Статьи / видео вы запросили еще не существует.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

O artigo / vídeo que você requisitou não existe ainda.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

요청한 문서 / 비디오는 아직 존재하지 않습니다.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

המאמר / הסרטון שביקשת אינו קיים עדיין.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

Статьи / видео вы запросили еще не существует.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

O artigo / vídeo que você requisitou não existe ainda.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

요청한 문서 / 비디오는 아직 존재하지 않습니다.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

המאמר / הסרטון שביקשת אינו קיים עדיין.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

उन्होंने मुहम्मद के बारे में क्या कहा (3 का भाग 1)

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:

विवरण: पैगंबर के बारे में इस्लाम का अध्ययन करने वाले गैर-मुस्लिम विद्वानों के बयान। भाग 1: परिचय।

  • द्वारा iiie.net (edited by IslamReligion.com)
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 2093 (दैनिक औसत: 9)
  • रेटिंग: अभी तक रेटिंग नहीं दी गई है
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0

सदियों के धर्मयुद्ध के दौरान, पैगंबर मुहम्मद (ईश्वर की दया और कृपा उन पर बनी रहे) के खिलाफ सभी प्रकार की बदनामी की साज़िश रची गई थी। आधुनिक युग की शुरुआत और धार्मिक सहिष्णुता और विचार की स्वतंत्रता के साथ, उनके जीवन और चरित्र के चित्रण में पश्चिमी लेखकों के दृष्टिकोण में एक बड़ा बदलाव आया है। नीचे दिए गए पैगंबर मुहम्मद के बारे में कुछ गैर-मुस्लिम विद्वानों के विचार इस राय को सही ठहराते हैं।

मुहम्मद के बारे में सबसे बड़ी वास्तविकता की खोज के लिए पश्चिमी लोगों को अभी और जानना बाकी है, और वह है पूरी मानवता के लिए ईश्वर का सच्चा और अंतिम पैगंबर होना। अपनी सारी निष्पक्षता और ज्ञानोदय के बावजूद पश्चिमी लोगों ने मुहम्मद की पैगंबरी को समझने के लिए कोई ईमानदार और उद्देश्यपूर्ण प्रयास नहीं किये। यह कितना अजीब है कि उनकी ईमानदारी और उपलब्धि के लिए उन्हें बहुत ही भावपूर्ण श्रद्धांजलि दी जाती है, लेकिन ईश्वर के पैगंबर होने के उनके दावे को स्पष्ट रूप से और परोक्ष रूप से खारिज कर दिया गया है। इसके लिए हृदय से खोजने की आवश्यकता है, और यदि तथाकथित निष्पक्षता की आवश्यकता है तो समीक्षा करें। मुहम्मद के जीवन से निम्नलिखित चकाचौंध तथ्यों को उनकी पैगंबरी के बारे में एक निष्पक्ष, तार्किक और उद्देश्यपूर्ण निर्णय की सुविधा के लिए प्रस्तुत किया गया है।

चालीस वर्ष की आयु तक मुहम्मद एक राजनेता, उपदेशक या वक्ता के रूप में नहीं जाने जाते थे। उन्हें कभी भी तत्वमीमांसा, नैतिकता, कानून, राजनीति, अर्थशास्त्र या समाजशास्त्र के सिद्धांतों पर चर्चा करते नहीं देखा गया। ऐसा कुछ भी नहीं था जिससे लोग भविष्य में उनसे कुछ महान और क्रांतिकारी कार्य की उम्मीद कर सके। लेकिन जब वह एक नए संदेश के साथ हीरा की गुफा से बाहर आए, तो वह पूरी तरह से रूपांतरित हो गए थे। क्या उपरोक्त गुणों वाले ऐसे व्यक्ति के लिए यह संभव है कि वह अचानक 'एक ढोंगी' में बदल जाए और खुद को ईश्वर का पैगंबर होने का दावा करे और इस तरह अपने लोगों के क्रोध का सामना करे? कोई यह पूछ सकता है कि किस कारण से उन्होंने अपने ऊपर थोपी गई सभी कठिनाइयों का सामना किया? उनके लोगों ने उनसे कहा कि वो उन्हें अपने राजा के रूप में स्वीकार करेंगे और कीमती भूमि को उनके चरणों में रख देंगे यदि वह केवल अपने धर्म का उपदेश छोड़ दें तो। लेकिन उन्होंने उनके लुभावने प्रस्तावों को ठुकरा दिया और अपने ही लोगों द्वारा सभी प्रकार के अपमान, सामाजिक बहिष्कार और यहां तक कि शारीरिक हमलों का सामना करते हुए अकेले ही अपने धर्म का प्रचार करना जारी रखा। यह सिर्फ ईश्वर का समर्थन और ईश्वर के संदेश का प्रसार करने की उनकी दृढ़ इच्छा और उनका पक्का विश्वास ही था कि अंततः इस्लाम मानवता के लिए जीवन का एकमात्र तरीका बनकर उभराऔर वह उनको मिटाने के सभी विरोधों और साजिशों के सामने पहाड़ की तरह खड़े रहे इसके अलावा, अगर वह ईसाइयों और यहूदियों के साथ प्रतिद्वंद्विता के लिए आये थे, तो उन्हें यीशु और मूसा और ईश्वर के अन्य पैगंबरो (उन पर शांति हो) में विश्वास क्यों कियाआस्था की एक बुनियादी आवश्यकता जिसके बिना कोई भी मुसलमान नहीं बन सकता

क्या यह उनकी पैगंबरी का अकाट्य प्रमाण नहीं है कि अशिक्षित होने के बावजूद और चालीस वर्षों तक एक बहुत ही सामान्य और शांत जीवन जीने के बाद, जब उन्होंने अपने संदेश का प्रचार करना शुरू किया, तो पूरा अरब उनकी अद्भुत वाक्पटुता और वक्तृत्व पर विस्मय और आश्चर्य से भर गया? यह इतना बेजोड़ था कि अरब कवियों, प्रचारकों और उच्चतम क्षमता वाले वक्ताओं की पूरी सेना उनके समकक्ष आने में विफल रही और सबसे बढ़कर, वह क़ुरआन में निहित वैज्ञानिक प्रकृति के सत्य का उच्चारण ऐसे करते थे जो उस समय किसी भी मनुष्य द्वारा नहीं किया जा सकता था?

अंत मे लेकिन आखिरी नही, सत्ता और अधिकार प्राप्त करने के बावजूद उन्होंने एक कठिन जीवन क्यों जिया? मरते समय उनके द्वारा कहे गए शब्दों पर जरा विचार करें:

"हम नबियों के समुदाय को यह विरासत में नहीं मिली है। हम जो कुछ भी छोड़ के जाते हैं वह दान के लिए है।”

तथ्य की बात करें तो, मुहम्मद इस ग्रह पर मानव जीवन की शुरुआत के बाद से विभिन्न भूमि और समय में भेजे गए पैगंबरों की श्रृंखला के अंतिम पैगंबर है। इसके बाद के भागों में मुहम्मद के बारे में कुछ गैर-मुस्लिम लेखकों के लेख के बारे मे बताया जायेगा।

 

 

उन्होंने मुहम्मद के बारे में क्या कहा (3 का भाग 2)

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:

विवरण: पैगंबर के बारे में इस्लाम का अध्ययन करने वाले गैर-मुस्लिम विद्वानों के बयान। भाग 2: उनके बयान।

  • द्वारा iiie.net (edited by IslamReligion.com)
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 737 (दैनिक औसत: 3)
  • रेटिंग: अभी तक रेटिंग नहीं दी गई है
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0

लैमार्टाइन, हिस्टोइरे डे ला टर्क्वि, पेरिस 1854, खंड 2, पृष्ट 276-77:

"यदि उद्देश्य की महानता, साधनों का कम होना, और आश्चर्यजनक परिणाम मानव प्रतिभा के तीन मानदंड हैं, तो आधुनिक इतिहास में किसी भी महान व्यक्ति की तुलना मुहम्मद के साथ करने की हिम्मत कौन कर सकता है? सबसे प्रसिद्ध पुरुषों ने ही हथियार, कानून और साम्राज्य बनाए। अगर उन्होंने किसी चीज की स्थापना की, तो वह भौतिक शक्तियों से अधिक कुछ नहीं था, जो अक्सर उनकी आंखों के सामने टूट जाती थीं। इस व्यक्ति ने न केवल सेनाओं, विधानों, साम्राज्यों, लोगों और राजवंशों को, बल्कि उस समय के एक तिहाई विश्व में लाखों लोगों को स्थानांतरित किया; और इससे भी अधिक, उन्होंने वेदियों, देवताओं, धर्मों, विचारों, विश्वासों और आत्माओं को स्थानांतरित किया... विजय में सहनशीलता, उनकी महत्वाकांक्षा पूरी तरह से एक विचार के लिए समर्पित थी और किसी भी तरह से एक साम्राज्य के लिए नहीं थी; उनकी अंतहीन प्रार्थनाएं, ईश्वर के साथ उनकी रहस्यवादी बातचीत, उनकी मृत्यु और मृत्यु के बाद उनकी जीत; ये सभी किसी धोखे की नहीं बल्कि एक दृढ़ विश्वास की गवाही देते हैं जिसने उन्हें एक हठधर्मिता को बहाल करने की शक्ति दी। यह हठधर्मिता दो तरह की थी, सिर्फ एक ईश्वर और ईश्वर की अमूर्तता; पहला बताता है कि ईश्वर क्या है, बाद वाला बताता है कि ईश्वर क्या नहीं है; एक तलवार से झूठे देवताओं को उखाड़ फेंकता है और दूसरा शब्दों के साथ एक विचार शुरू करता है।”

"दार्शनिक, वक्ता, ईश्वर दूत, कानून निर्माता, योद्धा, विचारों के विजेता, तर्कसंगत सिद्धांतों के पुनर्स्थापक छवियों के बिना पंथ के; बीस स्थलीय साम्राज्यों और एक आध्यात्मिक साम्राज्य के संस्थापक, वह मुहम्मद हैं। जहां तक उन सभी मानकों का संबंध है जिनके द्वारा मानव महानता को मापा जा सकता है, हम भलीभांति पूछ सकते हैं कि क्या उनसे बड़ा कोई मनुष्य है?"

एडवर्ड गिब्बन और साइमन ओक्ले, सारासेन साम्राज्य का इतिहास, लंदन, 1870, पृ. 54:

"यह उनके धर्म का प्रचार नहीं है, जो हमारे आश्चर्य का पात्र है, जो शुद्ध और पूर्ण छाप जो उन्होंने मक्का और मदीना में उकेरी थी वह संरक्षित है, क़ुरआन के भारतीय, अफ्रीकी और तुर्की मतधारकों द्वारा बारह शताब्दियों की क्रांति के बाद भी। मुसलमान[1] ने समान रूप से मनुष्य की इंद्रियों और कल्पना के साथ अपने विश्वास और भक्ति की वस्तु को एक स्तर तक कम करने के प्रलोभन का सामना किया है। ‘मैं एक ईश्वर और महोमेट द एपोस्टल ऑफ गॉड में विश्वास करता हूं, इस्लाम की सरल और अपरिवर्तनीय प्रतिज्ञा है। किसी भी दृश्य मूर्ति द्वारा देवता की बौद्धिक छवि को कभी भी खराब नहीं किया गया है; पैगंबर के सम्मान ने कभी भी मानवीय गुणों के माप का उल्लंघन नहीं किया है, और उनके जीवित उपदेशों ने उनके शिष्यों की कृतज्ञता को तर्क और धर्म की सीमा के भीतर रोक दिया है।"

बोसवर्थ स्मिथ, मोहम्मद और मोहम्मदनिज़्म, लंदन 1874, पृष्ट 92:

"वह सीज़र और पोप दोनो थे; लेकिन वह पोप के ढोंग के बिना पोप और सीज़र की सेना के बिना सीज़र थे: स्थायी सेना के बिना, महल के बिना, निश्चित राजस्व के बिना; यदि कभी किसी को यह कहने का अधिकार था कि वह सही परमात्मा द्वारा शासित है, तो वह मोहम्मद थे, क्योंकि उनके पास बिना उपकरणों और समर्थन के बिना सारी शक्ति थी।”

एनी बेसेंट, दी लाइफ एंड टीचिंग ऑफ़ मुहम्मद, मद्रास 1932, पृष्ट 4:

"जो कोई भी अरब के महान पैगंबर के जीवन और चरित्र का अध्ययन करता है, उसके लिए ईश्वर के महान दूतों में से एक, उस शक्तिशाली पैगंबर के प्रति श्रद्धा के अलावा कुछ भी महसूस करना असंभव है। और यद्यपि जो कुछ मैं तुमसे कहता हूं, उसमें मैं बहुत सी ऐसी बातें कहूंगा जो बहुतों से परिचित हो सकती हैं, फिर भी जब भी मैं उन्हें दोबारा पढ़ता हूं, तो मैं खुद को महसूस करता हूं, प्रशंसा का एक नया तरीका, उस शक्तिशाली अरब शिक्षक के लिए सम्मान की एक नई भावना।

डब्ल्यू. मोंटगोमरी, मुहम्मद अट् मक्का, ऑक्सफोर्ड 1953, पृष्ट 52:

"अपने विश्वासों के लिए उत्पीड़न से गुजरने की उनकी तत्परता, उन लोगों का उच्च नैतिक चरित्र जो उन पर विश्वास करते थे और उन्हें नेता के रूप में देखते थे, और उनकी अंतिम उपलब्धि की महानता - सभी उनकी मौलिक अखंडता का तर्क देते हैं।  मुहम्मद को धोखेबाज मानना, समस्याएं हल करने से ज्यादा बढ़ाता है। इसके अलावा, पश्चिम में इतिहास के किसी भी महान व्यक्ति की इतनी कम सराहना नहीं की जाती है जितनी मुहम्मद की, की जाती है

जेम्स ए. माइकनर, 'इस्लाम: द मिसअंडरस्टूड रिलिजन' इन रीडर्स डाइजेस्ट (अमेरिकी संस्करण), मई 1955, पृष्ट 68-70:

"इस्लाम की स्थापना करने वाले प्रेरित व्यक्ति मुहम्मद जो 570 ईस्वी के आसपास एक अरब जनजाति में पैदा हुए थे। जहां लोग मूर्तियों की पूजा करते थे।  जन्म के समय अनाथ, वह हमेशा गरीबों और जरूरतमंदों, विधवा और अनाथों, दासों और दलितों के लिए विशेष रूप से याचना करते थे। बीस साल की उम्र में ही वह एक सफल व्यवसायी थे, और जल्द ही एक अमीर विधवा के लिए ऊंट कारवां के निदेशक बन गए।  जब वे पच्चीस वर्ष के हुए, तो उनके नियोक्ता ने उनकी योग्यता को पहचानते हुए विवाह का प्रस्ताव रखा। भले ही वह उनसे पंद्रह वर्ष बड़ी थी, मुहम्मद ने उससे शादी की, और जब तक वह जीवित रही, वह एक समर्पित पति बने रहे।

"अपने से पहले के लगभग हर प्रमुख पैगंबर की तरह, मुहम्मद ने अपनी अपर्याप्तता को भांपते हुए, ईश्वर के वचन को कहने वाले के रूप में सेवा करने से कतरा रहे थे। लेकिन स्वर्गदूत ने 'पढ़ने' को कहा। जहाँ तक हम जानते हैं, मुहम्मद पढ़ने या लिखने में असमर्थ थे, लेकिन उन्होंने उन प्रेरित शब्दों को निर्देशित करना शुरू कर दिया जिसने जल्द ही पृथ्वी के एक बड़े हिस्से में क्रांति ला दी: "ईश्वर एक है।"

“हर बात में मुहम्मद बहुत व्यावहारिक थे। जब उनके प्यारे बेटे इब्राहिम की मृत्यु हुई, तो एक ग्रहण हुआ, और ईश्वर की व्यक्तिगत संवेदना की अफवाहें तेजी से उठीं। जिसके बारे में कहा जाता है कि मुहम्मद ने घोषणा की थी, 'ग्रहण प्रकृति की एक घटना है। ऐसी बातों का श्रेय मनुष्य की मृत्यु या जन्म को देना मूर्खता है।'

"मुहम्मद की मृत्यु पर उन्हें देवता मानने का प्रयास किया गया था, लेकिन जिस व्यक्ति को उनका प्रशासनिक उत्तराधिकारी बनना था, उन्होंने धार्मिक इतिहास के सबसे महान भाषणों में से एक भाषण दिया और उन्माद को खत्म कर दिया: 'यदि आप में से कोई है जो मुहम्मद की पूजा करता है, तो वह मर चुके हैं। लेकिन आपने ईश्वर की पूजा की है, तो वह हमेशा रहेगा।’”

माइकल एच. हार्ट, द 100: इतिहास में सबसे प्रभावशाली व्यक्तियों की रैंकिंग, न्यूयॉर्क: हार्ट पब्लिशिंग कंपनी, इंक. 1978, पृष्ट 33:

"दुनिया के सबसे प्रभावशाली व्यक्तियों की सूची का नेतृत्व करने के लिए मुहम्मद की मेरी पसंद कुछ पाठकों को आश्चर्यचकित कर सकती है और दूसरों द्वारा पूछताछ की जा सकती है, लेकिन वह इतिहास में एकमात्र व्यक्ति थे जो धार्मिक और धर्मनिरपेक्ष दोनों स्तरों पर सर्वोच्च सफल थे।"


फुटनोट:

[1] मुसलमान और मुहम्मदनवाद शब्द एक मिथ्या नाम है जिसे प्राच्यवादियों ने इस्लाम की समझ की कमी के कारण मसीह और ईसाई धर्म के अनुरूप पेश किया है।

 

 

उन्होंने मुहम्मद के बारे में क्या कहा (3 का भाग 3)

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:

विवरण: पैगंबर के बारे में इस्लाम का अध्ययन करने वाले गैर-मुस्लिम विद्वानों के बयान। भाग 3: अतिरिक्त कथन।

  • द्वारा Eng. Husain Pasha (edited by IslamReligion.com)
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 772 (दैनिक औसत: 3)
  • रेटिंग: अभी तक रेटिंग नहीं दी गई है
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0

एनसाइक्लोपीडिया ब्रिटानिका:

“....प्रारंभिक स्रोतों में विस्तृत विवरण से पता चलता है कि वह एक ईमानदार और सच्चे व्यक्ति थे, जिन्होंने अन्य लोगों का सम्मान और वफादारी प्राप्त की थी जो समान बुद्धिमान ईमानदार और सच्चे व्यक्ति थे।” (खंड 12)

जॉर्ज बर्नार्ड शॉ ने उनके बारे में कहा है:

"उन्हें मानवता का उद्धारकर्ता कहा जाना चाहिए। मेरा मानना है कि अगर उनके जैसा आदमी आधुनिक दुनिया की अधिनायकत्व ग्रहण कर लेता है, तो वह इस तरह की समस्याओं को हल करने में सफल होते, जिससे यह बहुत जरूरी शांति और खुशहाली लाते। ”

(थ जेनुइन इस्लाम, सिंगापुर, खंड 1, नंबर 8, 1936)

वह इस धरती पर अब तक के सबसे उल्लेखनीय व्यक्ति थे। उन्होंने एक धर्म का प्रचार किया, एक राज्य की स्थापना की, एक राष्ट्र का निर्माण किया, एक नैतिक संहिता निर्धारित की, कई सामाजिक और राजनीतिक सुधारों की शुरुआत की, अपनी शिक्षाओं का अभ्यास और प्रतिनिधित्व करने के लिए एक शक्तिशाली और गतिशील समाज की स्थापना की और आने वाले समय के लिए मानव विचार और व्यवहार की दुनिया में पूरी तरह से क्रांति ला दी।

पैगंबर मुहम्मद का जन्म अरब में 570 सीई में हुआ था, उन्होंने चालीस साल की उम्र में सत्य, इस्लाम (एक ईश्वर को अधीनता) के धर्म का प्रचार करने का अपना लक्ष्य शुरू किया और त्रेसठ (63) साल  की उम्र में इस दुनिया से चल बसे। अपनी पैगंबरी के तेईस (23) वर्षों की इस छोटी अवधि के दौरान उन्होंने पूरे अरब प्रायद्वीप को बुतपरस्ती और मूर्तिपूजा से एक ईश्वर की पूजा में बदल दिया, आदिवासी झगड़ों और युद्धों से राष्ट्रीय एकता और एकजुटता में, नशे और व्यभिचार से संयम और धर्मपरायणता तक और अराजकता से अनुशासित जीवन, पूर्ण दिवालियापन से नैतिक उत्कृष्टता के उच्चतम मानकों तक में सुधार लाए। मानव इतिहास ने पहले या बाद में किसी भी व्यक्ति या स्थान के ऐसे पूर्ण परिवर्तन को कभी नहीं जाना है - और कल्पना करें की केवल दो दशकों में इन सभी अविश्वसनीय चमत्कारों को अंजाम दिया।

दुनिया में महान व्यक्तित्वों का अपना हिस्सा रहा है। लेकिन यह एकतरफा शख्सियत थे जिन्होंने खुद को एक या दो क्षेत्रों में जैसे कि धार्मिक विचार या सैन्य नेतृत्व प्रतिष्ठित किया। दुनिया की इन महान हस्तियों के जीवन और शिक्षाएं समय की धुंध में डूबी हुई हैं। उनके जन्म के समय और स्थान, उनके जीवन की साधन और शैली, उनकी शिक्षाओं की प्रकृति, विवरण और उनकी सफलता या विफलता की डिग्री और माप के बारे में इतनी अटकलें हैं कि मानवता के लिए जीवन का सटीक पुनर्निर्माण करना असंभव है।

लेकिन इस व्यक्ति के लिए ऐसा नही है। मुहम्मद (ईश्वर की दया और कृपा उन पर बनी रहे) मानव इतिहास की पूरी चमक में मानव विचार और व्यवहार के ऐसे विविध क्षेत्रों में बहुत कुछ हासिल किया। उनके निजी जीवन और सार्वजनिक बयानों के हर विवरण को सटीक रूप से प्रलेखित किया गया है और ईमानदारी से आज तक संरक्षित किया गया है। इस प्रकार संरक्षित किए गए अभिलेख की प्रामाणिकता न केवल वफादार अनुयायियों द्वारा बल्कि उनके पूर्वाग्रही आलोचकों द्वारा भी प्रमाणित की जाती है।

मुहम्मद अकेले ही एक धार्मिक शिक्षक, एक समाज सुधारक, एक नैतिक मार्गदर्शक, एक प्रशासनिक महानायक, एक वफादार दोस्त, एक अद्भुत साथी, एक समर्पित पति, एक प्यार करने वाले पिता थे। इतिहास में किसी भी अन्य व्यक्ति ने जीवन के इन विभिन्न पहलुओं में से किसी में भी उनके श्रेष्ठता या बराबरी नहीं की - लेकिन यह सिर्फ मुहम्मद का निस्वार्थ व्यक्तित्व ही था जिससे उन्होंने ऐसी अविश्वसनीय सिद्धियों को प्राप्त किया।

महात्मा गांधी, मुहम्मद के चरित्र पर बोलते हुए "यंग इंडिया" में कहते हैं:

"मैं उस व्यक्ति के बारे में सबसे अच्छा जानना चाहता था जो लाखों मानवजाति के दिलों पर आज भी निर्विवाद प्रभाव रखता है... मैं इस बात से अधिक आश्वस्त हो गया कि यह वह तलवार नहीं थी जिसने लोगों की जीवन में उन दिनों इस्लाम के लिए जगह बनाई थी। यह कठोर सादगी, पैगंबर का पूर्ण त्याग, उनकी प्रतिज्ञाओं के प्रति निष्ठा, उनकी मित्रों और अनुयायियों के प्रति उनकी गहन भक्ति, उनकी निर्भयता, उनकी निडरता, ईश्वर और अपने स्वयं के लक्ष्य में उनका पूर्ण विश्वास था। ये तलवार नहीं थी जिससे वो आगे बढ़े और हर बाधा को पार किया। जब मैंने पैगंबर की जीवनी का दूसरा खंड खत्म किया, तो मुझे दुख हुआ कि मेरे पास उनके महान जीवन के बारे में पढ़ने के लिए और अधिक नहीं था।”

थॉमस कार्लाइल अपनी किताब (हीरोस एंड हीरो-वरशिप) में इस तरह चकित थे:

“कैसे एक आदमी अकेले के दम पर युद्धरत जनजातियों और भटकते हुए बेडौंस को दो दशकों से भी कम समय में एक सबसे शक्तिशाली और सभ्य राष्ट्र बना सकता है?”

दीवान चंद शर्मा ने लिखा:

"मुहम्मद दयालुता की आत्मा थे, और उनके प्रभाव को उनके आसपास के लोगों ने महसूस किया और कभी भी नहीं भुलाया।"

(डी.सी. शर्मा, द प्रोफेट ऑफ़ द ईस्ट, कलकत्ता, 1935, पृष्ट 12)

मुहम्मद एक इंसान थे। लेकिन वह एक महान लक्ष्य वाले व्यक्ति थे, जो एक और केवल एक ईश्वर की पूजा पर मानवता को एकजुट करने और उन्हें ईश्वर की आज्ञाओं के आधार पर ईमानदार और सच्चा जीवन जीने का तरीका सिखाते थे। उन्होंने हमेशा खुद को "एक नौकर और ईश्वर का दूत" बताया, और इसलिए उनका हर कार्य इसकी घोषणा थी।

इस्लाम में ईश्वर के समक्ष समानता के पहलू पर बोलते हुए, भारत की प्रसिद्ध कवयित्री सरोजिनी नायडू कहती हैं:

"यह पहला धर्म है जिसने लोकतंत्र का प्रचार और अभ्यास किया; क्योंकि मस्जिद में जब प्रार्थना का आह्वान किया जाता है और उपासक एक साथ इकट्ठे होते हैं, तब इस्लाम का लोकतंत्र दिन में पांच बार सन्निहित होता है, जब किसान और राजा कंधे से कंधा मिलाकर घुटने टेकते हैं और कहते हैं: 'सिर्फ ईश्वर महान हैं'... मैं इस्लाम की इस अविभाज्य एकता से बार-बार प्रभावित हुई हूं जो मनुष्य को सहज रूप से भाई बनाती है।"

(एस. नायडू, आइडियल ऑफ़ इस्लाम, वाइड स्पीचेस एंड राइटिंग, मद्रास, 1918, पृष्ट 169)

प्रो. हरग्रोन्जे के शब्दों में:

"इस्लाम के पैगंबर द्वारा स्थापित राष्ट्रों की संघ ने अंतरराष्ट्रीय एकता और मानव भाईचारे के सिद्धांत को ऐसी सार्वभौमिक नींव पर रखा है जो अन्य राष्ट्रों को सच्चाई दिखाने के लिए है।" वह जारी रखता है: "तथ्य यह है कि दुनिया का कोई भी राष्ट्र इस संघ के विचार को साकार करने के लिए इस्लाम ने जो किया है, उसके समानांतर नहीं दिखा सकता है।"

दुनिया ने देवत्व को ऊपर उठाने में संकोच नहीं किया, ऐसे व्यक्ति जिनके जीवन और लक्ष्य पौराणिक कथाओं में खो गए हैं। ऐतिहासिक रूप से कहें तो, इनमें से किसी भी किवदंती ने मुहम्मद द्वारा की गई उपलब्धि का एक अंश भी हासिल नहीं किया और उनका सारा प्रयास नैतिक उत्कृष्टता के कोड पर एक ईश्वर की पूजा के लिए मानवजाति को एकजुट करने के एकमात्र उद्देश्य के लिए था। मुहम्मद या उनके अनुयायियों ने कभी भी यह दावा नहीं किया कि वह ईश्वर का पुत्र या ईश्वर-अवतार या देवत्व वाले व्यक्ति थे - लेकिन वह हमेशा से थे और आज भी उन्हें केवल ईश्वर द्वारा चुना गया दूत माना जाता है।

भारतीय दर्शनशास्त्र के एक प्रोफेसर के. एस. रामकृष्ण राव ने अपनी पुस्तिका ("मुहम्मद, द प्रोफेट ऑफ़ इस्लाम") में उन्हें "मानव जीवन के लिए आदर्श मॉडल  बताया है।

प्रो. रामकृष्ण राव अपनी बात को यह कहकर स्पष्ट करते हैं:

“मुहम्मद के व्यक्तित्व के बारे में पूरी सच्चाई में उतरना सबसे कठिन है। इसकी एक झलक ही मैं पकड़ सकता हूं। सुरम्य दृश्यों का क्या ही नाटकीय क्रम है! यहां मुहम्मद एक पैगंबर हैं, यहां मुहम्मद एक योद्धा हैं; व्यवसायी मुहम्मद, राजनेता मुहम्मद, वक्ता मुहम्मद, सुधारक मुहम्मद, अनाथों के लिए शरण मुहम्मद; गुलामों के रक्षक मुहम्मद; महिलाओं के मुक्तिदाता मुहम्मद; न्यायाधीश मुहम्मद, संत मुहम्मद। इन सभी शानदार भूमिकाओं में, मानवीय गतिविधियों के इन सभी विभागों में, वह एक नायक के समान हैं।”

आज चौदह शताब्दियों के अंतराल के बाद मुहम्मद का जीवन और शिक्षाएँ बिना किसी नुकसान, परिवर्तन या प्रक्षेप के जीवित हैं। मानवजाति की अनेक बीमारियों के उपचार के लिए वही अनन्त आशा प्रदान करते हैं, जो उन्होंने उसके जीवित रहते हुए की थी। यह मुहम्मद के अनुयायियों का दावा नहीं है बल्कि एक महत्वपूर्ण और निष्पक्ष इतिहास द्वारा मजबूर अपरिहार्य निष्कर्ष भी है।

एक जागरूक इंसान के रूप में आप कम से कम एक पल के लिए रुक सकते हैं और अपने आप से पूछ सकते हैं: क्या यह कथन जो इतने असाधारण और क्रांतिकारी लग रहे हैं, वास्तव में सच हो सकते हैं? और मान लीजिए कि वे वास्तव में सच हैं और आप इस आदमी मुहम्मद को नहीं जानते थे या उनके बारे में नहीं सुनते थे, तो क्या यह समय नहीं है कि आप इस जबरदस्त चुनौती का जवाब दें और उन्हें जानने के लिए कुछ प्रयास करें?

इसमें आपको कुछ भी खर्च नहीं करना पड़ेगा लेकिन यह आपके जीवन में एक बिल्कुल नए युग की शुरुआत साबित हो सकती है।

इस लेख के भाग

सभी भागो को एक साथ देखें

टिप्पणी करें

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

लेख की सूची बनाएं

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास

आपकी इतिहास सूची खाली है।

View Desktop Version