您所请求的文章/视频尚不存在。

The article/video you have requested doesn't exist yet.

L'articolo / video che hai richiesto non esiste ancora.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

요청한 문서 / 비디오는 아직 존재하지 않습니다.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

המאמר / הסרטון שביקשת אינו קיים עדיין.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

您所请求的文章/视频尚不存在。

The article/video you have requested doesn't exist yet.

L'articolo / video che hai richiesto non esiste ancora.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

요청한 문서 / 비디오는 아직 존재하지 않습니다.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

המאמר / הסרטון שביקשת אינו קיים עדיין.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

जीवन का उद्देश्य (3 का भाग 2): इस्लामी दृष्टिकोण

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:

विवरण: जीवन के अर्थ का जो व्याख्या इस्लाम देता है, और उपासना के अर्थ पर एक संक्षिप्त चर्चा।

  • द्वारा Imam Mufti
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 1344 (दैनिक औसत: 3)
  • रेटिंग: अभी तक रेटिंग नहीं दी गई है
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0

क्या ईसाई धर्म इस प्रश्न का उत्तर दे सकता है?

ईसाई धर्म में, जीवन का अर्थ यीशु मसीह के सुसमाचार पर विश्वास में निहित है, यीशु को उद्धारकर्ता के रूप में पाने में। "क्योंकि ईश्वर ने जगत से ऐसा प्रेम रखा कि उन्होंने अपना एकलौता पुत्र दे दिया, कि जो कोई उस पर विश्वास करे, वह नाश न हो, परन्तु अनन्त जीवन पाए।"  हालांकि,ये प्रस्ताव गंभीर समस्याओं के बिना नहीं है।  पहला, यदि सृष्टि का उद्देश्य और अनन्त जीवन की पूर्व शर्त यही है, तो पैगम्बरों ने संसार के सभी राष्ट्रों को इसकी शिक्षा क्यों नहीं दी?  दूसरा, क्या ईश्वर आदम के समय के निकट मनुष्य बन गया था सारी मानवजाति को अनन्त जीवन का समान अवसर मिलता, जब तक कि यीशु के समय से पहले के लोगों के पास अपने अस्तित्व का कोई अन्य उद्देश्य नहीं होता!  तीसरा, आज जिन लोगों ने यीशु के बारे में नहीं सुना है वे सृष्टि के मसीही उद्देश्य को कैसे पूरा कर सकते हैं?  स्वाभाविक रूप से, ऐसा उद्देश्य बहुत संकीर्ण है और ईश्वरीय न्याय के विरुद्ध जाता है।

उत्तर

अर्थ के लिए मानवता की खोज इस्लाम इसका उत्तर है।  सभी पुरुषों और महिलाओं के लिए सृजन का उद्देश्य एक ही रहा है: ईश्वर को जानना और उनकी उपासना करना।

क़ुरआन हमें सिखाता है कि हर इंसान ईश्वर के प्रति जागरूक पैदा होता है,

"(याद करो) जब तुम्हारे मालिक ने आदम की सन्तान की कमर से उनकी सन्तान निकाली और उन्हें गवाही दी [कहते हुए]: 'क्या मैं तुम्हारा रब नहीं हूँ?'  उन्होंने कहा: 'हाँ, हम इसकी गवाही देते हैं।' (यह था) यदि आप न्याय के दिन कहते हैं: 'हम इससे अनजान थे।'  या तुम कहो: 'यह हमारे पूर्वज थे जिन्होंने ईश्वर के अलावा दूसरों की पूजा की और हम केवल उनके वंशज हैं। तो क्या आप उन झूठों के कामों के कारण हमें नष्ट कर देंगे?’”(क़ुरआन 7:172-173)

इस्लाम का पैगंबर हमें सिखातें हैं कि जब आदम को बनाया गया था उस समय ईश्वर ने मानव स्वभाव में इस मौलिक आवश्यकता को बनाया था।  ईश्वर ने आदम से एक वाचा ली जब उन्होंने उसे बनाया।  ईश्वर ने आदम के उन सभी वंशजों को, जिनका जन्म होना बाकी था, पीढ़ी दर पीढ़ी निकाला, उन्हें फैलाया, और उनसे एक वाचा ली।  उसने उनकी आत्माओं को सीधे संबोधित किया, और उन्हें इस बात का गवाह रखा कि वह उनका मालिक हैं।  चूँकि ईश्वर ने आदम की सृष्टि करते समय सभी मनुष्यों को अपने प्रभुत्व की शपथ दिलाई थी, यह शपथ मानव आत्मा पर भ्रूण में प्रवेश करने से पहले ही अंकित हो जाती है, और इसलिए एक बच्चा ईश्वर की एकता में एक प्राकृतिक विश्वास के साथ पैदा होता है।  इस प्राकृतिक मान्यता को अरबी में फितरा कहा जाता है।  नतीजतन, प्रत्येक व्यक्ति ईश्वर की एकता में विश्वास के बीज को धारण करता है जो कि लापरवाही की परतों के नीचे गहराई से दफन है और सामाजिक अनुकूलन से भीग गया है।  यदि बच्चे को अकेला छोड़ दिया जाता, तो वह ईश्वर - एक एकल निर्माता - के प्रति सचेत हो जाते लेकिन सभी बच्चे अपने पर्यावरण से प्रभावित होते हैं।  ईश्वर के पैगंबर ने कहा,

"प्रत्येक बच्चा 'फितरा' की स्थिति में पैदा होता है, लेकिन उसके माता-पिता उसे यहूदी या ईसाई बना देते हैं।  यह ठीक उसी तरह है जैसे एक जानवर एक संतान को जन्म देता है।  क्या आपने देखा है किसी बच्चे को विकृत होते हुए, आप उसे विकृत करने से पहले?"[1]

 

चित्र 1 जीवन का चमत्कार. एक अजन्मा भ्रूण अपना अंगूठा चूसता हुआ। 

इसलिए, जैसे बच्चे का शरीर प्रकृति में ईश्वर द्वारा निर्धारित भौतिक नियमों के अधीन होता है, उसकी आत्मा स्वाभाविक रूप से इस तथ्य के प्रति समर्पित हो जाती है कि ईश्वर उसका मालिक और निर्माता है।  हालाँकि, उसके माता-पिता उसे अपने तरीके से चलने की तैय्यार करते हैं, और बच्चा मानसिक रूप से इसका विरोध करने में सक्षम नहीं है।  इस अवस्था में बच्चा जिस धर्म का पालन करता है, वह प्रथा और पालन-पोषण का है, और ईश्वर इसे इस धर्म के लिए जिम्मेदार नहीं मानते हैं।  जब कोई बच्चा वयस्क हो जाता है, तो उसे ज्ञान और तर्क के धर्म का पालन करना चाहिए।  वयस्कों के रूप में, लोगों को अब सही मार्ग खोजने के लिए ईश्वर के प्रति अपने प्राकृतिक स्वभाव और उनकी इच्छाओं के बीच संघर्ष करना चाहिए।  इस्लाम का आह्वान इस आदिम प्रकृति, प्राकृतिक स्वभाव, आत्मा पर ईश्वर की छाप, फितरा की ओर निर्देशित है, जिसके कारण हर जीव की आत्मा इस बात से सहमत है कि जिसने उन्हें बनाया वह स्वर्ग और पृथ्वी से पहले भी उनका ईश्वर था,

"मैंने अपनी उपासना के अलावा जिन्न और मनुष्य को पैदा नहीं किया।" (क़ुरआन 51:56)

इस्लाम के अनुसार, एक बुनियादी संदेश दिया गया है जिसे ईश्वर ने सभी नबियों के माध्यम से प्रकट किया है, आदम के समय से लेकर अंतिम पैगंबर मुहम्मद तक, शांति उन पर हो।  ईश्वर द्वारा भेजे गए सभी नबी एक ही आवश्यक संदेश के साथ आए थे:

"अवश्य, हमने प्रत्येक राष्ट्र में एक दूत भेजा है (यह कहते हुए), 'ईश्वर की पूजा करो और झूठे देवताओं से दूर रहो ...’" (क़ुरआन 16:36)

पैगम्बरों ने मानव जाति के सबसे परेशान करने वाले प्रश्न का वही उत्तर दिया, एक ऐसा उत्तर जो ईश्वर के लिए आत्मा की लालसा को संबोधित करता है।

उपासना क्या है?

'इस्लाम' का अर्थ है 'आत्मसमर्पण', और उपासना का अर्थ, इस्लाम में, है 'ईश्वर की इच्छा के प्रति आज्ञाकारी अधीनता'।

प्रत्येक सृजित प्राणी ईश्वर द्वारा बनाए गए भौतिक नियमों का पालन करके निर्माता के प्रति 'अधीनता' करता है,

"उसी का है, जो आकाशों और पृय्वी में है; सब उसकी इच्छा का पालन करते हैं।" (क़ुरआन 30:26)

हालाँकि, उन्हें उनके 'आत्मसमर्पण' के लिए न तो पुरस्कृत किया जाता है और न ही दंडित किया जाता है, क्योंकि इसमें कोई इच्छा शामिल नहीं होती है।  इनाम और सजा उनके लिए है जो ईश्वर की पूजा करते हैं, जो अपनी मर्जी से ईश्वर के नैतिक और धार्मिक कानून में खुद को समर्पण करते हैं।  यह पूजा ईश्वर द्वारा मानव जाति के लिए भेजे गए सभी नबियों के संदेश का सार है।  उदाहरण के लिए, आराधना की यह समझ यीशु मसीह द्वारा सशक्त रूप से व्यक्त की गई थी,

"जो मुझे 'प्रभु' कहते हैं, उनमें से कोई भी ईश्वर के राज्य में प्रवेश नहीं करेगा, सिर्फ उसे छोड़कर जो स्वर्ग में उपस्थित मेरे पिता की इच्छा पूरी करता है।"

‘इच्छा' का अर्थ है 'ईश्वर मनुष्य से क्या करना चाहता है।'  यह 'ईश्वर की इच्छा' ईश्वरीय रूप से प्रकट कानूनों में निहित है जो पैगम्बरों ने अपने अनुयायियों को सिखाया था।  नतीजतन, ईश्वरीय कानून की आज्ञाकारिता पूजा का आधार है।  केवल जब मनुष्य अपने धार्मिक कानून के अधीन होकर अपने ईश्वर की पूजा करते हैं, तो उनके जीवन में शांति और सद्भाव और स्वर्ग की आशा हो सकती है, जैसे ब्रह्मांड अपने ईश्वर द्वारा निर्धारित भौतिक नियमों को प्रस्तुत करके सद्भाव में चलता है।  जब आप स्वर्ग की आशा को हटाते हैं, तो आप जीवन के अंतिम मूल्य और उद्देश्य को हटा देते हैं।  नहीं तो इससे वास्तव में क्या फर्क पड़ता है कि हम पुण्य या दोष का जीवन जीते हैं? वैसे भी सबकी किस्मत एक जैसी ही होगी।



फुटनोट:

[1] सहीह अल-बुखारी, सही मुस्लिम।  अरब पूर्व-इस्लामी समय में अपने देवताओं की सेवा के रूप में ऊंटों और उन जैसों के कान काट देते थे।

इस लेख के भाग

सभी भागो को एक साथ देखें

टिप्पणी करें

इसी श्रेणी के अन्य लेख

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

लेख की सूची बनाएं

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास

आपकी इतिहास सूची खाली है।

View Desktop Version