L'articolo / video che hai richiesto non esiste ancora.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

요청한 문서 / 비디오는 아직 존재하지 않습니다.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

המאמר / הסרטון שביקשת אינו קיים עדיין.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

L'articolo / video che hai richiesto non esiste ancora.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

요청한 문서 / 비디오는 아직 존재하지 않습니다.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

המאמר / הסרטון שביקשת אינו קיים עדיין.

The article/video you have requested doesn't exist yet.

विल्फ्रेड हॉफमैन, जर्मन सोशल साइंटिस्ट और राजनयिक (2 का भाग 1)

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:

विवरण: एक जर्मन राजनयिक और अल्जीरिया में राजदूत द्वारा इस्लाम अपनाने की कहानी। भाग 1

  • द्वारा Wilfried Hofmann
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 210 (दैनिक औसत: 3)
  • रेटिंग: अभी तक रेटिंग नहीं दी गई है
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0

पीएचडी (कानून) हार्वर्ड। जर्मन सामाजिक वैज्ञानिक और राजनयिक। 1980 में इस्लाम अपनाया।

1980 में इस्लाम स्वीकार करने वाले डॉ. हॉफमैन का जन्म 1931 में जर्मनी में कैथोलिक के रूप में हुआ था। उन्होंने न्यूयॉर्क के यूनियन कॉलेज से स्नातक की उपाधि प्राप्त की और म्यूनिख विश्वविद्यालय में अपनी कानूनी पढ़ाई पूरी की, जहाँ उन्होंने 1957 में न्यायशास्त्र में डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की।

वह संघीय नागरिक प्रक्रिया में सुधार के लिए एक शोध सहायक बन गए, और 1960 में हार्वर्ड लॉ स्कूल से एलएलएम डिग्री प्राप्त किया। वह 1983 से 1987 तक ब्रसेल्स में नाटो के लिए सूचना निदेशक थे। उन्हें 1987 में अल्जीरिया में जर्मन राजदूत और फिर 1990 में मोरक्को में तैनात किया गया था जहाँ उन्होंने चार साल तक नौकरी की। उन्होंने 1982 में उमराह (कम तीर्थयात्रा) और 1992 में हज (तीर्थयात्रा) की।

कई प्रमुख अनुभवों ने डॉ. हॉफमैन को इस्लाम की ओर अग्रसर किया। इनमें से पहला 1961 में शुरू हुआ जब उन्हें जर्मन दूतावास में विशेष दायित्‍व अधिकारी के रूप में अल्जीरिया में तैनात किया गया था और फ्रांसीसी सैनिकों और अल्जीरियाई नेशनल फ्रंट जो पिछले आठ वर्षों से अल्जीरियाई स्वतंत्रता के लिए लड़ रहे थे, उन्होंने खुद को उनके युद्ध के बीच पाया। वहां उन्होंने क्रूरता और नरसंहार देखा जो अल्जीरियाई आबादी ने सहन किया। हर दिन, लगभग एक दर्जन लोग मारे जाते - "निकट सीमा, काम करने की शैली" - केवल अरब का होने या स्वतंत्रता के लिए बोलने के लिए। "मैंने अल्जीरियाई लोगों के धैर्य और लचीलेपन को अत्यधिक पीड़ा, रमज़ान के दौरान उनके अत्यधिक अनुशासन, जीत के उनके आत्मविश्वास, साथ ही दुख के बीच उनकी मानवता में देखा।" उन्होंने महसूस किया कि यह उन लोगों का धर्म है जिसने उन्हें ऐसा बनाया है, और इसलिए, उन्होंने उनकी धार्मिक पुस्तक - क़ुरआन का अध्ययन करना शुरू कर दिया। "मैं आज तक इसे पढ़ रहा हूं।"

डॉ. हॉफमैन की इस्लाम की यात्रा में इस्लामी कला उनका दूसरा अनुभव था। उन्हें अपने प्रारंभिक जीवन से ही कला और सौंदर्य और बैले नृत्य का शौक रहा है। जब उन्हें इस्लामी कला का ज्ञान हुआ, तो वो सब इसके सामने फीके पड़ गए, इससे वह आकर्षित हुए। इस्लामी कला का जिक्र करते हुए वे कहते हैं: "ऐसा लगता है कि इसका रहस्य इस्लाम की सभी कलात्मक अभिव्यक्तियों, सुलेख, अरबी गहने, कालीन के डिजाईन, मस्जिद और आवास वास्तुकला, साथ ही शहरी नियोजन में इस्लाम की अंतरंग और सार्वभौमिक उपस्थिति में निहित है। मैं उन मस्जिदों की चमक के बारे में उनके स्थापत्य लेआउट की लोकतांत्रिक भावना के बारे मे सोच रहा हूं जो किसी भी रहस्यवाद को निर्वासित करती हैं।”

“मैं मुस्लिम महलों की अंतर्दर्शनात्‍मक गुणवत्ता के बारे में भी सोच रहा हूं, छाया, फव्वारे और नाले से भरे बगीचों में स्वर्ग की उनकी प्रत्याशा; पुराने इस्लामी शहरी केंद्रों (मदीना) की जटिल सामाजिक रूप से कार्यात्मक संरचना की, जो समुदाय की भावना और बाजार की पारदर्शिता को बढ़ावा देता है, गर्मी और हवा को संचालित करता है, और गरीबों के लिए मस्जिद और आसपास के कल्याण केंद्र, स्कूलों और छात्रावासों को बाजार और रहने वाले स्थानों में एकीकृत करता है। मैंने जो अनुभव किया वह बहुत सारे स्थानों पर इतना आनंदमय इस्लामी है ... वह मूर्त प्रभाव है जो इस्लामी सद्भाव, जीवन जीने का इस्लामी तरीके को दिल और दिमाग दोनों पर छोड़ता है।”

शायद इन सब से अधिक, जिसने सच्चाई की उनकी खोज पर एक महत्वपूर्ण प्रभाव डाला, वह था उनका ईसाई इतिहास और सिद्धांतों का संपूर्ण ज्ञान। उन्होंने महसूस किया कि एक विश्वासयोग्य ईसाई जो विश्वास करता है और जो विश्वविद्यालय में इतिहास का एक प्रोफेसर पढ़ाता है, उसके बीच एक महत्वपूर्ण अंतर है। वह विशेष रूप से चर्च द्वारा ऐतिहासिक यीशु के लिए सेंट पॉल द्वारा स्थापित सिद्धांतों को अपनाने से परेशान थे। "वह, जो यीशु से कभी नहीं मिला, उसने अपने चरम क्राइस्टोलॉजी के साथ यीशु के मूल और सही यहूदी-ईसाई दृष्टिकोण को बदल दिया!"

उन्होंने यह स्वीकार नहीं किया कि मानवजाति "मूल पाप" के बोझ तले दबी है और यह कि ईश्वर को अपने स्वयं के पुत्र को क्रूस पर प्रताड़ित और उसकी हत्या करवानी पड़ी ताकि वह अपनी कृतियों को बचा सके। "मैंने महसूस करना शुरू कर दिया कि यह कल्पना करना कितना भद्दा, यहां तक कि ईशनिंदा है कि ईश्वर अपनी रचना में योग्य नही थे; कि वह कथित रूप से आदम और हव्वा द्वारा उत्पन्न हुई आपदा के बारे में कुछ भी करने में असमर्थ थे, और एक पुत्र को सिर्फ इसलिए जन्म दिया कि खूनी तरीके से उसका बलिदान कर सके; और ईश्वर मानवजाति और अपनी सृष्टि के लिए खुद दुख उठाए।”

वह ईश्वर के अस्तित्व के मूल प्रश्न पर वापस चले गए। विट्गेन्स्टाइन, पास्कल, स्विनबर्न और कांट जैसे दार्शनिकों के कार्यों का विश्लेषण करने के बाद, उन्हें ईश्वर के अस्तित्व का बौद्धिक विश्वास आया। उनके सामने अगला तार्किक प्रश्न यह था कि ईश्वर मनुष्यों से कैसे संचार करता है ताकि उनका मार्गदर्शन किया जा सके। इसने उन्हें रहस्योद्घाटन की आवश्यकता को स्वीकार करने के लिए प्रेरित किया। लेकिन सच्चाई क्या है - यहूदी-ईसाई धर्मग्रंथ या इस्लाम?

उन्होंने इस प्रश्न का उत्तर अपने तीसरे महत्वपूर्ण अनुभव में पाया जब उन्हें क़ुरआन का निम्नलिखित छंद मिला: इस छंद ने उनकी आँखें खोल दीं और उनकी दुविधा का उत्तर दिया। इस छंद ने उनके लिए स्पष्ट रूप से "मूल पाप" के बोझ और संतों द्वारा "मध्यस्थता" के विचारों को खारिज कर दिया। "मुसलमान ऐसी दुनिया में रहता है जहां पादरी नहीं हैं और धार्मिक पदानुक्रम नहीं है"; जब वह प्रार्थना करता है तो वह यीशु, मरियम या अन्य मध्यस्थ संतों के द्वारा नहीं, बल्कि सीधे ईश्वर से प्रार्थना करता है – पूरी तरह से मुक्त आस्तिक के रूप में – और यह रहस्यों से मुक्त धर्म है।" हॉफमैन के अनुसार, "मुस्लिम सर्वोत्कृष्ट मुक्त आस्तिक होता है।"

 

 

विल्फ्रेड हॉफमैन, जर्मन सोशल साइंटिस्ट और डिप्लोमैट (2 का भाग 2)

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:

विवरण: एक जर्मन राजनयिक और अल्जीरिया में राजदूत द्वारा इस्लाम अपनाने की कहानी। भाग 2

  • द्वारा Wilfried Hofmann
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 214 (दैनिक औसत: 3)
  • रेटिंग: अभी तक रेटिंग नहीं दी गई है
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0

 "मैंने इस्लाम को इसकी आँखों से देखना शुरू कर दिया, एक और सिर्फ एक सच्चे ईश्वर में विश्वास, जिसका न तो कोई पुत्र है और न पिता, और कुछ और कोई भी उसके जैसा नहीं है … एक जनजातीय देवता के योग्य ईश्वर और एक दिव्य त्रिमूर्ति के स्थान पर, क़ुरआन ने मुझे सबसे स्पष्ट, सबसे सीधा, सबसे सारगर्भित - इस प्रकार ऐतिहासिक रूप से सबसे उन्नत - और मानवरूपी ईश्वर की कम से कम अवधारणा दिखाई।”

““क़ुरआन के औपचारिक बयानों के साथ-साथ इसकी नैतिक शिक्षाओं ने मुझे गहराई से बहुत प्रभावित किया, इसलिए मुहम्मद के पैगंबरी मिशन की प्रामाणिकता के बारे में थोड़ी से संदेह के लिए भी कोई जगह नहीं थी। जो लोग मानव स्वभाव को समझते हैं, वे क़ुरआन के रूप में ईश्वर द्वारा मनुष्य को सौंपे गए "क्या करना है और क्या नहीं" के अनंत ज्ञान की प्रसंसा करते हैं।

1980 में अपने बेटे के आगामी 18वें जन्मदिन के लिए, उन्होंने 12-पृष्ठ की एक हस्तलिपि तैयार की, जिसमें वे चीजें थीं, जिन्हें वह दार्शनिक दृष्टिकोण से निर्विवाद रूप से सत्य मानते थे। उन्होंने मुहम्मद अहमद रसूल नामक कोलोन के एक मुस्लिम इमाम से इसकी जाँच करने को कहा। इसे पढ़ने के बाद, रसूल ने टिप्पणी की कि अगर डॉ. हॉफमैन ने जो लिखा है वह उस पर विश्वास करते हैं, तो वह एक मुसलमान हैं! वास्तव में कुछ दिनों बाद ऐसा ही हुआ जब उन्होंने घोषणा की "मैं गवाही देता हूं कि ईश्वर के अलावा कोई देवत्व नहीं है, और मैं गवाही देता हूं कि मुहम्मद ईश्वर के दूत हैं।" यह 25 सितंबर 1980 की बात है।

डॉ. हॉफमैन ने मुस्लिम बनने के बाद पंद्रह वर्षों तक जर्मन राजनयिक और नाटो अधिकारी के रूप में अपना पेशेवर करियर जारी रखा। "मैंने अपने पेशेवर जीवन में किसी भी भेदभाव का अनुभव नहीं किया", उन्होंने कहा। 1984 में, उनके धर्मांतरण के साढ़े तीन साल बाद, तत्कालीन जर्मन राष्ट्रपति डॉ. कार्ल कार्स्टेंस ने उन्हें जर्मनी के संघीय गणराज्य के ऑर्डर ऑफ मेरिट से सम्मानित किया। जर्मन सरकार ने एक विश्लेषणात्मक उपकरण के रूप में मुस्लिम देशों में सभी जर्मन विदेशी मिशनों को उनकी पुस्तक "डायरी ऑफ ए जर्मन मुस्लिम" वितरित की। पेशेवर कर्तव्यों ने उन्हें अपने धर्म का पालन करने से नहीं रोका।

एक समय वह रेड वाइन के बारे में बहुत कलात्मक थे, लेकिन वह अब शराब के प्रस्तावों को विनम्रता से मना करते हैं। विदेश सेवा अधिकारी के रूप में, उन्हें कभी-कभी विदेशी मेहमानों के लिए दोपहर के भोजन की व्यवस्था करनी पड़ती थी। वह रमजान के दौरान अपने सामने एक खाली थाली रख के उस लंच में भाग लेते थे। 1995 में, उन्होंने स्वेच्छा से विदेश सेवा से इस्तीफा दे दिया और खुद को इस्लामी कामो के लिए समर्पित कर दिया।

व्यक्तिगत और सामाजिक जीवन में शराब के कारण होने वाली बुराइयों पर चर्चा करते हुए, डॉ. हॉफमैन ने शराब के कारण अपने स्वयं के जीवन में हुई एक घटना का उल्लेख किया। 1951 में न्यूयॉर्क में अपने कॉलेज के वर्षों के दौरान, वह एक बार अटलांटा से मिसिसिपी की यात्रा कर रहे थे। जब वह होली स्प्रिंग, मिसिसिपी में थे, तो अचानक एक वाहन उनकी कार के सामने आ गया, जिसे जाहिर तौर पर एक शराबी चला रहा था। फिर एक गंभीर दुर्घटना हुई, जिसमें उनके उन्नीस दांत निकल गए और उसका मुंह विकृत हो गया।

उनकी ठुड्डी और निचले कूल्हे की सर्जरी के बाद, अस्पताल के सर्जन ने उन्हें यह कहते हुए सांत्वना दी: “सामान्य परिस्थितियों में, इस तरह की दुर्घटना में कोई नहीं बचता। ईश्वर के मन में आपके लिए कुछ खास है, मेरे दोस्त!" अस्पताल से छुट्टी के बाद जब वो होली स्प्रिंग में लंगड़ा के चल रहे थे "स्लिंग में हाथ डालकर, घुटने पर पट्टी लगा के, एक आयोडीन-रंगहीन, सिले हुआ निचले चेहरे के साथ", उन्होंने सोचा कि सर्जन की टिप्पणी का क्या अर्थ हो सकता है।

एक दिन उन्हें इसका पता चला, लेकिन बहुत बाद में। "आखिरकार, तीस साल बाद, जिस दिन मैंने इस्लाम में अपने विश्वास का दावा किया, मेरे जीवित रहने का सही अर्थ मेरे लिए स्पष्ट हो गया!”

उनके धर्म परिवर्तन पर एक बयान:

"पिछले कुछ समय से, अधिक से अधिक सटीकता और संक्षिप्तता के लिए प्रयास करते हुए, मैंने व्यवस्थित तरीके से कागज पर सभी दार्शनिक सत्यों को उतारने की कोशिश की है, मेरे विचार में जिसका पता एक उचित संदेह से हट के लगाया जा सकता है। इस प्रयास के दौरान, मुझे यह पता चला कि एक अज्ञेय का विशिष्ट रवैया बुद्धिमान नहीं है; की आदमी विश्वास करने के निर्णय से आसानी से नहीं बच सकता; कि हमारे आस-पास जो मौजूद है उसकी रचना स्पष्ट है; कि इस्लाम निस्संदेह अपने आप को समग्र वास्तविकता के साथ सबसे अधिक सामंजस्य में पाता है। इस प्रकार मुझे एहसास हुआ कि कदम दर कदम, और लगभग अनजाने में, भावना और सोच में मैं एक मुसलमान बन गया हूं। केवल एक अंतिम कदम उठाना बाकी है: मेरे धर्म-परिवर्तन को एक औपचारिक रूप देना।

अब मैं एक मुसलमान हूं।

इस लेख के भाग

सभी भागो को एक साथ देखें

टिप्पणी करें

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

लेख की सूची बनाएं

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास

आपकी इतिहास सूची खाली है।

View Desktop Version