे दयालु, क़ुरआन में ईश्वर के नामों में से एक है।

[2] यीशु ईश्वर की शक्ति का प्रतीक है, जहाँ ईश्वर ने लोगों को दिखाया कि वह बिना पिता के यीशु को बना सकता है, जैसे उसने आदम को बिना माता-पिता के बनाया। यीशु भी एक संकेत है कि ईश्वर सभी लोगों को उनकी मृत्यु के बाद पुनर्जीवित करने में सक्षम है, क्योंकि जो बिना किसी चीज़ से बनाता है वह जीवन में वापस लाने मे भी सक्षम है। वह न्याय के दिन का भी चिन्ह है, जब वह पृथ्वी पर लौटेंगे और अंत समय में मसीह विरोधी को मार डालेंगे।

[3] ठीक उसी तरह जैसे ईश्वर ने आदम को बिना पिता या माता के बनाया, यीशु का जन्म बिना पिता की माता से हुआ था। ईश्वर को कुछ भी करने के लिए बस कहना है, "हो जा" और वह हो जाता है; क्योंकि ईश्वर सब कुछ करने में समर्थ है।

[4] पैगंबर सर्वोच्च और सबसे सम्मानजनक पद है जिस तक मनुष्य पहुँच सकता है। एक पैगंबर वह होता है जो स्वर्गदूत जिब्रईल के माध्यम से ईश्वर से रहस्योद्घाटन प्राप्त करता है।

[5] आदम को तब बनाया गया जब ईश्वर ने कहा, "हो जा," और वह बिना पिता या माता के हुए। और ऐसा ही यीशु को ईश्वर के वचन के द्वारा बनाया गया था। यदि यीशु का असामान्य जन्म उसे दिव्य बनाता है, तो आदम उस देवत्व के अधिक योग्य है क्योंकि यीशु के कम से कम एक माता थी, जबकि आदम के पास पिता या माता कोई नहीं था। जैसे आदम दैवीय नहीं है, वैसे ही यीशु भी दैवीय नहीं है, लेकिन दोनों ही ईश्वर के विनम्र सेवक हैं।

[6] यहीं पर मरियम ने यीशु को जन्म दिया।

 

 

पवित्र क़ुरआन में यीशु और मरियम की कहानी (3 का भाग 2): यीशु

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:

विवरण: यह भाग पैगंबर यीशु के बारे में क़ुरआन में क्या लिखा है, उनके जीवन, उनके संदेश, चमत्कारों, उनके शिष्यों बारे में बताता है।

  • द्वारा IslamReligion.com
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 261 (दैनिक औसत: 3)
  • रेटिंग: अभी तक रेटिंग नहीं दी गई है
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0

पैगंबर यीशु

"(हे मुसलमानो!) तुम सब कहो कि हमने ईश्वर पर विश्वास किया तथा उसपर जो (क़ुरआन) हमारी ओर उतारा गया और उसपर जो इब्राहीम, इस्माईल, इस्ह़ाक़, याक़ूब तथा उनकी संतान की ओर उतारा गया और जो मूसा तथा ईसा को दिया गया तथा जो दूसरे पैगंबरो को, उनके पालनहार की ओर से दिया गया। हम इनमें से किसी के बीच अन्तर नहीं करते और हम उसी के आज्ञाकारी हैं।" (क़ुरआन 2:136)

"(हे नबी!) हमने आपकी ओर वैसे ही वह़्यी भेजी है, जैसे नूह़ और उसके पश्चात के पैगंबरो के पास भेजी और इब्राहीम, इस्माईल, इस्ह़ाक़, याक़ूब तथा उसकी संतान, ईसा, अय्यूब, यूनुस, हारून और सुलैमान के पास वह़्यी भेजी और हमने दाऊद को ज़बूर प्रदान की थी।" (क़ुरआन 4:163)

"मरयम का पुत्र मसीह़ इसके सिवा कुछ नहीं कि वह एक दूत है, उससे पहले भी बहुत-से दूत हो चुके हैं, उसकी माँ सच्ची थी [1] दोनों भोजन करते थे।[2] आप देखें कि हम कैसे उनके लिए निशानियाँ (एकेश्वरवाद के लक्षण) उजागर कर रहे हैं, फिर देखिए कि वे कहाँ बहके जा रहे हैं?" (क़ुरआन 5:75)

"यीशु सिर्फ एक भक्त (दास) हैं जिसपर हमने उपकार किया तथा उसे इस्राईल की संतान के लिए एक आदर्श बनाया।" (क़ुरआन 43:59)

यीशु का संदेश

"फिर हमने उन पैगंबरो के पश्चात् मरयम के पुत्र यीशु को भेजा, उसे सच बताने वाला, जो उसके सामने तौरात थी तथा उसे इंजील प्रदान की, जिसमें मार्गदर्शन तथा प्रकाश है, उसे सच बताने वाली, जो उसके आगे तौरात थी तथा ईश्वर से डरने वालों के लिए सर्वथा मार्गदर्शन तथा शिक्षा थी।” (क़ुरआन 5:46)

"हे अहले किताब (ईसाईयो!) अपने धर्म में अधिकता न करो और ईश्वर पर केवल सत्य ही बोलो। मसीह़ मरयम का पुत्र केवल ईश्वर का दूत और उसका शब्द है, जिसे (ईश्वर ने) मरयम की ओर डाल दिया तथा उसकी ओर से एक आत्मा है।[3] अतः, ईश्वर और उसके दूतों पर विश्वास करो और ये न कहो कि ईश्वर तीन हैं, इससे रुक जाओ, यही तुम्हारे लिए अच्छा है, इसके सिवा कुछ नहीं कि ईश्वर ही अकेला पूज्य है, वह इससे पवित्र है कि उसका कोई पुत्र हो, आकाशों तथा धरती में जो कुछ है, उसी का है और ईश्वर काम बनाने के लिए बहुत है। मसीह़ कदापि ईश्वर का दास होने को अपमान नहीं समझता और न (ईश्वर के) समीपवर्ती स्वर्गदूत।[4]  जो व्यक्ति उसकी वंदना को अपमान समझेगा तथा अभिमान करेगा, तो उन सभी को वह अपने पास एकत्र करेगा।” (क़ुरआन 4:171-172)

“ये मरयम का पुत्र यीशु है, यही सत्य बात है, जिसके विषय में लोग संदेह कर रहे हैं। ईश्वर का ये काम नहीं कि अपने लिए कोई संतान बनाये, वह पवित्र है! जब वह किसी कार्य का निर्णय करता है, तो उसके सिवा कुछ नहीं होता कि उसे आदेश दे किः “हो जा” और वह हो जाता है।[5] और (ईसा ने कहाः) वास्तव में, ईश्वर मेरा पालनहार तथा तुम्हारा पालनहार है, अतः, उसी की वंदना करो, यही सुपथ (सीधी राह) है। फिर सम्प्रदायों ने आपस में विभेद किया, तो विनाश है उनके लिए, जो अविश्वासी है, एक बड़े दिन के आ जाने के कारण। (क़ुरआन 19:34-37)

"और जब आ गया यीशु खुली निशानियां लेकर, तो कहाः मैं लाया हूं तुम्हारे पास ज्ञान और ताकि उजागर कर दूं तुम्हारे लिए वह कुछ बातें, जिनमें तुम विभेद कर रहे हो। अतः, ईश्वर से डरो और मेरा ही कहा मानो। वास्तव में, ईश्वर ही मेरा पालनहार तथा तुम्हारा पालनहार है। अतः, उसी की वंदना करो, यही सीधी राह है। फिर विभेद कर लिया गिरोहों ने आपस में। तो विनाश है उनके लिए जिन्होंने अत्याचार किया, दुःखदायी दिन की यातना से। (क़ुरआन 43:63-65)

"तथा याद करो जब कहा मरयम के पुत्र यीशु नेः हे इस्राईल की संतान! मैं तुम्हारी ओर दूत हूं और पुष्टि करने वाला हूं उस तौरात की जो मुझसे पूर्व आयी है तथा शुभ सूचना देने वाला हूं एक दूत की, जो आयेगा मेरे पश्चात्, जिसका नाम अह़्मद है।[6] फिर जब वह आ गये उनके पास खुले प्रमाणों को लेकर, तो उन्होंने कह दिया कि ये तो खुला जादू है।"[7] (क़ुरआन 61:6)

यीशु के चमत्कार

"मरयम ने उस (शिशु) की ओर संकेत किया। लोगों ने कहाः हम कैसे उससे बात करें, जो गोद में पड़ा हुआ एक शिशु है? वह (शिशु) बोल पड़ाः मैं ईश्वर का भक्त हूं। उसने मुझे पुस्तक (इन्जील) प्रदान की है तथा मुझे पैगंबर बनाया है। [8] तथा मुझे शुभ बनाया है, जहां रहूं और मुझे आदेश दिया है प्रार्थना तथा दान का, जब तक जीवित रहूं। तथा आपनी माँ का सेवक बनाया है और उसने मुझे क्रूर तथा अभागा नहीं बनाया है। तथा शान्ति है मुझपर, जिस दिन मैंने जन्म लिया, जिस दिन मरूंगा और जिस दिन पुनः जीवित किया जाऊंगा।” (क़ुरआन 19:29-33)

('नवजात शिशु की खुशखबरी' के तहत और भी चमत्कारों का जिक्र किया गया है)

ईश्वर की अनुमति से स्वर्ग से भोजन मंगाना

"जब शिष्यों ने कहाः हे मरयम के पुत्र यीशु! क्या तेरा पालनहार ये कर सकता है कि हमपर आकाश से थाल उतार दे? यीशु ने कहाः तुम ईश्वर से डरो, यदि तुम वास्तव में विश्वास करने वाले हो। उन्होंने कहाः हम चाहते हैं कि उसमें से खायें और हमारे दिलों को संतोष हो जाये तथा हमें विश्वास हो जाये कि तूने हमें जो कुछ बताया है, सच है और हम उसके साक्षियों में से हो जायें। मरयम के पुत्र यीशु ने प्रार्थना कीः हे ईश्वर, हमारे पालनहार! हमपर आकाश से एक थाल उतार दे, जो हमारे तथा हमारे पश्चात् के लोगों के लिए उत्सव (का दिन) बन जाये तथा तेरी ओर से एक चिन्ह निशानी। तथा हमें जीविका प्रदान कर, तू उत्तम जीविका प्रदाता है। ईश्वर ने कहाः मैं तुमपर उसे उतारने वाला हूं, फिर उसके पश्चात् भी जो अविश्वास करेगा, तो मैं निश्चय उसे दण्ड दूंगा, ऐसा दण्ड कि संसार वासियों में से किसी को, वैसी दण्ड नहीं दूंगा।" (क़ुरआन 5:112-115)

यीशु और उसके शिष्य

"हे विश्वास करने वालो! तुम बन जाओ ईश्वर के धर्म के सहायक, जैसे मरयम के पुत्र यीशु ने शिष्यों से कहा था कि कौन मेरा सहायक है ईश्वर के धर्म के प्रचार में? तो शिष्यों ने कहाः हम हैं ईश्वर के धर्म के सहायक। तो विश्वास किया इस्राईलियों के एक समूह ने और अविश्वास किया दूसरे समूह ने। तो हमने समर्थन दिया उनको, जिन्होंने विश्वास किया उनके शत्रु के विरुध्द, तो वही विजयी रहे।[9] (क़ुरआन 61:14)

" तथा जब मैंने तेरे शिष्यों के दिलों में ये बात डाल दी कि मुझपर तथा मेरे दूत (यीशु) पर विश्वास करो, तो सबने कहा कि हमने विश्वास किया और तू साक्षी रह कि हम मुस्लिम (आज्ञाकारी) हैं।" (क़ुरआन 5:111)

"फिर हमने, निरन्तर उनके पश्चात् अपने दूत भेजे और उनके पश्चात् भेजा मरयम के पुत्र यीशु को तथा प्रदान की उसे इन्जील और कर दिया उसका अनुसरण करने वालों के दिलों में करुणा तथा दया और संसार त्याग को उन्होंने स्वयं बना लिया, हमने नहीं अनिवार्य किया उसे उनके ऊपर। परन्तु ईश्वर की प्रसन्नता के लिए (उन्होंने ऐसा किया), तो उन्होंने नहीं किया उसका पूर्ण पालन। फिर भी हमने प्रदान किया उन्हें जिन्होंने विश्वास किया उनमें से उनका बदला और उनमें से अधिक्तर अवज्ञाकारी हैं। हे लोगो जो विश्वास करते हो! ईश्वर से डरो और ईमान लाओ उसके दूत पर, वह तुम्हें प्रदान करेगा दुगुना प्रतिफल अपनी दया से तथा प्रदान करेगा तुम्हें ऐसा प्रकाश, जिसके साथ तुम चलोगे तथा क्षमा कर देगा तुम्हें और ईश्वरअति क्षमी, दयावान् है। ताकि ज्ञान हो जाये इन बातों से ईसाइयों को कि वह कुछ शक्ति नहीं रखते ईश्वर के अनुग्रह पर और ये कि अनुग्रह ईश्वर ही के हाथ में है। वह प्रदान करता है, जिसे चाहे और ईश्वर बड़े अनुग्रह वाला है।”[10] (क़ुरआन 57:27-29)



फुटनोट:

[1] यहाँ अरबी शब्द विश्वास के उच्चतम स्तर को इंगित करता है, जहाँ केवल एक उच्च है पैगंबरी।

[2] मसीह और उसकी धर्मपरायण माँ दोनों खाते थे, और यह ईश्वर की विशेषता नहीं है, जो न खाता है और न ही पीता है। साथ ही, जो खाता है वह शौच करता है, और यह ईश्वर का गुण नहीं हो सकता। यहाँ यीशु की तुलना उन सभी महान दूतों से की गई है जो उससे पहले आए थे: उनका संदेश एक ही था, और ईश्वर के गैर-ईश्वरीय प्राणियों के रूप में उनकी स्थिति समान है। मनुष्य को दिया जा सकने वाला सर्वोच्च सम्मान पैगंबरी है, और यीशु पाँच उच्च सम्मानित पैगंबरों में से एक है। छंद 33:7 और 42:13 देखें

[3] यीशु को ईश्वर की ओर से एक शब्द या आत्मा कहा जाता है क्योंकि वह तब बनाया गया था जब ईश्वर ने कहा, "हो जा" और वह हो गया। उसमें वह विशेष है, क्योंकि आदम और हव्वा को छोड़कर सभी मनुष्यों को दो माता-पिता से बनाया गया है। लेकिन अपनी विशिष्टता के बावजूद, यीशु बाकी सभी की तरह है कि वह दिव्य नहीं है, बल्कि एक नश्वर प्राणी है।

[4] ईश्वर के अलावा सब कुछ और हर कोई ईश्वर का उपासक या दास है। पद इस बात पर जोर दे रहा है कि मसीह कभी भी ईश्वर के उपासक से ऊपर की स्थिति का दावा नहीं करेगा, अपनी दिव्यता के विपरीत किसी भी दावे को खारिज कर देगा और वास्तव में वह इस तरह की स्थिति का कभी भी तिरस्कार नहीं करेगा, क्योंकि यह सर्वोच्च सम्मान है, जिसकी कोई भी मानव आकांक्षा कर सकता है।

[5] यदि बिना पिता के यीशु की रचना उसे ईश्वर का पुत्र बनाती है, तो बिना किसी पूर्ववर्ती के यीशु की तरह बनाई गई हर चीज भी दिव्य होनी चाहिए, और इसमें आदम, हव्वा, पहले जानवर, और यह पूरी पृथ्वी अपने पहाड़ों और पानी के साथ शामिल है। लेकिन यीशु को इस पृथ्वी पर सभी चीजों की तरह बनाया गया था, जब ईश्वर ने कहा, "हो जा" और वह हो गया।

[6] यह पैगंबर मुहम्मद का दूसरा नाम है।

[7] यह पैगंबर यीशु और मुहम्मद ("उन पर शांति हो") दोनों का उल्लेख कर सकता है। जब वे अपने लोगों के लिए ईश्वर का संदेश लेकर आए, तो उन पर जादू लाने का आरोप लगाया गया।

[8] पैगंबर सर्वोच्च और सबसे सम्मानजनक पद है जिस तक मनुष्य पहुँच सकता है। एक पैगंबर वह होता है जो स्वर्गदूत जिब्रईल के माध्यम से ईश्वर से रहस्योद्घाटन प्राप्त करता है। एक दूत एक पैगंबर है जो ईश्वर से एक किताब प्राप्त करता है, साथ ही साथ अपने लोगों को बताने के लिए कानून भी प्राप्त करता है। यीशु ने एक पैगंबर और दूत दोनों बनकर सर्वोच्च सम्मान प्राप्त किया।

[9] इमान वालों की जीत इस्लाम के संदेश के माध्यम से हुई, और यह एक शारीरिक और आध्यात्मिक जीत थी। इस्लाम ने जीसस के बारे में सभी संदेहों को दूर कर दिया और उनकी भविष्यवाणी के निर्णायक सबूत पेश किए, और वह आध्यात्मिक जीत थी। इस्लाम भौतिक रूप से भी फैला, जिसने ईसा के संदेश में विश्वासियों को अपने शत्रु के विरुद्ध शरण और शक्ति प्रदान की, और वह भौतिक विजय थी।

[10] पृष्ठभूमि और जाति की परवाह किए बिना, ईश्वर जिसे चाहता है, उसे मार्गदर्शन देता है। और जब लोग विश्वास करते हैं, तो ईश्वर उनका आदर करता है और सब से ऊँचा उठाता है। लेकिन जब वे इनकार करते हैं, तो ईश्वर उन्हें पदावनत कर देता है, भले ही वे सम्माननीय हों।

 

 

पवित्र क़ुरआन में यीशु और मरियम की कहानी (3 का भाग 3): यीशु II

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:

विवरण: इस भाग में पवित्र क़ुरआन के वो छंद है जो यीशु की परमेश्वर द्वारा सुरक्षा, उनके अनुयायियों, इस दुनिया में उनका दूसरा आगमन और पुनरुत्थान के दिन उनका क्या होगा, इन सब के बारे में बताता है।

  • द्वारा IslamReligion.com
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 309 (दैनिक औसत: 4)
  • रेटिंग: अभी तक रेटिंग नहीं दी गई है
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0

यीशु का जुनून

"तथा जब यीशु ने उनसे अविश्वास का संवेदन किया, तो कहाः ईश्वर के धर्म की सहायता में कौन मेरा साथ देगा? तो शिष्यों ने कहाः हम ईश्वर के सहायक हैं। हमने ईश्वर पर विश्वास किया, तुम इसके साक्षी रहो कि हम मुस्लिम (आज्ञाकारी) हैं।[1]  हे हमारे पालनहार! जो कुछ तूने उतारा है, हम उसपर विश्वास करते हैं तथा तेरे दूत का अनुसरण करते हैं, अतः हमें भी साक्षियों में अंकित कर ले। तथा उन्होंने षड्यंत्र रचा और हमने भी योजना रची तथा ईश्वर योजना रचने वालों में सबसे अच्छा है। जब ईश्वर ने कहाः हे यीशु! मैं तुझे पूर्णतः लेने वाला [2] तथा अपनी ओर उठाने वाला हूं तथा तुझे अविश्वासियों से पवित्र (मुक्त) करने वाला हूं तथा तेरे अनुयायियों को प्रलय के दिन तक काफ़िरों के ऊपर करने वाला हूं। फिर तुम्हारा लौटना मेरी ही ओर है। तो मैं तुम्हारे बीच उस विषय में निर्णय कर दूंगा, जिसमें तुम विभेद कर रहे हो।" (क़ुरआन 3:52-55)

"तथा उनके कहने के कारण कि हमने ईश्वर के दूत, मरयम के पुत्र, ईसा मसीह़ को वध कर दिया, जबकि (वास्तव में) उसे वध नहीं किया और न सलीब (फाँसी) दी, परन्तु उनके लिए (इसे) संदिग्ध कर दिया गया। [3] निःसंदेह, जिन लोगों ने इसमें विभेद किया, वे भी शंका में पड़े हुए हैं और उन्हें इसका कोई ज्ञान नहीं, केवल अनुमान के पीछे पड़े हुए हैं और निश्चय उसे उन्होंने वध नहीं किया है। बल्कि ईश्वर ने उसे अपनी ओर आकाश में उठा लिया [4] है तथा ईश्वर प्रभुत्वशाली तत्वज्ञ है।” (क़ुरआन 4:157-158)

यीशु के अनुयायी

"फिर आपके पास ज्ञान आ जाने के पश्चात् कोई आपसे यीशु के विषय में विवाद करे, तो कहो कि आओ, हम अपने पुत्रों तथा तुम्हारे पुत्रों और अपनी स्त्रियों तथा तुम्हारी स्त्रियों को बुलाते हैं और स्वयं को भी, फिर ईश्वर से सविनय प्रार्थना करें कि ईश्वर की धिक्कार मिथ्यावादियों पर हो। वास्तव में, यही सत्य वर्णन है तथा ईश्वर के सिवा कोई पूज्य नहीं। निश्चय ईश्वर ही प्रभुत्वशाली तत्वज्ञ है। फिर भी यदि वे मुँह फेरें, तो निःसंदेह ईश्वर उपद्रवियों को भली-भाँति जानता है। (हे पैगंबर!) कहो कि हे ईसाइयों! एक ऐसी बात की ओर आ जाओ [5] जो हमारे तथा तुम्हारे बीच समान रूप से मान्य है कि ईश्वर के सिवा किसी की वंदना न करें और किसी को उसका साझी न बनायें तथा हममें से कोई एक-दूसरे को ईश्वर के सिवा पालनहार न बनाये [6]।' फिर यदि वे विमुख हों, तो आप कह दें कि तुम साक्षी रहो कि हम (ईश्वर के) आज्ञाकारी हैं" (क़ुरआन 3:61-64)

"निश्चय वे अविश्वासी हो गये, जिन्होंने कहा कि मरयम का पुत्र मसीह़ ही ईश्वर है। (हे पैगंबर!) उनसे कह दो कि यदि ईश्वर मरयम के पुत्र और उसकी माता तथा जो भी धरती में है, सबका विनाश कर देना चाहे, तो किसमें शक्ति है कि वह उसे रोक दे? तथा आकाश और धरती और जो भी इनके बीच है, सब ईश्वर ही का राज्य है, वह जो चाहे, उतपन्न करता है तथा वह जो चाहे, कर सकता है। तथा यहूदी और ईसाईयों ने कहा कि हम ईश्वर के पुत्र तथा प्रियवर हैं। आप पूछें कि फिर वह तुम्हें तुम्हारे पापों का दण्ड क्यों देता है? बल्कि तुमभी वैसे ही मानव पूरुष हो, जैसे दूसरे हैं, जिनकी उत्पत्ति उसने की है। वह जिसे चाहे, क्षमा कर दे और जिसे चाहे, दण्ड दे तथा आकाश और धरती तथा जो उन दोनों के बीच है, ईश्वर ही का राज्य है और उसी की ओर सबको जाना है। (क़ुरआन 5:17-18)

"निश्चय वे अविश्वासी हो गये, जिन्होंने कहा कि ईश्वर मरयम का पुत्र मसीह़ ही है। जबकि मसीह़ ने कहा थाः हे बनी इस्राईल! उस ईश्वर की वंदना करो, जो मेरा पालनहार तथा तुम्हारा पालनहार है, वास्तव में, जिसने ईश्वर का साझी बना लिया, उसपर ईश्वर ने स्वर्ग को ह़राम (वर्जित) कर दिया और उसका निवास स्थान नर्क है तथा अत्याचारों का कोई सहायक न होगा। निश्चय वे अविश्वासी हो गये, जिन्होंने कहा कि ईश्वर तीन का तीसरा है!'[7] जबकि कोई पूज्य नहीं है, परन्तु वही अकेला पूज्य है और यदि वे जो कुछ कहते हैं, उससे नहीं रुके, तो उनमें से अविश्वासियों को दुखदायी यातना होगी। वे ईश्वर से माफ़ी तथा क्षमा याचना क्यों नहीं करते, जबकि ईश्वर अति क्षमाशील दयावान् है।” (क़ुरआन 5:72-74)

"तथा यहूदी कहते हैं कि उज़ैर ईश्वर का पुत्र है,’[8] और (ईसाईयों) ने कहा कि मसीह़ ईश्वर का पुत्र है। ये उनके अपने मुँह की बातें हैं। वे उनके जैसी बातें कर रहे हैं, जो इनसे पहले अविश्वासी थे। उनपर ईश्वर की मार! वे कहाँ बहके जा रहे हैं? उन्होंने अपने विद्वानों और धर्माचारियों (संतों) को ईश्वर के सिवा पूज्य बना लिया तथा मरयम के पुत्र मसीह़ को, जबकि उन्हें जो आदेश दिया गया था, वो इसके सिवा कुछ न था कि एक ईश्वर की वंदना करें। कोई पूज्य नहीं है, परन्तु वही। वह उससे पवित्र है, जिसे उसका साझी बना रहे हैं।”[9] (क़ुरआन 9:30-31)

"ऐ विश्वास करने वालो! बहुत-से विद्वान तथा धर्माचारी (संत) लोगों का धन अवैध खाते हैं और (उन्हें) ईश्वर की राह से रोकते हैं तथा जो सोना-चाँदी एकत्र करके रखते हैं और उसे ईश्वर की राह में दान नहीं करते, उन्हें दुःखदायी यातना की शुभ सूचना सुना दें।” (क़ुरआन 9:34)

दूसरी बार आना

"और सभी ईसाई उस (ईसा) के मरने से पहले उसपर अवश्य विश्वास करेंगे।[10] और प्रलय के दिन वह उनके विरुध्द साक्षी होगा।”[11] (क़ुरआन 4:159)

"तथा वास्तव में, वह (ईसा) एक बड़ा लक्षण हैं प्रलय का। अतः, कदापि संदेह न करो [12] प्रलय के विषय में और मेरी ही बात मानो। यही सीधी राह है। (क़ुरआन 43:61)

जिन्दा उठने के दिन यीशु

"जब ईश्वर ने कहाः हे मरयम के पुत्र यीशु! अपने ऊपर तथा अपनी माता के ऊपर मेरा पुरस्कार याद कर, जब मैंने पवित्रात्मा (जिब्रील) द्वारा तुझे समर्थन दिया, तू गोद में तथा बड़ी आयु में लोगों से बातें कर रहा था तथा तुझे पुस्तक, प्रबोध, तौरात और इंजील की शिक्षा दी, जब तू मेरी अनुमति से मिट्टी से पक्षी का रूप बनाता और उसमें फूँकता, तो वह मेरी अनुमति से वास्तव में पक्षी बन जाता था और तू जन्म से अंधे तथा कोढ़ी को मेरी अनुमति से स्वस्थ कर देता था और जब तू मुर्दों को मेरी अनुमति से जीवित कर देता था और मैंने बनी इस्राईल से तुझे बचाया था, जब तू उनके पास खुली निशानियाँ लाया, तो उनमें से अविश्वासियों ने कहा कि ये तो खुले जादू के सिवा कुछ नहीं है।।" (क़ुरआन 5:110)

"तथा जब ईश्वर (प्रलय के दिन) कहेगाः हे मरयम के पुत्र यीशु! क्या तुमने लोगों से कहा था कि ईश्वर को छोड़कर मुझे तथा मेरी माता की पूजा करो?'[13]’ वह कहेगाः तू पवित्र है, मुझसे ये कैसे हो सकता है कि ऐसी बात कहूँ, जिसका मुझे कोई अधिकार नहीं? यदि मैंने कहा होगा, तो तुझे अवश्य उसका ज्ञान हुआ होगा। तू मेरे मन की बात जानता है और मैं तेरे मन की बात नहीं जानता। वास्तव में, तू ही परोक्ष (ग़ैब) का अति ज्ञानी है।'[14] मैंने केवल उनसे वही कहा था, जिसका तूने आदेश दिया था कि ईश्वर की इबादत करो, जो मेरा पालनहार तथा तुम सभी का पालनहार है। मैं उनकी दशा जानता था, जब तक उनमें था और जब तूने मेरा समय पूरा कर दिया, तो तू ही उन्हें जानता था और तू प्रत्येक वस्तु से सूचित है। यदि तू उन्हें दण्ड दे, तो वे तेरे दास (बन्दे) हैं और यदि तू उन्हें क्षमा कर दे, तो वास्तव में तू ही प्रभावशाली गुणी है।”[15] ईश्वर कहेगाः ये वो दिन है, जिसमें सचों को उनका सच ही लाभ देगा। उन्हीं के लिए ऐसे स्वर्ग हैं, जिनमें नहरें प्रवाहित हैं। वे उनमें नित्य सदावासी होंगे, ईश्वर उनसे प्रसन्न हो गया तथा वे ईश्वर से प्रसन्न हो गये और यही सबसे बड़ी सफलता है। आकाशों तथा धरती और उनमें जो कुछ है, सबका राज्य ईश्वर ही का है तथा वह जो चाहे, कर सकता है।" (क़ुरआन 5:116-120)



फुटनोट:

[1] क़ुरआन में शिष्यों के लिए दिया गया नाम अल-हवारियुन है, जिसका अर्थ है शुद्ध, जैसे सफेद रंग। यह भी बताया जाता है कि वे सफेद रंग के कपड़े पहनते थे।

[2] यीशु को नींद की अवस्था में उठाया गया था। यहाँ जिस शब्द का प्रयोग हुआ है वह वफ़ा है, जिसका अर्थ नींद या मृत्यु हो सकता है। अरबी में नींद को माइनर डेथ कहा जाता है। छंद 6:60 और 39:42 में भी देखें, जहाँ वफ़ा शब्द का अर्थ नींद है न कि मृत्यु। चूंकि पद 4:157 यीशु की हत्या और सूली पर चढ़ाए जाने से इनकार करता है, और चूंकि प्रत्येक मनुष्य एक बार मरता है, लेकिन यीशु को पृथ्वी पर वापस आना चाहिए, छंद की एकमात्र शेष व्याख्या नींद है।

[3] यीशु की समानता दूसरे पर डाली गई थी, और यह वह है, यीशु नहीं, जिसे सूली पर चढ़ाया गया था। क़ुरआन पर कई टिप्पणियों के अनुसार, जिसे सूली पर चढ़ाया गया था, वह शिष्यों में से एक था, जो यीशु की समानता को स्वीकार कर रहा था, और स्वर्ग के बदले में यीशु को बचाने के लिए खुद को शहीद कर दिया।

[4] यीशु शरीर और आत्मा में जी उठा, और मरा नहीं। वह अभी भी वहीं रहता है, और समय के अंत में पृथ्वी पर लौटेगा। पृथ्वी पर अपनी नियत भूमिका को पूरा करने के बाद, वह अंततः मर जाएंगे।

[5] यही वह है जिसे ईश्वर के सभी पैगंबरों ने बुलाया है और उस पर सहमति व्यक्त की है। और इसलिए यह कथन केवल एक समूह के लिए नहीं है, बल्कि उन लोगों के लिए सामान्य आधार है जो ईश्वर की आराधना करना चाहते हैं।

[6] जब कोई ईश्वर की अवज्ञा करके दूसरे मनुष्य की आज्ञा मानता है, तो उसने उसे ईश्वर के बजाय स्वामी के रूप में माना जाता है।

[7] ट्रिनिटी के संदर्भ में।

[8] यद्यपि सभी यहूदियों ने इस पर विश्वास नहीं किया, वे इसकी निंदा करने में असफल रहे (देखें पद 5:78-79)। जब एक पाप को बने रहने और निर्विरोध फैलने दिया जाता है, तो पूरा समुदाय उत्तरदायी हो जाता है।

[9] धार्मिक विद्वान वे हैं जिनके पास ज्ञान है, और भिक्षु वे हैं जो अनुष्ठान और पूजा में डूबे हुए हैं। दोनों को धार्मिक नेता और उदाहरण माना जाता है, और वे अपने प्रभाव से लोगों को गुमराह कर सकते हैं।

[10] "उसकी मृत्यु" में सर्वनाम पवित्रशास्त्र के लोगों में से यीशु या व्यक्ति को संदर्भित कर सकता है। यदि यह यीशु को संदर्भित करता है, तो इसका अर्थ है कि पवित्रशास्त्र के सभी लोग यीशु के पृथ्वी पर दूसरी बार लौटने पर और उसकी मृत्यु से पहले उस पर विश्वास करने लगेंगे। यीशु तब इस बात की पुष्टि करेगा कि वह ईश्वर की ओर से एक पैगंबर है, न ही ईश्वर और न ही ईश्वर का पुत्र, और सभी लोगों से केवल ईश्वर की पूजा करने और इस्लाम में उसे प्रस्तुत करने के लिए कहेगा। यदि सर्वनाम पवित्रशास्त्र के लोगों में से व्यक्ति को संदर्भित करता है, तो पद का अर्थ है कि उनमें से प्रत्येक अपनी मृत्यु से ठीक पहले देखेगा कि उसे क्या विश्वास दिलाएगा कि यीशु ईश्वर का सच्चा पैगंबर था, न कि ईश्वर। लेकिन उस समय उस विश्वास से उसे कोई फायदा नहीं होगा, क्योंकि यह स्वतंत्र पसंद से नहीं आता है, बल्कि जब वह सजा के स्वर्गदूतों को देखता है।

[11] श्लोक 5:116-118 देखें.

[12] यीशु का दूसरा आगमन इस बात का चिन्ह होगा कि न्याय का दिन निकट है।

[13] ईश्वर के साथ दूसरों की पूजा करना ईश्वर के बजाय उनकी पूजा करने के समान है। दोनों का मतलब है कि पूजा ईश्वर के अलावा किसी और के लिए है, फिर भी केवल ईश्वर ही हैं, जिनकी पूजा करनी चाहिए।

[14] ईश्वर, जैसा कि यीशु ने कहा, जानता है कि यीशु ने अपनी या अपनी माता की आराधना के लिए नहीं बोला। प्रश्न का उद्देश्य उन लोगों की ओर संकेत करना है जो यीशु या मरियम की पूजा करते हैं कि यदि वे यीशु के सच्चे अनुयायी होते, तो वे उस प्रथा को बंद कर देते, क्योंकि यीशु ने इसे कभी नहीं बताया। लेकिन अगर वे बने रहें, तो उन्हें बताएं कि यीशु उन्हें अंतिम दिन मना कर देंगे, और यह कि वे उसका अनुसरण नहीं कर रहे हैं, लेकिन केवल अपनी व्यक्तिगत पसंद का पालन कर रहे हैं।

[15] दूसरे शब्दों में, आप जानते हैं कि कौन दंड के योग्य है, इसलिए आप उसे दंड देंगे। और आप जानते हो कि क्षमा के योग्य कौन है, इसलिए आप उसे क्षमा करोगे। क्योंकि वास्तव में, आप शक्तिशाली हैं जिनके पास दंड देने की शक्ति है, और आप सभी मामलों को निपटाने में बुद्धिमान हैं, इसलिए आप उन्हें क्षमा करते हैं जो क्षमा के पात्र हैं।

इस लेख के भाग

सभी भागो को एक साथ देखें

टिप्पणी करें

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

लेख की सूची बनाएं

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास

आपकी इतिहास सूची खाली है।

View Desktop Version