L'articolo / video che hai richiesto non esiste ancora.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

요청한 문서 / 비디오는 아직 존재하지 않습니다.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

המאמר / הסרטון שביקשת אינו קיים עדיין.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

L'articolo / video che hai richiesto non esiste ancora.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

요청한 문서 / 비디오는 아직 존재하지 않습니다.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

המאמר / הסרטון שביקשת אינו קיים עדיין.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

ईसाई विद्वान बाइबिल में मतभेदों को पहचानते हैं (7 का भाग 4): ईसाई धर्मग्रंथों में अदल-बदल

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:

विवरण: रूढ़िवादी ईसाइयों द्वारा ईसाई धर्मग्रंथों को "सही" किया गया।

  • द्वारा Misha’al ibn Abdullah (taken from the Book: What Did Jesus Really Say?)
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 3851 (दैनिक औसत: 10)
  • रेटिंग: अभी तक रेटिंग नहीं दी गई है
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0

एक छठी शताब्दी के अफ्रीकी बिशप विक्टर टुनुनेन्सिस ने अपने क्रॉनिकल (566 ईस्वी) में बताया कि जब मेसाला कोस्टेंटिनोपल (506 ईस्वी) में कौंसल था, तो उन्होंने सम्राट अनास्तासियस द्वारा अनपढ़ माने जाने वाले व्यक्तियों द्वारा लिखे गए अन्यजातियों के इंजील को "सेंसर और सही" किया। निहितार्थ यह था कि उन्हें छठी शताब्दी के ईसाई धर्म के अनुरूप बदल दिया गया था जो पिछली शताब्दियों के ईसाई धर्म से अलग था।[1]

ये "सुधार" किसी भी तरह से मसीह के बाद पहली शताब्दियों तक सीमित नहीं थे। सर हिगिंस कहते हैं:

"इस बात से इंकार करना असंभव है कि संत मौर के बेंडिक्टिन भिक्षु, जहां तक लैटिन और ग्रीक भाषा में थे, वे बहुत ही विद्वान और प्रतिभाशाली थे, साथ ही साथ लोगों के कई समूह भी थे। कैंटरबरी के आर्कबिशप क्लेलैंड के 'लाइफ ऑफ लैनफ्रैंक' में निम्नलिखित अंश है: 'एक बेनिदिक्तिन भिक्षु और कैंटरबरी के आर्कबिशप लैनफ्रैंक ने देखा कि शास्त्रों को नक़ल करने वाले बहुत भ्रष्ट हैं, उसने रूढ़िवादी विश्वास (सेकंदम फिदेम रूढ़िवादी) के लिए इसे और पादरियों के लेखन को ठीक करने का सोचा।”[2]

दूसरे शब्दों में, ग्यारहवीं और बारहवीं शताब्दी के सिद्धांतों के अनुरूप ईसाई धर्मग्रंथों को फिर से लिखा गया था, और यहां तक कि प्रारंभिक चर्च के पादरी के लेखन को "सही" किया गया था ताकि इसमें हुए अदल-बदल का पता न चले। सर हिगिंस आगे कहते हैं, "उसी प्रोटेस्टेंट दिव्य का यह अंश है: 'निष्पक्ष होने के लिए मै स्वीकार करता हूं, कि कुछ जगहों पर रूढ़िवादीयों ने इंजील को बदल दिया है।"

लेखक तब प्रदर्शित करता है कि कैसे कॉन्स्टेंटिनोपल, रोम, कैंटरबरी और सामान्य रूप से ईसाई दुनिया में बड़े पैमाने पर प्रयास किए गए ताकि इस अवधि से पहले सभी इंजील को "सही" किया जा सके और सभी हस्तलिपियों को नष्ट कर दिया जा सके।

थिओडोर ज़हान ने प्रेरितिक पंथ के लेखों में स्थापित चर्चों के भीतर कड़वे संघर्षों को चित्रित किया। वह बताते हैं कि रोमन कैथोलिक ग्रीक ऑर्थोडॉक्स चर्च पर अच्छे और बुरे दोनों इरादों से जोड़ और चूक द्वारा पवित्र ग्रंथों के पाठ को फिर से तैयार करने का आरोप लगाते हैं। दूसरी ओर, ग्रीक ऑर्थोडॉक्स रोमन कैथोलिकों पर कई जगह मूल पाठ से बहुत दूर भटकने का आरोप लगाते हैं। अपने मतभेदों के बावजूद, ये दोनों गैर-अनुरूपतावादी ईसाइयों को "सच्चे मार्ग" से भटकने की निंदा करने के लिए एक साथ हो जाते हैं और उन्हें विधर्मी कहकर उनकी निंदा करते हैं। बदले में विधर्मी, कैथोलिकों की निंदा करते हैं कि उन्होंने "सच्चाई को जालसाजों की तरह फिर से गढ़ा।" लेखक ने निष्कर्ष निकाला "क्या तथ्य इन आरोपों का समर्थन नहीं करते हैं?"

14. तथा जिन्होंने कहा कि हम नसारा (ईसाई) हैं, हमने उनसे (भी) दृढ़ वचन लिया था, तो उन्हें जिस बात का निर्देश दिया गया था, उसे भुला बैठे, तो प्रलय के दिन तक के लिए हमने उनके बीच शत्रुता तथा पारस्परिक (आपसी) विद्वेष भड़का दिया और शीघ्र ही अल्लाह जो कुछ वे करते रहे हैं, उन्हें बता देगा।

15. हे अह्ले किताब! (ईसाइयो) तुम्हारे पास हमारे दूत आ गये हैं, जो तुम्हारे लिए उन बहुत सी बातों को उजागर कर रहे हैं, जिन्हें तुम छुपा रहे थे और बहुत सी बातों को छोड़ भी रहे हैं। अब तुम्हारे पास अल्लाह की ओर से प्रकाश तथा खुली पुस्तक (क़ुरआन) आ गई है।

16. जिसके द्वारा अल्लाह उन्हें शान्ति का मार्ग दिखा रहा है, जो उसकी प्रसन्नता पर चलते हों, उन्हें अपनी अनुमति से अंधेरों से निकालकर प्रकाश की ओर ले जाता है और उन्हें सुपथ दिखाता है।

17. निश्चय वे अविश्वासी हो गये, जिन्होंने कहा कि मरयम का पुत्र मसीह़ ही अल्लाह है। (हे पैगंबर!) उनसे कह दो कि यदि अल्ललाह मरयम के पुत्र और उसकी माता तथा जो भी धरती में है, सबका विनाश कर देना चाहे, तो किसमें शक्ति है कि वह उसे रोक दे? तथा आकाश और धरती और जो भी इनके बीच है, सब अल्लाह ही का राज्य है, वह जो चाहे, उतपन्न करता है तथा वह जो चाहे, कर सकता है।

18. तथा यहूदी और ईसाईयों ने कहा कि हम अल्लाह के पुत्र तथा प्रियवर हैं। आप पूछें कि फिर वह तुम्हें तुम्हारे पापों का दण्ड क्यों देता है? बल्कि तुमभी वैसे ही मानव पूरुष हो, जैसे दूसरे हैं, जिनकी उत्पत्ति उसने की है। वह जिसे चाहे, क्षमा कर दे और जिसे चाहे, दण्ड दे तथा आकाश और धरती तथा जो उन दोनों के बीच है, अल्लाह ही का राज्य (अधिपत्य) है और उसी की ओर सबको जाना है।  

19. हे अह्ले किताब (ईसाइयों)! तुम्हारे पास दूतों के आने का क्रम बंद होने के पश्चात्, हमारे दूत आ गये हैं, वह तुम्हारे लिए (सत्य को) उजागर कर रहे हैं, ताकि तुम ये न कहो कि हमारे पास कोई शुभ सूचना सुनाने वाला तथा सावधान करने वाला (पैगंबर) नहीं आया, तो तुम्हारे पास शुभ सूचना सुनाने तथा सावधान करने वाला आ गया है तथा अल्लाह जो चाहे, कर सकता है।" (क़ुरआन 5:14-19)

संत ऑगस्टाइन ने स्वयं स्वीकार किया और प्रोटेस्टेंट और कैथोलिक दोनों द्वारा समान रूप से देखा, जिसने दावा किया कि ईसाई धर्म में गुप्त सिद्धांत थे और:

"... ईसाई धर्म में ऐसी बहुत सी बातें सच थीं जिन्हें जानना अभद्र [आम लोगों] के लिए सुविधाजनक नहीं था, और यह कि कुछ बातें झूठी थीं, लेकिन अश्लील लोगों के लिए उन पर विश्वास करना सुविधाजनक था।"

सर हिगिंस मानते हैं:

"यह मानना अनुचित नहीं है कि इन रोके गए सत्यों में हमारे पास आधुनिक ईसाई रहस्यों का हिस्सा है, और मुझे लगता है कि इस बात से शायद ही इनकार किया जाएगा कि चर्च, जिसके सर्वोच्च अधिकारियों ने इस तरह के सिद्धांत रखे थे, पवित्र लेखन को फिर से छूने के लिए तैयार नहीं होंगे।"[3]

यहाँ तक कि पौलुस की लिखी हुई पत्रियाँ भी उसके द्वारा नहीं लिखी गईं थी। वर्षों के शोध के बाद, कैथोलिक और प्रोटेस्टेंट समान रूप से सहमत हैं कि पॉल के नाम के तेरह पत्रों में से केवल सात ही वास्तव में उनके हैं। वे हैं: रोमनों, 1, 2 कुरिन्थियों, गलाटियन्स, फिलिप्पी, फिलेमोन और 1 थिस्सलुनीकियों।

ईसाई संप्रदाय इस परिभाषा पर भी सहमत नहीं हैं कि वास्तव में ईश्वर की "प्रेरित" पुस्तक क्या है। प्रोटेस्टेंटों को सिखाया जाता है कि बाइबिल में 66 वास्तव में "प्रेरित" किताबें हैं, जबकि कैथोलिकों को सिखाया गया है कि 73 वास्तव में "प्रेरित" किताबें हैं, न कि कई अन्य संप्रदायों और उनकी "नई" पुस्तकों का उल्लेख करने के लिए, जैसे कि मॉर्मन, आदि। जैसा कि हम जल्द ही देखेंगे, बहुत पहले ईसाई, कई पीढ़ियों के लिए, ना तो प्रोटेस्टेंट की 66 पुस्तकों का पालन करते थे, ना ही कैथोलिकों की 73 पुस्तकों का। इसके विपरीत, वे उन पुस्तकों में विश्वास करते थे, जिन्हें कई पीढ़ियों बाद प्रेरितों की तुलना में अधिक प्रबुद्ध युग द्वारा गढ़ने और अपोक्रिफा के रूप में "मान्यता प्राप्त" थी।


फुटनोट:

[1] एम. ए. युसेफ द्वारा लिखित द डेड सी स्क्रॉल्स, द गॉस्पेल ऑफ़ बरनबास, और द न्यू टेस्टामेंट, पृष्ठ 81

[2] हिस्ट्री ऑफ़ क्रिश्चियनिटी इन द लाइट ऑफ़ मॉडर्न नॉलेज, हिगिंस पृष्ठ 318

[3] एम. ए. युसेफ द्वारा लिखित द डेड सी स्क्रॉल्स, द गॉस्पेल ऑफ़ बरनबास, और द न्यू टेस्टामेंट, पृष्ठ 83

इस लेख के भाग

सभी भागो को एक साथ देखें

टिप्पणी करें

इसी श्रेणी के अन्य लेख

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

लेख की सूची बनाएं

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास

आपकी इतिहास सूची खाली है।

View Desktop Version